Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

बोतराई मे मिट्टी खोदने गए तीन बच्चों की मौत.. पथरिया अस्पताल में डॉक्टर नहीं मिलने पर जमकर हंगामा..

पथरिया अस्पताल में डॉक्टर नहीं मिलने पर हंगामा-
दमोह। पथरिया के बोतराई गांव में मिट्टी खदान धंसने से तीन की मौत हो जाने के बाद पथरिया अस्पताल में समय पर डॉक्टर तथा इलाज का नहीं मिलने पर लोगों  का गुस्सा फूट पड़ा। गुस्साई भीड़ ने नारेबाजी के साथ  जमकर हंगामा मचाया। जिससे देर तक अफरा-तफरी के हालात बने रहे दूसरे मरीजों को भी परेशानी उठाना पड़ी।
जानकारी के अनुसार बुधवार सुबह बोतराई गांव के हरिजन मोहल्ले के 5 बच्चे घरेलू कार्य हेतु मिट्टी खोदने के लिए एक खेत पर बनी खदान में गए थे। जहां अचानक मिट्टी धंसने से 3 बच्चे नीचे दब गए। बाद में बाहर मौजूद दो बच्चों ने घटना की सूचना ग्रामीणों को दी और मिट्टी में धंसे तीन बच्चों को बाहर निकाला गया। लेकिन तब तक उनकी सांसे थम चुकी थी।
इस दर्दनाक हादसे के शिकार 10 वर्षीय नर्मदा पिता खुमान अहिरवार, 12 वर्षीय आकाश पिता सालिग राम अहिरवार, 15 वर्षीय राजकुमार पिता नंदू अहिरवार सभी निवासी ग्राम बोतराई को पथरिया के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाए जाने पर मृत घोषित कर दिया गया। परंतु बच्चों की जांच उपचार हेतु डॉक्टर केे नहीं मिलनेे पर मृतकों के पीड़ित परिजनोंं का आक्रोश भड़क उठा।
दरअसल परिजनों को लग रहा था यदि डॉक्टर होते और समय पर ऑक्सीजन आदि का उपयोग किया जाता तो शायद बच्चों की सांसे वापस लौट सकती थी।  लेकिन पथरिया के अस्पताल में इस तरह के इंतजामों की कमी रहने तथा डॉ मिंज के ड्यूटी से नदारद रहने पर लोगों का गुस्सा भड़कते देर नहीं लगी। तथा घंटों हंगामे का दौर चलता रहा।

घटना की जानकारी लगने पर टीआई राजेश मिश्रा एवं पुलिस स्टाफ के घटनास्थल और बाद में अस्पताल पहुंचने की खबर सामने आई है। परंतु दोनों ही स्थानों पर पुलिस की मौजूदगी होना ना होना एक बराबर बताई जा रही है। इधर उक्त हालात ने स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर स्थानीय विधायक और सत्तारूढ़ दल के खिलाफ भी आक्रोष का माहौल देखने को मिला है।
 प्रबल सोनी के साथ अभिजीत जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments