Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

बिन ब्याही मां ने नवजात को लावारिस हालत में छोड़ा.. नवरात्र पर मां की ममता को कलंकित करने का घटनाक्रम सामने आया..महिला थाना प्रभारी ने अस्पताल पहुंचा कर बचाई जान

 नवरात्र पर्व के दौरान लोग जहा माता रानी की आराधना में जुटे हुए हैं वही मां बनने के बाद मा की ममता को शर्मसार कर देने जैसा घटनाक्रम सामने आया है जिसमें एक नवजात शिशु को भगवान भरोसे छोड़कर बिन ब्याही मां गायब हो गई वही समय रहते एक महिला द्वारा पुलिस को सूचना दिए जाने और महिला थाना प्रभारी द्वारा तत्परता दिखाते हुए नवजात लावारिस को अस्पताल पहुंचाया जाने से उसकी जान बच गई..

दमोह। रनेह थाना क्षेत्र के जरोंदा गांव के खेत मे मिट्टी के ढेर में मिला नवजात,सूचना पर रनेह थाना पुलिस मौके पर,नवजात को जीवित अवस्था मे सिविल अस्पताल हटा लाया गया है। चैत्र नवदुर्गा पर्व पर मां की ममता को कलंकित करने वाला घटनाक्रम सामने आया है, आज सुबह रनेह थाना के जरोंदा गांव में एक खेत में नवजात के जीवित अवस्था मे मिट्टी के ढेर में दबे होने की सूचना पर थाना प्रभारी प्रसीता पटेल स्टाप के साथ मौके पर पँहुची और डायल 100 वाहन से नवजात को तत्काल ही सिविल अस्पताल हटा लेकर पँहुची जंहा नवजात का स्वस्थ्य परीक्षण जारी है।
बताया जा रहा है कि गांव की एक महिला नन्नी बाई सुबह खेत की तरफ जा रही थी तो मिट्टी के ढेर से नवजात के रोने की आवाज आई तो महिला ने इसकी सूचना ग्रामकोटवार के माध्यम से पुलिस को दी और थाना प्रभारी बिना कोई देर किए मौके पर पँहुची और गोद मे बच्चे को उठाकर सिविल अस्पताल हटा लाई,इस बीच प्रभारी प्रसीता पटेल ने कई डॉक्टरों से सम्पर्क कर नवजात बच्चे के जल्द इलाज की अपील भी की जिस पर कई डॉक्टर्स ड्यूटी के न होने पर भी अस्पताल पँहुच गए जंहा बच्चे की जांच परीक्षण जारी है।
 डॉक्टरों का कहना है कि मेल नवाजात जो करीब 4 से 5 घण्टे पूर्व ही जन्मा है, इलाज उपरांत और बेहतर इलाज के लिय जिला अस्पताल दमोह रेफर किया जा रहा है।आशंका जताई जा रही है कि समाज के डर और बदनामी के डर से कोई बिन व्यहि मां इस नवाजत को खेत मे फेंक कर गई होगी। रनेह थानां पुलिस का कहना है कि नवजात के विषय मे फिलहाल कोई जानकारी नही है,पुलिस जांच में जुटी हुई है।

Post a Comment

0 Comments