Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

जयकारों के साथ मुनि श्री सुधा सागर जी महाराज का कुण्डलपुर में मगंल प्रवेश..वर्षो बाद आचार्य श्री विद्यासागर जी के दर्शन पाकर हुए भावुक..बड़े बाबा के दरवार, छोटे बाबा के समोशरण में पंहुचे

 सिद्ध क्षेत्र कुण्डलपुर में संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज जी के श्रेष्ठ निर्यापक मुनि पुंगव श्री सुधा सागर जी महाराज का बड़े बाबा के दरबार में छोटे बाबा से आशीष पाकर मन विभोर हुआ और वसंत ऋतु के महत्व को चरितार्थ कर दिया। जैसे ही 5 वर्ष बाद गुरु से मिलन हुआ तो मन ही मन सोचते होगें कि भले ही गुरु से  दूर रहा पर मन तो गुरु चरणों के समीप ही रहा है और सदैव रहेगा, शायद यह विचार का क्रम चल रहा होगा उन वीतरागी निर्यापक श्रमण के मन मे जो चांदखेड़ी से अस्वस्थता के बाद भी निरन्तर चले आये और आज वही अवसर के साक्षी बने हजारों भक्त..

mata ji

 धन्य है अध्यातम वेत्ता आगम निष्ठ, गुरुदेव के श्रेष्ठ निर्यापक मुनि पुंगव श्री सुधा सागर जी महाराज संसघ, मुनि श्री निर्णय सागर जी का संघ सहित अपने गुरु के आशीष की छांव प्राप्त हुई ओर गुरुदेव अपने शिष्यों को पाकर प्रफुल्लित हैंl पाद प्रक्षालन का अवसर मिलने पर सुशील मोदी और अशोक पटनी आनंदित हुऐ। भक्तो को संबोधित करते हुए आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज ने कहा कि अब भक्त को भगवान के बसीभूत होने का समय आ गया है, अपने ह्रदय में बसे बड़े बाबा के कार्य में जुट जाएं, कम समय में भी बड़े दरबार में बड़े काम हो जाते है।लाखों लोग इस दरबार में अगले सप्ताह में  जुटने वाले है। बड़े बाबा के दरबार में पहुचकर महामहोत्सव की मंगल कामना के लिए बड़े बाबा से प्रार्थना की और कहा कि अप्रैल में अप्रैल फूल भी होता है, अत जुट जाएं।

svagt

इस अद्भुत क्षण के साक्षी बनने हजारों श्रद्धालु पटेरा पहुंचकर पद विहार में शामिल हुए,मुनि महाराजों ने ओर आर्यिका माताजी ने  निर्यापक श्रेष्ठ मुनि पुंगव श्री सुधा सागर जी की मंगल आगवानी करने मुख्य द्वार पर पंहुचे। पद विहार में मंगल गीत गाती महिलायें, पद विहार के चल रहे दिव्य घोष भक्तीगीत की घुन बजा रहे थे,उसके पीछे केसरिया वस्त्र धारण किए महिलाएं धर्म ध्वजा लिए पक्ति बद्ध तरीके से चल रही थी और सुधा सागर जी के जयकारे लगाते भक्त और जय जय गुरूदेव के नारे लगाते हुए पटेरा से कुण्डलपुर 4 किलोमीटर की दूरी को समय में नहीं बांध पाए और कब बड़े बाबा का दरबार आ गया पता ही नही चला।

agvani

मुनी पुंगव श्री सुधा सागर जी महाराज की अगवानी में श्रद्धालुओं का जन सैलाव उमड़ पड़ा, दर्शन करने बड़ी संख्या में महिला, पुरुष और बच्चें एकत्रित हुए, भव्य द्वार बनाए गए , रंगोली बनाई गई और जयघोष के नारों से पूरा क्षेत्र गुंजायमान हो गया। देश के विभिन्न क्षेत्रों से भक्तों का आगमन हुआ, बांसबाड़ा, कोटा, चांदखेड़ी, कानपुर, महरोनी, रायपुर, इंदौर, सूरत, ललितपुर, जबलपुर, कटनी, गुना, सागर, बंडा, सतना, मोदीग्राम सहित दमोह जिले के हजारों भक्त  अगवानी करने पहुंचे और ऐसा लगा और यह सब कुण्डलपुर सिद्धक्षेत्र में विराजमान आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के समोशरण का प्रताप ही है जिसके कारण हजारों लोगों की उपस्थिति में सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं।

  

Post a Comment

0 Comments