Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

मुनिश्री सुधा सागर जी की सुबह अगवानी दोपहर में कुंडलपुर के लिए विहार.. कांग्रेस विधायक ने पूछा गौ हत्या रोकने का उपाय..मुनि पुंगव का रात्रि विश्राम आमखेड़ा ग्राम में

 प्रसिद्ध जैन तीर्थ कुंडलपुर में बड़े बाबा मंदिर निर्माण का कार्य अंतिम चरण में है वही यहां पर होने वाले आगामी महा महोत्सव को लेकर जैन धर्म के सबसे बड़े संत आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज विराजमान है। देश भर से आचार्य श्री के शिष्य करीब ढाई सौ साधु यहां पर पहले ही पहुंच चुके हैं वहीं देश के कोने कोने से मुनि गणों का कुंडलपुर आगमन जारी है। 

अगवानी

इसी कड़ी में राजस्थान से साढ़े पांच सौ किमी  का पद विहार करते हुए मुनि पुंगव के नाम से देश भर में विख्यात मुनि श्री सुधासागर जी महाराज अपने संघ के साथ कुंडलपुर की ओर बढ़ रहे हैं। शनिवार सुबह सागर नाके से तीन गुल्ली, स्टेशन चौराहा, राय चौराहा, घण्टाघर, पलन्दी मन्दिर मार्ग से होते हुए मुनि संघ उमा मिस्त्री की तलैया पहुचा। इस दौरान दिव्य घोष के साथ बालिका मंडल महिला मंडल के अलावा जनसमूह ने रास्ते मे जगह जगह मुनि श्री की भव्य अगवानी की।

अभय

उमा मिस्त्री की तलैया में मुनि श्री के मंगल प्रवचन के पूर्व पाद प्रच्छलन का सौभाग्य रूप चंद जैन संगम, विजय आयरन मीनू जैन परिवार को प्राप्त हुआ। वही मुनि श्री को शास्त्र भेंट करने का सौभाग्य अभय जैन बनगांव परिवार ने प्राप्त किया। मंगल प्रवचन में मुनि श्री ने प्रवेश द्वार की वजह द्वारपाल बनने की प्रेरणा देते हुए सभी को आत्म कल्याण का मार्ग बताया। प्रवचन उपरांत मुनि संघ जैन धर्मशाला पहुंचा। यहां से आहार चर्या के लिए मुनि संघ निकला।

आहार

 मुनि पुंगल सुधा सागर महाराज को पडगाहन करके आहार दान का सौभाग्य वीरेश सेठ परिवार को प्राप्त हुआ वही महा सागर जी महाराज को आहार दान का सौभाग्य संतोष सिंघई परिवार को प्राप्त हुआ। दोपहर में जैन धर्मशाला से मुनि संघ का कुंडलपुर की ओर बिहार हो गया समन्ना होते हुए शाम को आमखेड़ा पहुंचने पर रात्रि विश्राम होगा। इसके पूर्व आज का जिज्ञासा समाधान कार्यक्रम भी यहीं पर संपन्न होगा।

एकलव्य यूनिवर्सिटी में हुआ जिज्ञासा समाधान..

मनु

 

इसके पूर्व शुक्रवार को दमोह जिले की सीमा में प्रवेश के साथ मुनि संघ का रात्रि विश्राम एकलव्य यूनिवर्सिटी में हुआ। इस दौरान मुनिश्री का  जिज्ञासा समाधान आयोजन भी यहां संपन्न हुआ।  एकलव्य यूनिवर्सिटी की कुलपति भाजपा नेत्री रही पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया की धर्मपत्नी डॉ सुधा मलैया, विधायक अजय टंडन, जिला कांग्रेस अध्यक्ष मनु मिश्रा सहित सैकड़ों श्रद्धालुओं की मौजूदगी रहेगी।

कांग्रेस विधायक ने पूंछा गौ हत्या कैसे रुक सकती है..

मुनि श्री क जिज्ञासा समाधान के दौरान प्रश्न करने से कांग्रेसी विधायक अगर टंडन भी अपने आप को नहीं रोक सके और उन्होंने ऐसा सवाल कर दिया जिससे आमतौर पर कांग्रेस समर्थक जनप्रतिनिधि बचने की कोशिश करते हैं। अजय टंडन ने मुनि श्री से भगवान महावीर से जैन धर्म की शुरुआत होने को लेकर जहा अपनी जिज्ञासा जताई वही गौ हत्या रोकने के उपाय पूछे। इस पर मुनि श्री ने गौ हत्या बात नहीं रुक पाने के कारणों को स्पष्ट करते हुए राजनीति को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने गांव गांव में गौशाला खोले जाने और दूध ना देने वाली गायों को नहीं बेचे जाने का संदेश भी दिया जिसके बाद कांग्रेस विधायक निरुत्तर नजर आए।

कुंडलपुर में दो हजार साल बाद हो रहा है ऐसा आयोजन

मुनि पुंगव श्री सुधा सागर जी महाराज ने जिज्ञासा समाधान के दौरान ही कुंडलपुर में आयोजित होने वाले वाह महोत्सव से लेकर बड़े बाबा की महिमा को निरूपित करते हुए कहा कि शायद इस महा महोत्सव को देखने के लिए ही कोरोना का हाल के दौरान भी हम सबकी जान बची रहे उन्होंने कहा कि जिनको सारी दुनिया पूजती है, अपना आराध्य मानती है वह भी बड़े बाबा को अपना आराध्य मानते हैं, इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है की कुंडलपुर के बड़े बाबा की मनोज्ञ प्रतिमा कितनी निराली और अतिशयकारी है।

हजारों हजारों साल पहले हुए इस तरह के आयोजनों में शामिल होने वाले मुनियों की संख्या को लेकर उदाहरण देते हुए मुनि श्री ने कहा कि 2000 साल बाद ऐसा आयोजन हो रहा है और आगे कब होगा यह कहा नहीं जा सकता। अतः किसी को भी इसका साक्षी बनने से नहीं चूकना चाहिए। और उसका धर्म लाभ जरूर लेना चाहिए..

Post a Comment

0 Comments