Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

केबिनेट मंत्रियों के क्षेत्र में धान खरीदी के पहले दिन रूपए नहीं देने पर धान की तौल नहीं.. किसान ने रिश्वत की मांग की वीडिया वायरल की..

 मप्र में धान खरीदी शुरू होते ही अव्यवस्थाओं की पोल खुलना भी शुरू हो गई है। यहां तक की खरीदी केंद्रों पर पहले दिन किसानों के लिए बैठने के इंतजाम से लेकर पीने के पानी तक का इंतजाम अनेक केंद्रों पर नजर नहीं आया। हालांकि पहले ही दिन से किसानों से धान खरीदी के बदले रूपयों की मांग के मामले जरूर सामने आने लगे है..

दमोह। मप्र मैं धान खरीदी शुरू होते अन्नदाता किसानों के स्वाभिमान से खिलवाड़ के साथ प्रताड़ित परेशान किए जाने की शिकायतें भी सामने आने लगी है। मप्र खाद्य आपूर्ति निगम और वेयरहाउसिंग कारपोरेशन के चेयरमैन पद को सुशोभित करने वाले कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त प्रदुमन सिंह एवं राहुल सिंह के गृह क्षेत्र हिंडोरिया के धान खरीदी केंद्र से बांदकपुर के एक युवा किसान को परेशान प्रताड़ित किए जाने की तस्वीर वीडियो सामने आई है। दिन भर के इंतजार के बाद भी उसकी धान की खरीदी नहीं होने पर उसे खाली हाथ वापस अपने गांव लौटना पड़ा है।

बांदकपुर निवासी युवा किसान अमित कांत पिता आनंद कुमार जैन का कहना है कि वह मंगलवार को अपनी अच्छी क्वालिटी की धान लेकर हिंडोरिया खरीदी केंद्र पहुंच गया था लेकिन उसकी धान को पास करने के नाम पर सर्वेयर द्वारा कथित तौर पर रुपयों की मांग की गई जिससे इंकार करने पर उसी दिन भर इंतजार कराने के बाद तौल नहीं कराई गई। शाम को उसे अपनी धान ऐसे ही छोड़ कर भोजन करने के लिए बांदकपुर वापस लौटना पड़ा। किसान अमित कांत जैन द्वारा एक वीडियो वायरल कर के भी अपनी परेशानी को बयान करने की कोशिश की गई है।  
इस संदर्भ में जब समिति प्रबंधक करोड़ी सिंह से बात की गई तो उनका कहना था कि सर्वेयर द्वारा धान में कुछ गड़बड़ी नजर आने पर उसे उड़ाने की बात कही गई थी जिस पर से संबंधित के साथ द्वारा वीडियो बनाकर शिकायत करने की धमकी दी जाती रही। जबकि आज सिर्फ एक किसान की धान खरीदी हिंडोरिया केंद्र पर की गई है ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि पहले ही दिन से यहां पर समिति प्रबंधक और सर्व यारों की मनमानी शुरू हो गई है यदि किसान की धान में कुछ खोट भी थी तो उसे साफ करवा कर पास कराया जा सकता था लेकिन इसे जरूरी नहीं समझा गया और पल्लेदार भी बेकार बैठे रहे। उपरोक्त हालात के बाद यह देखना होगा कि अच्छी क्वालिटी की धान खरीदने के मामले में हिंडोरिया सहित अन्य केंद्रों पर मापदंडों का कितना पालन आगामी दिनों में किया जाता है..

Post a Comment

0 Comments