Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

पितृपक्ष में रिश्वतखोरी महंगी पड़ी..सागर लोकायुक्त की टीम ने तेंदूखेड़ा नगरपालिका के चर्चित सीएमओ और अकाउंटेंट को एक लाख रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा.. उपयंत्री कार्यवाही की भनक लगते ही भागा.. तीनो के खिलाफ कार्रवाई होते ही हड़कंप के हालात बने..

 सीएमओ व अकाउंटेंट को रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा

दमोह। जिले की तेंदूखेड़ा नगर पालिका परिषद में प्रभारी सीएमओ के पद पर पदस्थ प्रकाश पाठक और उनके सहयोगी लेखापाल जितेंद्र श्रीवास्तव को सागर लोकायुक्त की टीम ने ₹100000 की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा है। उपयंत्री अशोक शाह के मौके से फरार होने की जानकारी सामने आई है। कार्यवाही की खबर लगते ही तेंदूखेड़ा नगर में हड़कंप के हालात निर्मित हो गए तथा लोग खुलेआम इनकी भृष्ट कार्यप्रणाली की चर्चा करते नजर आए।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार दोपहर सागर से तेंदूखेड़ा पहुंची डीएसपी राजेश खेड़े के नेतृत्व में लोकायुक्त की टीम ने तेंदूखेडा नगर पालिका के प्रभारी सीएमओ प्रकाश चंद्र पाठक और उनके सहयोगी प्रभारी अकाउंट जितेंद्र श्रीवास्तव को उनके ही आफिस से एक लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ने में सफलता हासिल की है। दरअसल शिकायत कर्ता बीएल बड़ेरिया जो की ठेकेदार है से विभिन्न कार्यो के भुगतान कमीशन के तौर पर रिश्वत की एक लाख की रकम आज ली गई थी।

बताया जा रहा कि सड़क नाली आदि निर्माण कार्य को लेकर ठेकेदार से रिश्वत की राशि की मांग की जा रही थी। जिसकी शिकायत सागर लोकायुक्त एसपी से किये जाने के बाद आज लोकायुक्त टीम द्वारा यह कार्रवाई की गई है। रिश्वत की रकम में से ₹40000 यमुना जहां स्वयं रख लिए थे वही उपयंत्री के 30,000 और अकाउंटेंट के ₹30000 कुल 60000 रु जितेंद्र श्रीवास्तव को दिए थे लोकायुक्त द्वारा की गई ट्रैप कार्यवाही के दौरान उपरोक्त राशि दोनों के पास से बरामद की गई। 
इधर कार्रवाई के दौरान उपयंत्री अशोक शाह के नही मिलने के बावजूद भट्टाचार्य उसकी संलिप्तता पाए जाने पर लोकायुक्त द्वारा इनको भी मामले में आरोपी बनाए जाने की कार्रवाई की जा रही है। उल्लेखनीय है कि जिले के सभी निकायों में बाजी का खेल चल रहा है देखना होगा लोकायुक्त के बाद अन्य रिश्वतखोर सबक लेते हैं अथवा नहीं। तेंदूखेड़ा से विशाल रजक की रिपोर्ट

Post a Comment

0 Comments