Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस पर विभिन्न आयोजनों के बीच.. 15 अगस्त के विज्ञापन भुगतान की आस में खबरें लगाने को मजबूर पत्रकार.. केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ऑक्सीजन प्लांट लोकार्पण समेत अनेक कार्यक्रमों में शामिल होगे.. कांग्रेसियों ने 71 काले गुब्बारे छोड़कर विरोध जताया..

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस पर विभिन्न आयोजनों के दौर के बीच मजबूर मीडियो कर्मी..

दमोह। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिवस के मौके पर देशभर में भाजपा द्वारा सेवा अभियान तहत कार्यक्रमों का धुआंधार आयोजन किया जा रहा है। इसकी शुरुआत 17 सितंबर से पूरे देश में होने जा रही है इसी कड़ी में दमोह जिला मुख्यालय पर स्थानीय सांसद और केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल तथा प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह राजपूत की मौजूदगी में विभिन्न आयोजनों की जोरदार तैयारियां की गई हैं। वही इन कार्यक्रमो की पब्लिक सिटी हेतु मीडिया कर्मियों के पास विज्ञप्तियो की बौछार से कर दी गई है। 

 इधर 15 अगस्त के विज्ञापनों के जल्द भुगतान की आस में विभिन्न आयोजनों की खबरें लगाना पत्रकारों के लिए मजबूरी जैसे हालात निर्मित करती नजर आ रही है। दरअसल स्वतंत्रता दिवस के पर्व को 1 महीने से अधिक का समय बीत चुका है वही कोरोना काल में विज्ञापन के अभाव में सबसे अधिक आर्थिक संकट का सामना स्थानीय पत्रकारों को करना पड़ा है। ऐसे में 15 अगस्त पर जारी होने वाले विज्ञापनो से अधिकांश मीडिया कर्मियों के अपने प्रेस या चैनल के टारगेट पूरे होने की उम्मीद थी। लेकिन कोरोना काल के नाम पर जहां सरकारी विज्ञापन जारी करने के नाम पर ठेंगा दिखा दिया गया वही सांसद विधायक आदि के यहां से जो नाम मात्र के विज्ञापन जारी हुए उनका भुगतान करने के लिए महीने भर बाद भी पेशी पर पेशी बढ़ने जैसे हालात बने हुए हैं।

 सांसद कार्यालय से एक से पांच हजार रुपए की राशि के विज्ञापन स्वतंत्रता दिवस वीरांगना अवंती बाई जयंती के अवसर पर चिन्हित पत्रकारों को जारी किए गए थे। इसी तरह मप्र वेयरहाउसिंग कारपोरेशन के चेयरमैन राहुल सिंह के यहां से भी विज्ञापन जारी हुए थे। लेकिन दोनों जगह से महीने भर बाद भी पेमेंट की चर्चा करने कोई तैयार नही है। पत्रकारों द्वारा संपर्क किए जाने पर जबेरा विधायक धर्मेंद्र सिंह लोधी द्वारा जहां विज्ञापनों के लिए हामी भरी गई थी वही हटा विधायक पीएल तंतुबाय के पीए सुरेश पटेल ने कुछ लोगों को सहमति दी थी। लेकिन अब पटेल को ऐसे पत्रकारों के पेमेंट करना तो दूर फोन उठाने तक से भी गुरेज हो गया है। जबकि पथरिया विधायक रामबाई के यहा से परिजनों के जेल में होने तथा दमोह विधायक अजय टंडन के यहां से गमी का पर्व होने का हवाला देकर अधिकांश पत्रकारों को विज्ञापन के नाम पर टीरका दिया गया था। जिला पंचायत अध्यक्ष शिव चरण पटेल के यहा अधिकांश पत्रकारों का पुराना बकाया रहने से उनसे किसी ने कोई आस ही नहीं की थी। इधर जिला भाजपा व जिला कांग्रेस अध्यक्ष से कभी किसी को कोई विज्ञापन मिला हो यह कहने वाला कोई नहीं है।

दूसरी और सरकारी दफ्तरों से जारी होने वाले बिना विज्ञापन के भुगतान की बात की जाए तो करोड़ों की रजिस्ट्रीया करने के साथ कलेक्टर के नाम का कमीशन मांगने वाले अधिकारी जहां चुनिंदा पत्रकारों को राष्ट्रीय पर्व पर पांच पांच सौ के नोट थमाकर दान वीर कर्ण जैसा एहसास दिलाने की कोशिश करते रहे हैं वही महंगे दामों में सरकारी दुकानों से धड़ल्ले से शराब बिकवाने वाले आबकारी विभाग द्वारा भी मीडिया के नाम पर चक्कर लगाने वाले को पांच पांच सो रुपए थमा दिए जाते रहे हैं। बड़े विभागों की बात की जाए तो लोक निर्माण विभाग, जल संसाधन, पीएचई, आरईएस, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, केएन गल्स कालेज, आरटीओ आदि के दफ्तरों में विज्ञापन हेतु आवेदन देने वाले पत्रकारों को एक एक हजार रुपए का नजराना दिया जाता रहा है। लेकिन इस बार इनमें से अधिकांश अपने विभाग की माली हालत खराब बताते नजर आ रहे है। 

मप्र शासन के जनसंर्पक विभाग से जहां आंचलिक पत्रकारों, स्थानीय बेव पोर्टल, यूटयूब चैनलों के लिए एक रूपए के विज्ञापन हासिल करना जहां टेड़ीखीर बना हुआ है वहीं कमीशनखोरी के खेल में अनेक तथाकत्थितों को समय समय पर हजारों विज्ञापन जारी करके उपकृत किए जाने का दौर जारी है। उपरोक्त हालात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि स्थानीय पत्रकारों को अपना प्रेस का टारगेट पूरा करने और परिवार का खर्च चलाने के लिए किस तरह से पंचायत स्तर से लेकर आधिकारिक स्तर पर सूचना का अधिकार लगाने और शिकायत करने को मजबूर होना पड़ रहा है। ऐसे में प्रधानमंत्री के जन्मदिन के मौके पर पत्रकारों को विज्ञापनों की आस होना लाजमी थी लेकिन विज्ञापनों की जगह विज्ञप्तियों की भरमार हो तो इसे क्या कहा जा सकता है..
 केंद्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद सिंह पटेल दर्जन भर कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे 

दमोह। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के जन्मदिन पर केंद्रीय राज्यमंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल अपने संसदीय क्षेत्र में करीब दर्जन भर कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे। जिसके तहत सबसे पहले सुबह स्वच्छ भारत अभियान के तहत बेलाताल में श्रमदान देंगे। दमोह जिला चिकित्सालय में रक्तदान करेंगे और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय (भारत सरकार) के अधीन भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा जिला चिकित्सालय दमोह में ऑक्सीजन प्लांट का लोकार्पण करेंगे। 

 उसके बाद रामजानकी पार्क में वृक्षारोपण करेंगे और भगवान विश्वकर्मा पूजन समारोह में शामिल होंगे। मानस भवन में दिव्यांगजनों को आवश्यक उपकरण वितरीत करेंगे। जनपद पंचायत हटा में दिव्यांगजनों को आवश्यक उपकरणों का वितरण करेंगे। जरारू धाम गौ अभ्यारण्य जिसकी स्थापना 2017 में प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के जन्मदिन पर हुई थी, वहां जाकर किसान सम्मेलन कार्यक्रम में शामिल होंगों व मोबाइल रक्तदान यूनिट को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे और पौधारोपण करेंगे। उसके बाद जरारूधाम में ही स्वच्छ भारत अभियान के तहत संगोष्ठी व श्रमदान करेंगे। अंत में नरसिंह गढ़ में 1857 की क्रांति के अमर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। 

कांग्रेसियों ने 71 काले गुब्बारे छोड़कर किया विरोध प्रदर्शन 
दमोह। पीएम मोदी के 71 वें जन्मदिन की पूर्व बेला में कांग्रेसियों ने 71 काले गुब्बारे छोड़कर सड़कों के सुधार हेतु अनोखा विरोध प्रदर्शन किया। शहर की सड़कों की बढ़ रही दुर्दशा को देखते हुए त्योहारों के समय भी सुधार ना होने पर इन सड़कों के सुधार हेतु कांग्रेस परिवहन प्रकोष्ठ द्वारा वेला तालाब के सामने नगर पालिका की फ़ोटो पर बेर्शम के फूल चढ़ाकर अगरबत्ती लगा कर शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन किया।
 विधायक अजय टंडन के मार्ग दर्शन में जिला कांग्रेस परिवहन प्रकोष्ठ के तत्वाधान में अध्यक्ष प्रजु यशोधरन द्वारा अपने साथियों के साथ 71 काले रंग के गुब्बारे भी छोड़कर विरोध प्रदर्शन किया। वही कलेक्ट्रेट कार्यालय से लेकर बेलाताल तक 71 गड्ढे चिन्हित कर माननीय देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिवस के अवसर पर 71 पौधों को लगाए जाने के लिए नगर पालिका सीएमओ को इस सड़क को सुविधाजनक बताते हुए सुझाव भी दिया की बिना किसी मेहनत के गड्ढे भी खुदे ही मिल जाएंगे और वृक्षारोपण होने से गड्ढे भी भर जाएंगे। यदि शीघ्र ही शहर की सड़कों का सुधार कार्य नहीं किया गया तो, किसी ना किसी प्रकार के आंदोलन करते हुए आम जनमानस को जागृत करते रहेंगे।

Post a Comment

0 Comments