Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

क्या जबलपुर रेल मंडल के अधिकारी दमोह वासियों को प्रह्लाद पटेल को सांसद चुनने की सजा दे रहे है..? दमोह से चलने वाली ट्रेनों को पुनः शुरू कराने क्यो रुचि नही ले रहे सांसद पटेल..? 14 सितंबर से शुरू हो रही दुर्ग जम्मू ट्रेन का छग संपर्क क्रांति की तरह दमोह में स्टॉपेज नहीं..

 दमोह भोपाल राज्यरानी व पैसेंजर कब शुरू होगी  

दमोह। नागपुर से लेकर दक्षिण भारत की ट्रेन सुविधा के लिए आजादी के बाद से वंचित रहे बीना कटनी रेल खंड के बाशिंदों को 7 साल पहले दमोह संसदीय क्षेत्र से प्रह्लाद पटेल के सांसद चुने जाने के बाद बेहद उम्मीदें जगी थी वही 2 साल पहले उनके केंद्रीय मंत्री बनने के बाद तो रेल सुविधाओं को लेकर आम नागरिकों की उम्मीदों को पंख से लग गए थे। लोगों को उम्मीद थी कि अब जल्द ही नागपुर और दक्षिण भारत के लिए रेल सेवा हासिल हो सकेगी। लेकिन उम्मीदो के यह पंख अब मुरझाने के साथ जन निराशा में बदलते जा रहे हैं।
दमोह सांसद और केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल से नई ट्रेनों की अपेक्षा और उम्मीद रखने वाले लोगों की मुरादें जहा पूरी नही हो सकी है वही कोरोना काल में बंद की गई दमोह सागर रूट की अनेक पैसेंजर ट्रेनों को चालू कराने में रेलवे के अधिकारी कोई रुचि नहीं ले रहे हैं। जिससे दमोह से चलने वाली ट्रेनों का रेलवे के रिकॉर्ड से नाम ही विलुप्त हो गया है। कोरोना काल के पहले दमोह भोपाल राज्यरानी और दमोह बीना ग्वालियर पैसेंजर ट्रेन दमोह से शुरू होकर रात में दमोह में खत्म होती थी लेकिन लगता है पश्चिम मध्य रेलवे के अधिकारियों ने इनको अब हमेशा के लिए खत्म कर दिया है और उनको इस बात की भी कोई परवाह नहीं है कि दमोह क्षेत्र केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल का निर्वाचन क्षेत्र है। 


 उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व दमोह से चलने वाली कोटा शटल और दमोह चिरमिरी ट्रेन को भी खत्म करके दमोह से शुरू होने वाली गाड़ियों का नामोनिशान मिटाने की कोशिश की जा चुकी है। दमोह कोटा की जगह जबलपुर कोटा एक्सप्रेस शुरू की गई थी वही दमोह चिरमिरी की जगह बीना कटनी चिरमिरी पैसेंजर शुरू की गई थी लेकिन यह दोनों ट्रेन अभी दोबारा पटरिया पर नहीं लौट पाई है। 

हालांकि इन सभी ट्रेनों को फिर से चालू कराने के लिए रेलवे सुधार एवं संघर्ष समिति के सक्रिय सदस्य दमोह तथा सागर में लगातार ज्ञापन देकर रेलवे के अधिकारियों को कुंभकरण की नींद से जगाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन स्थानीय सांसद और केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल की रूचि नहीं लेने की वजह से रेलवे के अधिकारियों के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही है जिससे रेल सुविधाओं को लेकर अब रेलवे के अधिकारियों के साथ सांसद की उदासीनता के प्रति भी आक्रोश नजर आने लगा है। 

14 सितंबर से शुरू हो रही दुर्ग जम्मू ट्रेन का दमोह में फिर स्टॉपेज नहीं..
दमोह सांसद प्रहलाद पटेल के केंद्रीय मंत्री रहने के बावजूद पश्चिम रेल मंडल जबलपुर के अलावा दक्षिण पूर्व रेल मंडल के अधिकारी भी दमोह रेलवे स्टेशन से निकलने वाली गाड़ियों को 2 मिनट का स्टॉपेज देने को तैयार नहीं है। बरसों से चल रही छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति 3 दिन दमोह में रोके बिना आगे बढ़ जाती है जब कि सागर कटनी मैं बरसों से रोक रही है

 इसी तरह 14 सितंबर से शुरू हो रही दुर्ग जम्मू साप्ताहिक ट्रेन का स्टॉपेज भी दमोह को देने की जरूरत दक्षिण पूर्व रेलवे के अधिकारियों ने नहीं समझी जबकि इसका भी सागर कटनी में स्टॉपेज दिया गया है। रेल सुविधाओं के मामले में लगातार उपेक्षा भरे ऊपरोक्त हालात सामने आते ही रहने से लोग अब यह कहने से भी नहीं चूक रहे हैं क्या दमोह वालों ने प्रह्लाद पटेल को सांसद चुनकर कोई गुनाह किया है जो इसकी सजा रेल अधिकारी दमोह के साथ सौतेला व्यवहार करके दे रहे हैं। इधर रेल सलाहकार समिति के सदस्य सांसद प्रतिनिधि आलोक गोस्वामी से जब कभी रेल सुविधाओं को लेकर चर्चा की जाती है तो वह रटारटायार जबाव देते है कि पत्र भेजा है।
क्षिप्रा डेली होने की घोषणा घोषणा ही रह गई
इंदौर से हावड़ा के बीच चलने वाली क्षिप्रा एक्सप्रेस को 3 साल पहले भोपाल में आयोजित एक समारोह में तत्कालीन रेल मंत्री पीयूष गोयल ने प्रतिदिन चलाने की घोषणा की थी लेकिन य घोषणा हवा हवाई होकर रह गई। जबकि पितृ पक्ष में गयाजी, नवरात्रि में कोलकाता और जैन तीर्थ यात्रियों के लिए सम्मेद शिखरजी जाने वाली बीना कटनी रेल खंड के यात्रियों के लिए ह एकमात्र ट्रेन है। जिसमें हमेशा सैकड़ों बैटिंग बनी रहती है इस के बावजूद रतलाम रेल मंडल के अधिकारी ऐसे प्रतिदिन करने क्यों ध्यान नहीं दे रहे यह बात समझ के परे है
क्षिप्रा को डेली करने की मांग लोकसभा में उठी..
 उल्लेखनीय है कि इंदौर सांसद शंकर लालवानी से लेकर सागर सांसद राजबहादुर सिंह क्षिप्रा एक्सप्रेस ट्रेन को प्रतिदिन चलाने के लिए लोकसभा में भी शून्यकाल के दौरान अपनी बात रख चुके हैं। 
 लेकिन दमोह सांसद प्रह्लाद पटेल द्वारा इस ट्रेन को प्रतिदिन करवाने में रूचि नहीं लेने की वजह से यह नियमित नहीं हो पा रही है जबकि केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल के पूर्व रेल मंत्री पीयूष गोयल से लेकर वर्तमान रेल मंत्री अश्वनी कुमार से नजदीकी संबंध की जानकारी सभी को है। यदि एक बार भी केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल रेल मंत्री अश्वनी कुमार से दमोह जिले की रेल सुविधाओं को लेकर चर्चा कर ले ऐसा नहीं है कि इनकी बात को टाला जा सके लेकिन सवाल यह उठता है कि आखिर श्री पटेल को दमोह क्षेत्र रेल सुविधाओं को लेकर रेल मंत्री से बात करने के लिए प्रेरित कैसे किया जाए। पूर्व में जब भी दमोह सागर के मीडिया कर्मियों या अन्य लोगों ने रेल सुविधाओं को लेकर श्री पटेल से चर्चा की है तो उनके जवाब नकारात्मक निराशाजनक रहे हैं साथ ही रवैया भी उपेक्षात्मक रहा है।
पूर्व सांसद कुसमरिया की रेल सुविधाए यादगार 
 दमोह के पूर्व सांसद रामकृष्ण कुसमरिया बाबाजी के द्वारा दमोह के लिए दिलाई गई रेल सुविधाओं की याद आज भी यादगार बनी हुई है। अनेक नई ट्रेन दिलाने के साथ रेलों की मांग करने हमेशा आगे रहने वाले बाबा जी के कारण ही पथरिया बांदकपुर जैसे छोटे स्टेशनों पर गोंडवाना कामायनी जैसी गाड़ी रुकने लगी थी। इधर श्री कुसमरिया के प्रयासों से तत्कालीन रेल मंत्री वर्तमान में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दमोह आकर पथरिया फाटक ओवरब्रिज का शिलान्यास और लोकार्पण दोनों किया था वहीं अन्य रेल राज्य मंत्रियों ने दमोह दौरे के दौरान मुंबई से बनारस के बीच प्रतिदिन चलने वाली कामायनी एक्सप्रेस ट्रेन की सौगात दी थी। यदि कुसमरिया जी का प्रयास नहीं होता तो दमोह वासी आज भी मुंबई की ट्रेन के लिए उसी तरह परेशान होते रहते जिस तरह की नागपुर और दक्षिण भारत दक्षिण भारत की ट्रेनों के लिए लोग आज भी एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन के चक्कर लगा कर भटकते रहते हैं। 
अब केंद्रीय मंत्री सिंधिया, वीरेंद्र कुमार, वीडी शर्मा से रेल सेवाओ को लेकर रेल मंत्री से मुलाकात की मांग
टीकमगढ़ सांसद व केद्रीय मंत्री वीरेंद्र कुमार तथा खजुराहो सासंद व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा द्वारा टीगमगढ़, छतरपुर, खजुराहो क्षेत्र को लगातार नई रेल गाड़िया दिलाने के साथ अन्य ट्रेनों के लिए रेलमंत्री से मुलाकात व पत्र लिखते रहे है। लेकिन दमोह के मामले में कोई धनी धोरी नजर नहीं आ रहा। ऐसे में दमोह सांसद केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल के रेल सुविधाओं मामले में उपेक्षात्मक रवैये से परेशान रेल सेवा सुधार समिति दमोह सागर के सदस्य जल्द ही केंद्रीय मंत्री ज्यातिरादित्य सिंधिया तथा टीगमगढ़ सासंद व केंद्रीय मंत्री वीरेंद्र कुमार तथा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व खजुराहो सासंद वीडी शर्मा से मुलाकात करके उनसे दमोह सागर की रेल सुविधाओं को पूरा कराने तथा इस हेतु रेल मंत्री से टाइम दिलाने की मांग करेंगे। पिक्चर अभी बाकी है.. राजेंद्र अटल

Post a Comment

0 Comments