Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

इसे कहते हैं लालच बुरी बलाए.. गड़े धन में मिले सोने को सस्ते में खरीदने के नाम पर रीवा वालों ने एक लाख नगद, अंगूठी मोबाईल गंवाए.. पन्ना पुलिस ने लूट की बारदात को अंजाम देने वाले पारधी गिरोह के तीन सदस्यों पर शिकंजा कसा.. तीन फरार आरोपियों की तलाश जारी..

 गड़े धन के नाम पर ठगी व लूट करने वाले गिरफ्तार

पन्ना। लालच बुरी बला की कहावत तो आपने सुनी होगी इस चक्कर में लोग अपना जमा धन भी गवां बैठते हैं। ऐसा ही एक मामला पन्ना में सामने आया है जहां रीवा निवासी कुछ लोग गड़े धन में मिले सोने को सस्ते लेने के चक्कर में अपने एक लाख नगद और सोने की अंगूठी मोबाइल आदि गवा बैठे। हालांकि पन्ना पुलिस ने मामले की शिकायत पर रिपोर्ट दर्ज करने के बाद 24 घंटे में पारधी गिरोह के 8 में से तीन आरोपियों को गिरफ्तार करके उनके हिस्से में आई लूट की रकम को बरामद कर लिया है। वहीं पांच में से दो पहले से जेल में बंद है। जबकि तीन की गिरफ्तारी व उनके हिस्से में गई लूट की रकम बरामद होना अभी बाकी है।


पन्ना पुलिस ने बड़ी कार्यवाही करते हुए सोना बेचने नाम पर में डकैती के आरोपियों को 24 घण्टे के अंदर किया गिरफ्तार किया गया है। पकड़े गए आरोपी विजय सिह बहेलिया, राकेश पारधी एवं अनिल उर्फ मनिल बहेलिया तीनो गांधी ग्राम पन्ना के निवासी बताए गए है। आरोपियों के कब्जे से लूटा गया 35000 रूपये नगद, सोने की 02 अंगूठी, 02 मोबाइल एवं घटना में प्रयुक्त 02 मोटर साइकिल बरामद की गई है।

*घटना का संक्षिप्त विवरण 17 अगस्त को फरियादी ने अपने साथियों के साथ थाना कोतवाली पन्ना में आकर रिपोर्ट किया कि मैं रीवा का रहने वाला हूँ । कुछ दिन पहले मेरे दोस्तो ने मुझसे बताया कि हमारा सम्पर्क गांधीग्राम पन्ना के रहने वाले कुछ व्यक्तियो से हुआ है , जिन्हें कहीं गड़ा हुआ खजाना (धन) मिला है जो हम लोगो को सोना बेचने के लिये बोल रहे है । दोस्तो के बताये अनुसार दिनांक 14 अगस्त  को हम 07 लोग अपने वाहन से पन्ना पहुँचे। पन्ना पहुँचने के बाद सोना बेचने वाले व्यक्तियों के बताये अनुसार दोपहर में हम लोग झारखण्डन मंदिर जाने वाले रास्ते जो निर्माणाधीन रेल्वे लाईन की ओर जाता है वहाँ पहुँचे और अपनी गाडियाँ सड़क पर ही खडी कर दी । वहाँ सोना खरीदने के लिये पहले से हुई चर्चा के अनुसार पहुँचे तो वहाँ कुल 08 लोग बैठे थे । 


बातचीत में उन्होंने अपने- अपने नाम बताये इसके बाद हम लोगो ने पूँछा कि सोना कहाँ है सोना दिखा ओ इतना सुनकर एक व्यक्ति द्वारा सोने का एक टुकड़ा निकाल कर दिखाया हम लोगो ने पूँछा कि और सोना कहा है तो वे बोले कि कितना पैसा लाये हो तो मैने कहा कि सोना दिखाओं पैसा हम मगा लेगे हम लोगो ने उन्हें एक लाख रुपये दिखाये जो हम लोग साथ में लिये थे । इसके बाद वो लोग बोले कि तीन लाख रुपये लेकर आने का सौदा तय हुआ था, और पैसे कहा है यह बोलकर वह सभी लोग आपस में अपनी भाषा मे जोर जोर से कुछ बात करने लगे जो हम लोग नही समझ पाये और उन लोगो नें वहीं पास में छिपाकर रखे बाँस डण्डा , बका और चाकू निकाल लिये । और हमारे पास से 01 लाख रूपये नगद ,सोने की चैन, अगूंठी व मोबाइल फोन 04 नग छीन लिये व हमलोगो के साथ मारपीट किये है। 
फरियादी की रिपोर्ट पर थाना कोतवाली पन्ना में आरोपियों के विरूद्ध अपराध क्रमांक 746/21 धारा 395,397 भादवि का कायम कर विवेचना में लिया गया ।

*पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही- एसपी पन्ना धर्मराज मीना द्वारा उक्त घटना को गंभीरता से लेते हुये अनुविभागीय अधिकारी पुलिस पन्ना बहादुर सिह बारीबा के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी कोतवाली पन्ना निरीक्षक अरुण सोनी के नेतृत्व मे पुलिस टीम का गठन किया जाकर आरोपियो की तत्काल गिरफ्तारी के निर्देश दिये गये। उक्त पुलिस टीम में पुलिस सायबर सेल टीम पन्ना को शामिल किया गया। वही आज निर्माणाधीन रेल्वे लाइन झारखण्डन देवी माता मंदिर के पास पुलिस टीम द्वारा मौके पर पहुँच कर घेराबंदी कर कार्यवाही करते हुये 03 संदेही व्यक्तियों को पकड़ा। जिन्होनें पुलिस टीम द्वारा कड़ाई से पूँछताछ किये जाने पर घटना दिनांक को अपने 05 अन्य साथियों के साथ मिलकर लूट की घटना को कारित करना स्वीकार किया गया। इनके दो साथी पहले से जेल में है जिससे अब 3 की तलाश बाकी है।


पुलिस टीम द्वारा आरोपियों के कब्जे से लूटे गये 35000 रूपये नगद, लूटे गये 02 मोबाइल , लूटी गई 02 नग सोने की अंगूठी एवं घटना में प्रयुक्त 02 मोटर साइकिल वाहन जप्त किये गये। आरोपियों को गिरफ्तार किया जाकर माननीय न्यायलय पेश किया गया । मामले के 03 अन्य आरोपी फरार है जिनकी गिरफ्तारी होने पर अन्य जिलो के प्रकरणों के खुलासा होने की संभवना है ।

*सराहनीय योगदान - उक्त सम्पूर्ण कार्यवाही में थाना प्रभारी कोतवाली पन्ना निरीक्षक अरुण कुमार सोनी, उप निरी राहुल सिंह यादव, उप निरी सरिता तिवारी, सोनम शर्मा, गिरजाशंकर बाजपेई, निरांकार सिहं, श्रीकृष्ण मावई, ईश्वर सिंह, सउनि रामकृष्ण पाण्डेय ,विक्रम सिंह, कस्तूरी अहिरवार, सफीक मोहम्मद, चन्द्रकुमार बागरी, प्रेमलाल शर्मा, बाबूलाल सिह, बृन्दावन प्रजापति, प्र.आर लक्ष्मीयादव, राजेश सिंह, सतेन्द्र बागरी शिवस्वरुप तिवारी, रामपाल बागरी, शोभाराम अहिरवार, अरुण अहिरवार, रामभिखाऱी बागरी, कमलेश शर्मा, उर्मिला अहिरवार, जागेन्द्र शर्मा, के.पी यादव,आरक्षक राजीव मिश्रा, बीरेन्द्र , शिशुपाल विनय वर्मा प्रदीप पाण्डेय रविकरण राजपूत सुदरम त्रिपाठी, ब्रम्हदत्त शुक्ला, धरम सिह सोलंकी , महेन्द्र , शिवकुमार मीना, अरुण प्रताप सिह, नीलेश ,बीरन यादव, अर्पित पाण्डेय ,बेटालाल , रोहित बागरी, जयेन्द्र पाल ,तेजेन्द्र राजौरा,रविप्रकारश खरे, मुन्नालाल , सुरेश रैकवार, प्रभात खरे, दीक्षा यादव, दीपप्रकास सोनकिया , रामवचन, अंगराज पटेल, एवं सायबर सेल के प्र.आर. नीरज रैकवार, राहुल सिंह बघेल, आर0 आशीष अवस्थी, धर्मेन्द्र सिंह राजावत, राहुल पाण्डेय का सराहनीय योगदान रहा है।

Post a Comment

0 Comments