Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

अत्याधुनिक वैक्सीनेशन मोबाइल एंबुलेंस वैन का भोपाल से आगमन पर जिला भाजपा ऑफिस के बाहर स्वागत.. जिला अस्पताल पहुंचते ही एंबुलेंस को लगाने पड़े धक्के.. दो दिन पहले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने राहुल सिंह के साथ हरी झंडी दिखाकर किया था रवाना..

BJP ऑफिस में स्वागत, जिला अस्पताल में धक्के..

दमोह। दो दिन पहले भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा द्वारा राहुल सिंह के साथ भोपाल में हरी झंडी दिखाकर रवाना की गई वैक्सीनेशन मोबाईल वैन मंगलवार को दमोह पहुंची। जिनका जिला भाजपा कार्यालय के बाहर पार्टी के नए पदाधिकारियों द्वारा गर्मजोशी के साथ स्वागत किया गया। उसके बाद जिला अस्पताल पहुंचते ही एक वैक्सीनेशन वैन में धक्के लगाए जाने के हालात देखने को मिले।


मप्र वेयरहाउसिंग एंड लॉजिस्टिक्स कॉरपोरेशन के चेयरमैन कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त राहुल सिंह द्वारा सीएसआर मद से प्रदान की गई 2 वैक्सीनेशन वैन आखिरकार 2 दिन के इंतजार के बाद दमोह पहुंच गई। जिसके बाद जिला भाजपा कार्यालय के बाहर पार्टी के नवनियुक्त प्रमुख पदाधिकारियों ने स्वागत पूजन किया तथा वहां मौजूद सिविल सर्जन ममता तिमोरी को दोनों नई नवेली अत्याधुनिक वैक्सीनेशन एंबुलेंस सुपुर्द कर दी गई। 



जिला भाजपा कार्यालय से कुछ ही कदमों की दूरी पर स्थित जिला अस्पताल के गेट पर पहुंचने के साथ एक वैक्सीनेशन वैन लड़खड़ा कर रुकती हुई नजर आई। इस दौरान चालक द्वारा उसे बार-बार स्टार्ट किए जाने की कोशिशे भी जब नाकाम हो गई तो धक्का देकर इस वैन को अस्पताल परिसर में अंदर करके सिविल सर्जन बंगले के समीप ले जाकर खड़ा करा दिया गया। 

नई नवेली कोविड-19 वैक्सीन वाहन में धक्के लगने के नजारे देख कर लोग आश्चर्य में पड़ते नजर आए।वही इसको लेकर जब इस अत्याधुनिक एंबुलेंस वैन के चालक से सवाल किया गया तो वह झल्लाते हुए गुस्से में दरवाजा बंद करके डीजल खत्म हो जाने की बात करता नजर आया। एंबुलेंस चालक का गुस्सा बता रहा था कि उसे भोपाल से दमोह आने में कितनी परेशानी का सामना करना पड़ा है, हो सकता है उसे खाने-पीने तक के लिए भी परेशान होना पड़ा हो..


अंदाजा लगाया जा सकता है कि भोपाल से दमोह रवाना की गई इन वैक्सीनेशन वैनों के लिए उतना ही डीजल दिया गया होगा जिसमें यह दमोह पहुंच सके। अत्याधुनिक मोबाइल बैन के संदर्भ में टीकाकरण अधिकारी रैक्सन अल्बर्ट ने बताया कि कोविड-19 टीकाकरण मामले में यह निशक्त वृद्धजनों के अलावा दूरदराज के इलाके में पहुंच कर वैक्सीनेशन के लिए अत्यंत उपयोगी साबित होंगी।

Post a Comment

0 Comments