Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत की जुबान फिसली.. दीनदयाल उपाध्याय को बिलगैंया बोले.. पार्टी कार्यालय नहीं पहुचे नेताओं को नसीहत देते हुए कहां घर से नहीं चलेगी राजनीति.. इधर कुछ देर बाद वित्त मंत्री जगदीश देबड़ा पूर्व मंत्री जयंत मलैया के घर पहुच गए..

मंत्री राजपूत ने उपाध्याय को बिलगैंया कहां..

दमोह।  मप्र के राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत का दमोह जिले का प्रभारी मंत्री बनने के बाद जिला योजना समीति की बैठक लेने दमोह आगमन हुआ। भाजपा में शामिल होने के बाद पहली बार दमोह के जिला भाजपा कार्यालय पहुचे श्री राजपूत का पार्टी नेताओं द्वारा गर्मजोशी के साथ स्वागत किया गया।  पिछले अनेक वर्षो तक कांग्रेस में रहने के बाद पिछले साल सिंधिया जी के साथ भाजपा में शामिल हुए मंत्री गोविंदसिंह राजपूत मीडिया से चर्चा के दौरान पार्टी के महापुरूष दीनदयाल उपाध्याय का नाम लेते समय भूल करते नजर आए।

 जनसंघ के संस्थापक रहे श्री दीनदयाल उपाध्याय जी को वह दीन दयाल बिलगैया कहते नजर आए। इस दौरान किसी ने भी उनकों सुधार करने की ओर भी ध्यान नहीं दिलाया। दरअसल सागर में दीदयाल बिलगैया नाम के पत्रकार है जिनके नाम का ध्यान रहनें की बजह से पह पार्टी के पितृ पुरूष दीनदयाल उपाध्याय की जगह बिलगैंया सरनेम का उपयोग करते नजर आए। 

पार्टी में रहना है तो बीजेपी दफ्तर आना पड़ेगा..

दमोह जिला भाजपा कार्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कुछ बड़े नेताओं के नजर नहीं आने पर यहां तक कह डाला कि घर में बैठक राजनीति नहीं चलेगी। जिसे भाजपा में रहना है उसे पार्टी कार्यालय आना पड़ेगा। उन्होंने कहां कि दमोह उपचुनाव की हार का चिंतनपार्टी कार्यकर्ताओं को करना जरूरी है क्यों कि कहीं ना कहीं कमी रही जो हम जीता जिताया चुनाव हार गए। प्रदेश में भाजपा की लहर थी हम 28 उपचुनाव में से 19 पर जीत हासिल की। हम पहले से भी अधिक वोटों से जीते और यह केवल कार्यकर्ताओं की मेहनत का नतीजा था। श्री राजपूत ने मैं यहां गुटबाजी करने नहीं बल्कि आपसी गुटबाजी को भुलाने का आव्हान करने आया हूं। 

इस दौरान पूर्व मंत्री रामकृश्ण कुसमरिया, दशरथसिंह, केविनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त राहुलसिंह, विधायक धर्मेदं लोधी, पीएल तंतुबाय, पूर्व विधायक उमादेवी खटीक, जिला भाजपाध्सख प्रीतमसिंह लोधी, पूर्व जिलाध्यक्ष विद्यासागर पांडेए हेमंत छाबड़ाए नरेंद्र व्यास सहित अन्य नेताओं की मौजूदगी रही। लेकिन पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया से लेकर उनके समर्थक पार्टी नेताओं की अनुपस्थिति रही। जिससे समझा जा सकता था कि प्रभारी मंत्री का ईशारा किन नेताओं की ओर था।

वित्त मंत्री जगदीश देबड़ा मलैया निवास पहुचे..


जिला भाजपा कार्यालय में प्रभारी मंत्री गोविंद राजपूत के घर से राजनीति नहीं चलने के बयान के घंटे भर बाद ही प्रदेश के वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा का कटनी में जिला योजना समीत की बैठक से वापस भोपाल जाते समय दमोह आगमन हुआ। परुंत श्री देवड़ा जिला भाजपा कार्यालय आने के बजाए सीधे पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया के निवास पहुच गए। उनके आगमन की जानकारी मलैया समर्थकों को पहले से होने की बजह से जिला भाजपा महामंत्री रमन खत्री सहित अनेक पूर्व पार्षद व पूर्व पदाधिकारियों ने वित्त मंत्री श्री देवड़ा का गर्मजोशी से आत्मीय स्वागत किया। 


वहीं वित्त मंत्री श्री देबड़ा के पूर्व वित्त मंत्री श्री मलैया के निवास पर आगमन से मलैया जी समर्थक काफी उत्साहित नजर आए। हालांकि केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल के विभाग परिवर्तन व राज्य मंत्री के स्वतंत्र प्रभार का दर्जा खत्म होने के बाद से ही इनके चेहरे खिले खिले नजर आते रहे है जो आज कुछ अधिक ही प्रसन्न नजर आए। जिसकी बजह प्रभारी मंत्री के घर से राजनीति नहीं करने की नसीहत के घंटे भर बाद ही प्रदेश के वित्त मंत्री श्री मलैया के निवास पर पहुच गए थे। इस दौरान हटा की पूर्व विधायक उमादेवी खटीक तथा एसपी डीआर तेनीबार की खास मौजूदगी रही। 

Post a Comment

0 Comments