Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

इंदौर से जबलपुर जा रहा टायरों से भरा आईसर ट्रक तेंदूखेड़ा पाटन के एक्सीडेंटल टर्निंग पॉइंट पर पलट कर धराशाई हुआ.. 10 दिन में सातवीं दुर्घटना के बाद भी प्रशासन तथा सड़क निर्माण एजेंसी दुर्घटनाओं को रोकने नहीं दिखा रही गंभीरता..

  तेंदूखेड़ा पाटन के टर्निंग पॉइंट पर ट्रक पलट कर धराशाई..

दमोह। तेंदूखेड़ा पाटन पाटन मार्ग के एक्सीडेंटल प्वाइंट के टर्न पर हादसों का सिलसिला जारी है आज फिर यहां पर टायरों से भरा एक आईसर ट्रक दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद पलट गया हादसे में ट्रक के चालक को गंभीर चोटें आई हैं। इस स्पॉट पर 10 दिन में यह सातवी दुर्घटना है जिसमें एक के बाद एक हादसे के शिकार वाहन क्षतिग्रस्त हुए हैं। इसके बाद भी अभी तक सड़क निर्माण एजेंसी के साथ-साथ प्रशासन भी दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए कोई कारगर कदम उठाते हुए नजर नहीं आ रहा जिससे धुंध कोहरे भरे माहौल में किसी बड़े हादसे से इनकार नहीं किया जा सकता।


प्राप्त जानकारी के अनुसार इंदौर से जबलपुर जा रहे आयशर ट्रक क्रमांक एमपी 09 GG 5864 में नए टायर भरे हुए थे। दिन में करीब 11 बजे तेंदूखेड़ा से पाटन मार्ग पर जबलपुर जिले में प्रवेश करने के साथ ही इस ट्रक को भी एक्सीडेंटल पॉइंट पर हादसे का ग्रहण लगता नजर आया और पलक झपकते ही बोर्ड पर मोड़ पर पलटकर ट्रक धराशाई हो गया हादसे के वक्त ट्रक की स्पीड कम होने की वजह से ट्रक अनेक पलटी नहीं ले सका अन्यथा हादसा और भी विकराल स्वरूप धारण कर सकता था

 घायल चालक रामचरण ने बताया कि उसने ट्रक को कंट्रोल करने की कोशिश में व्रत भी लगाए ब्रेक भी लगाए लेकिन तब तक ट्रक काबू के बाहर जा चुका था। आपको बता दें कि सागर रहली जबलपुर स्टेट हाईवे 14 निर्माण होने के बाद जहां इस मार्ग का उपयोग भारी वाहनों के लिए जमकर किया जाने लगा है सड़क निर्माण के समय ही निर्माण एजेंसी द्वारा खतरनाक टर्निंग पॉइंट पर लोहे की ग्रिल भी लगाई गई थी लेकिन लगातार हादसों के चलते लोहे की ग्रिल भी टूट कर धराशाई हो चुकी है तथा यहां खाई जैसे हालात नजर आने लगे हैं जो कि रात के समय और भी अधिक खतरनाक हो जाते हैं। 


पिछले 10 दिनों में घटित दुर्घटनाओं के मामले में राहत की बात यही कही जा सकती है कि अधिकांश हादसे दिन के समय हुए हैं जिससे बड़ी जनहानि या होने से टलती रही है। हादसों का गढ़ बन चुकी हड़ऊ घटिया पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए जल्द कारगर उपाय किए जाने की अपेक्षा जल्द प्रशासन से की जा रही है।  मामला दमोह तथा जबलपुर जिले सीमा बर्ती क्षेत्र का होने से देखना होगा कब तक का प्रशासन ध्यान देता है या फिर किसी बड़े हादसे का इंतजार किया जाता है। विशाल रजक की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments