Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

बसस्टेंड पर लाल परी का जलवा.. कार चालक ने ब्रेक की जगह एक्सीलेटर दबाया.. अनियंत्रित कार ने कई गाड़ियों को टक्कर मारी.. जिम्मेदारों ने की रेल फाटक के नीचे से निकलती गाड़ियों की अनदेखी.. ओवरब्रिज मार्ग से जरा बच के..

 बसस्टेंड पर अनियंत्रित कार ने कई गाड़ियों को टक्कर मारी

दमोह। शहर के प्राइवेट बस स्टैंड क्षेत्र में चंद कदम की दूरी पर खुली दो शराब दुकाने स्थानीय पियक्कड़ों के अलावा बाहर से आने जाने वालो को भी दिन में अपनी और आकर्षित करती रहती हैं वही इन दुकानों के अहातों में एक वार घुस जाने वाला पूरी तरह से तृप्त होने के बाद ही बाहर निकलने की हिम्मत दिखा पाता। ऐसे ही कुछ हालातों के बीच लाल परी के नशे में टुन्न एक कार सवार युवक के हाथों दिनदहाड़े नई नवेली कार के बहक जाने का मामला सामने आया है।

 यह नजारा दमोह शहर के बस स्टैंड इलाके का है जहा भरी दोपहर पैग पर पैग डकार कर कार की ड्राइविंग सीट पर बैठे युवक को गाड़ी स्टार्ट करने के बाद यह ध्यान ही नहीं रहा उसके पैर ब्रेक को दबा रहे हैं या फिर एक्सीलेटर को। नतीजा कार अनियंत्रित होने के बाद तेजी से लहराती हुई वहा खड़े कुछ लोगो, साइकिल व रिक्शा को टक्कर मारने के बाद एक बस से टकराकर ठहर गई। पलक झपकते हुए इस घटनाक्रम में कुछ लोगों को छोटे आने साइकिल तथा रिक्शा के क्षतिग्रस्त हो जाने तथा बस का पिछला हिस्सा भी क्षतिग्रस्त होने और कार का बोनट सामने से पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो जाने कि हालात देखने को मिले। देखते ही देखकर मौके पर लोगों की भीड़ लग गई और ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी भी वहां पहुंच गया और फिर गलती किसकी है इसको लेकर भी दोषारोपण शुरू हो गया। यहां पर यह एक दिन के हालात नहीं हैं, अक्सर इस तरह की घटनाएं होती रहती हैं और आखरी में पीड़ित पक्ष को यह सोच कर बचकर निकलना पड़ता है कि आखिर पीने वाले से कौन टकराए।

रेल फाटक के नीचे से पुलिस के सामने निकलती गाड़िया..

यह नजारा दमोह के मलैया मिल रेलवे क्रॉसिंग का है जहां बुधवार दोपहर मालगाड़ी के रेल ट्रक से निकलने की वजह से दोनों साइड की रेल फाटक बंद कर दिए गए थे लेकिन जल्दबाजी मैं कुछ युवक अपनी आदत के अनुसार अपनी बाइक को चर्चा करके फाटक के एक तरफ से निकालकर रेलवे ट्रैक को पार करते हुए दूसरी साइट आ जा रहे थे इस दौरान मौके पर एडिशनल एसपी शिव कुमार सिंह की गाड़ी भी खड़ी हुई थी वही कुछ पुलिसकर्मी भी बंद गेट के पास खड़े नजर आ रहे थे। लेकिन किसी ने भी बंद फाटक के नीचे से बाइक को निकालने वालों को रोकना टोकना समझाइस देना किसी ने भी उचित नहीं समझा। कहा जा सकता है जब जिम्मेदार ही अपनी जिम्मेदारी की अनदेखी कर रहे हो तो बंद फाटक से नीचे के नीचे से निकलने वालों को कौन रोक सकता है।

 पलंदी चौराहा ओवर ब्रिज मार्ग से जरा बचकर निकले..

शहर के पलन्दी चौराहा से पथरिया फाटक ओवरब्रिज मार्ग पर सड़क पर दोपहिया वाहनों ऑटो रिक्शा फल खेलों के खड़े होने से जिनमें अनेक बार जाम भरे हालात बनते रहते हैं। इस दौरान भारी वाहनों की आवाजाही भी यहां से होने की वजह से एंबुलेंस, 108, जननी वाहन भी जाम में फस कर सायरन बजाते रह जाते है। आगामी दिनों में नवरात्रि के दौरान यहां पर आवागमन में और भी अधिक जामफल हालात बनने की संभावना नजर आ रही है ऐसे में इस मार्ग से जरा बचकर निकले क्योंकि यातायात विभाग और ट्रैफिक पुलिस को यहां के हालातों की तो लंबे समय से कोई फिकर नजर ही नहीं आ रही। अभिजीत जैन की रिपोर्ट

Post a comment

1 Comments

  1. कहीं न कहीं दुर्घटनाओं के लिये सडक पर अतिक्रमण ही जिम्मेदार है दुकानदारो द्वारा सडक पर कब्जा कर लिया जाता है जिससे राहगीरों को परेशानी सामना करना पडता है,,

    ReplyDelete