Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

पुलिस की स्पेशल टीम की बांसा के चर्चित जुआ फड़ पर रेड.. लाखो की जब्ती के साथ दो दर्जन जुआड़ियों पर पुलिस का शिकंजा.. कारवाई की जानकारी पहले से लग जाने से पुलिस के हाथ नहीं लगे असली जुआड़ी और दसो लाख की रकम.. !

   स्पेशल पुलिस टीम की बांसा के चर्चित जुआ फड़ पर रेड..  

दमोह। देहात थाना अंतर्गत बांसा क्षेत्र में तथाकथित समाजसेवी के चर्चित जुआ फड़ पर महीनों बाद पहली बार पुलिस रेड की खबर सामने आई है। वही पुलिस की स्पेशल टीम की कार्रवाई की भनक पहले से लग जाने की वजह से कुछ लोगो के भाग जाने व बाहर से आने वाले बड़े लोगो के पुलिस के हाथ नहीं लग पाने की चर्चाएं भी सरगर्म है। 

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बांसा क्षेत्र में लंबे समय से चल रहे जुए के अड्डे पर रविवार शाम नोहटा थाना प्रभारी  सत्येंद्र सिंह के नेतृत्व में गठित पुलिस की स्पेशल टीम द्वारा छापामार कार्यवाही की गई। रविवार बाजार बंद के दिन यहां पर बड़ी संख्या में जुआ खेलने वाले आते थे। दोपहर से देर रात तक और कभी-कभी तो पूरी रात यहां जुआ खेलने वालों की  महफिल सजी रहती थी। लेकिन पुलिस कार्रवाई की भनक पहले से लग जाने की वजह से पुलिस के हाथ न असली जुआड़ी लगे और न दसो लाख की रकम। जो लोग पुलिस के हाथ लगे हैं वह तथाकथित समाजसेवी के लोग ही बताए जा रहे हैं वहीं इनके कब्जे से करीब एक लाख की रकम जब्त कराए जाने की जानकारी सामने आई है।
दरअसल यहां पर जुआ खेलने वालो को इस बात का पहले से ही भरोसा दिला दिया जाता था कि पुलिस से सेटिंग के चलते वह बेफिक्र होकर यहा लाखों के दाव लगा सकते हैं। यहा से पकड़े गए लोगो को बाद में देहात थाना लाया गया। जिसके बाद एसपी हेमंत चैहान एवं एडिशनल एसपी शिव कुमार सिंह भी देहात थाना पहुंचे। इसके बावजूद देर रात तक कार्रवाई को लेकर कोई भी अधिकृत जानकारी सामने नहीं आई थी।
चर्चित जुआ फड़ मामले में पुलिस की भूमिका पर सवाल..
शहर के गार्डलाइन क्षेत्र में  चर्चित समाजसेवी के जुआ फड़ पर लंबे समय से जुआड़ियों की महफिल सजने की जानकारी मुहल्ले के लोगो से लेकर जिले भर के हर उस व्यक्ति को हे जो जुआ खेलने का शौक रखता है। यहा पर जब कभी  कोतवाली पुलिस कार्रवाई करने के लिए रवाना होती है उसके पहले ही समाज सेवी को सूचना मिल जाती है जिससे जहां पर प्रायोजित लोगों को पेश करके जुआ पकड़ने की कार्यवाही की औपचारिकताएं ही पूरी की जाती रही है। इसी तरह देहात थाना के बांसा गौ शाला क्षेत्र में इसी समाजसेवी के एक बड़े जुआ फड़ संचालन को एक विधायक के तथाकथित संरक्षण में पिछले कुछ महीनों से होने की चर्चाएं सरगम रही हैं। आज भी जो कार्रवाई हुई है उसके पीछे उपरोक्त विधायक की नाराजगी होना बताया जा रहा है। वहीं पुलिस के हाथ जो लोग लगे हैं वह भी प्रायोजित बताए जा रहे हैं।

करोड़ों के क्रिकेट सट्टे के बावजूद नाम मात्र की कार्रवाई..

आईपीएल के सीजन में जिले भर में प्रतिदिन क्रिकेट के सट्टे पर लाखों के दांव लग रहे हैं अकेले दमोह शहर में बड़े स्तर पर हर बाल व हर ओवर पर दांव लगाए जा रहे है। इसकी जानकारी कोतवाली पुलिस से भी छिपी नहीं है। वही पुलिस द्वारा जब कभी की जाने वाली कार्यवाही भी औपचारिक साबित हो रही है। आईपीएल का सट्टा पुलिस के लिए सोने की अंडा देने वाली मुर्गी साबित हो रहा है। सारी जानकारी कोतवाली टीआई और उनके स्टाफ को होने के बावजूद जब कभी होने वाली कारवाही को भी उजागर नहीं करना अब पुलिस की नियति बन गई है। 2 दिन पूर्व  कचैरा बाजार क्षेत्र से पकड़े गए  एक जुआ तथा क्रिकेट सट्टे की कार्रवाई पर पर्दा इसका ताजा बड़ा उदाहरण कहा जा सकता है। कोतवाली पुलिस द्वारा जुआ सट्टा के मामले में मनमानीं की एक वजह सुबह से रात तक कुछ खबरचियो की कोतवाली में आवक जावक बनी रहना भी बताया जा रहा है। पिक्चर अभी बाकी है

Post a comment

0 Comments