Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

वन रक्षक पर कुल्हाड़ी से हमला करने वाले 4 आरोपियों पर जबेरा पुलिस का शिकंजा.. सागौन कटाई में प्रयुक्त कुल्हाड़ी, आरा एवं तीन बाइक जप्त.. इधर हिंडोरिया थाना के एरोरा में वन कर्मी पर हमले के 3 आरोपियों की जमानत निरस्त..

 पुलिस ने वन कर्मी की हमलावरों को गिरफ्तार किया..
दमोह। जबेरा थाना अंतर्गत बीती रात वन कर्मी जोगिंदर सिंह पर कुल्हाड़ी से हमला करने वाले चार आरोपियों को पुलिस ने 12 घंटे के अंदर गिरफ्तार करके उनके कब्जे से हमले में प्रयुक्त कुल्हाड़ी, लकड़ी कटाई में प्रयुक्त आरा तथा तीन बाइक जप्त करने में सफलता हासिल की है।
जबेरा थाना प्रभारी के के तिवारी ने बताया कि जबेरा के विजय सागर बीट मैं ड्यूटी पर तैनात वनरक्षक जोगिंदर सिंह द्वारा शारदा अहिरवार एवं साथियों को सागौन के पेड़ काटने से रोकने की कोशिश की गई थी जिस पर से गुस्साए आरोपियों ने कुल्हाड़ी से बीट गार्ड जोगिंदर के पीर पर हमला करके गंभीर रूप से घायल कर दिया था। जिस पर आरोपी शारदा एवं अन्य के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया गया था। 
एसपी हेमंत चौहान, एएसपी शिव कुमार सिंह एसडीओपी तेंदूखेड़ा अशोक चौरसिया के निर्देशन में जबेरा थाना प्रभारी  के के तिवारी व पुलिस टीम ने त्वरित कार्रवाई करते हुए 12 घंटे के अंदर चार आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। गिरफ्तार आरोपी शारदा, मुकेश, अंगद एवं बलराम अहिरवार सभी निवासी बिछिया कॉलोनी जबेरा के हैं। 
पुलिस टीम में थाना प्रभारी के के तिवारी, प्रधान आरक्षक सुंदरलाल, आरक्षक भागवत, कल्याण सिंह, रघुराज सिंह, जालम सिंह, रन्मत सिंह, प्रशांत तिवारी, कमल सिंह के अलावा नगर रक्षा समिति के किरण पाटकर लखन झारिया और मिथुन चौधरी की उल्लेखनीय भूमिका रही। आरोपियों के कब्जे से अवैध लकड़ी ढलाई में प्रयुक्त होने वाली तीन बाइक पेड़ काटने में प्रयुक्त होने वाली आरा तथा हमले में प्रयुक्त कुल्हाड़ी बरामद की गई है इन सभी को न्यायालय में पेश किया जा रहा है।
वन कर्मी पर हमले के आरोपियों की जमानत निरस्त..
दमोह। जिले के हिंडोरिया थाना अंतर्गत एरोरा ग्राम में पिछले दिनों एक वन कर्मी पर प्राणघातक हमला करने के आरोपियों की दमोह कोर्ट में जमानत याचिका खारिज कर दी गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार आरोपी प्रहलाद पाल, प्रवेश पाल, रत्नेश पाल निवासी सलैया के द्वारा कोर्ट में जमानत हेतु याचिका दाखिल की गई थी। जिसे निरस्त कर दिया गया है। आरोपियों के खिलाफ फॉरेस्ट गार्ड मयंक विश्वकर्मा पर प्राणघातक हमला किए जाने के मामले में हिंडोरिया थाना में प्रकरण दर्ज किया गया था।

Post a comment

1 Comments

  1. 307 का मुकदमा होना चाहिये और शासकीय ड्यूटी पर शैतान कर्मी पर हमला

    ReplyDelete