Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

सितंबर के 22 वे दिन 24 पॉजिटिव रिपोर्ट.. 12 ने जीती कोरोना की जंग.. विधायक रामबाई भी कोविड से मुक्त.. पूर्व मंत्री मलैया परिवार ने जिला अस्पताल को जीवन रक्षक हाई नेसल फ्लो कैनुला मशीन भेंट की.. निजी अस्पतालों को कोरोना उपचार की छूट..

 दो दर्जन नए मरीज मिले एक दर्जन पुराने ठीक हुए

दमोह। सितंबर के 22 दिन दो दर्जन मरीजों की कोरोना पॉजिटिव आने से जिले में टोटल कोविड-19 केसों की संख्या 1429 हो गई है। इधर दर्जनभर मरीजों ने कोरोना का मत देकर घर वापसी की है जिससे करुणा की जंग जीतने वालों की संख्या 859 हो गई है। जबकि 409 मरीजों की रिपोर्ट आना अभी बाकी है।आज दो मरीजों की कोरोना के उपचार के दौरान मौत की जानकारी भी सामने आई है। जिनमें एक हटा के बालाजी वार्ड निवासी जैन समाज के बुजुर्ग बताए गए है। 

आज मिले 24 पॉजिटिव केस की डिटेल-


दमोह जिले में 22 सितम्बर 2020 को जो 24 पॉजिटिव केस सामने आए हैं, इनमे मेल 16 तथा फीमेल 08 मरीज हैं। फीमेल मरीज 24 से 72 वर्ष तथा मेल मरीज 26 से 75 वर्ष के बीच के हैं। नए मरीज वार्ड नं. 17 बटियागढ़ से 01, नियर गुरूनानक स्कूल से 01, दमोह से 02, कनारी पथरिया से 01, फुटेरा वार्ड 04 दमोह से 01, फुटेरा दमोह से 01, फुटेरा वार्ड दमोह से 01, बांसा तारखेडा से 01, नियर दमोह देहात थाना से 01, जबलपुर नाका दमोह से 03, सिविल वार्ड नं 02 से 01, सीएचसी कैंपस हिंडोरिया से 01, तीनगुल्ली दमोह से 01, सागर नाका हिरदेपुर से 01, एसपीएम नगर नियर शनिमंदिर से 01, नेमीनगर नियर जैन मंदिर से 01, सिंधी कैम्प निपयर झुलेलाल मंदिर से 01, इफ्रंट ऑफ गुरूनानक स्कूल से 01, नया बाजार दमोह से 01, डिस्ट्रक्टि हॉस्पिटल से 01, वार्ड नं. 01 पथरिया से 01 मरीज है। यह जानकारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉं तुलसा ठाकुर ने दी।
 

 पथरिया हटा से 12 कोरोना योद्धा हुए डिस्चार्ज

 दमोह जिले में 22 सितम्बर 2020 को आज पथरिया कोविड केयर सेंटर से 07 एवं हटा कोविड केयर सेंटर से 05 कोरोना योद्धा स्वस्थ्य होकर अपने घरों को रवाना हुए। इस प्रकार आज 12 कोरोना योद्धा डिस्चार्ज किये गए। जिनकों मिलाकर स्वस्थ्य होने वाले मरीजों की संख्या 859 हो गई है। सभी कोरोना योद्धाओं को स्वागत सम्मान के साथ उनके घरों की ओर रवाना किया गया।

मलैया परिवार ने जीवन रक्षक मशीन भेंट की..

पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया परिवार के द्वारा डॉ सुधा मलैया जी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में जिला अस्पताल दमोह के लिए लगभग 2.50 लाख रुपये कीमत की हाई नेसल फ्लो कैनुला मशीन प्रदत्त की गई है। यह मशीन  कोरोना के गंभीर मरीज के लिए एक जीवन रक्षक उपकरण है। जिसके माध्यम से माध्यम से मरीजों को प्रति मिनिट 15 लीटर से लेकर 60 लीटर तक ऑक्सीजन दिया जा सकता है।जिससे मरीजो को गंभीर हालत में बैंटिलेटर पर जाने से रोका जा सकता है और मरीजों की जान बचाई जा सकती है। साधुवाद..

पथरिया विधायक रामबाई भी कोरोना मुक्त हुई..

कोरोना की जंग जीतने वालों में पथरिया विधायक श्रीमती राम भाई गोविंद सिंह परिहार भी शामिल हो गई हैं उनके स्वस्थ होने की खबर लगने पर आज भोपाल स्थित आवास पर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा मिलने पहुंची तथा उन्होंने हाल-चाल जानते हुए स्वस्थ होने पर शुभकामनाएं दी। मंत्री जी ने बताया की आपके स्वास्थ्य के संबंध में माननीय मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन द्वारा भी निरंतर जानकारी ली गई है एवं मेरे माध्यम से अपना बधाई संदेश आपकी ओर भेजा है।

निजी चिकित्सालयों को कोविड-19 के मरीजों को उपचार देने हेतु पृथक से अनुमति प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं होगी-  कोविड-19 के परिदृश्य में मरीजों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है, इनमें से लक्षण रहित तथा कम लक्षण वाले मरीजों को होम आइसोलेशन तथा सी.सी.सी. में उपचार दिया जा रहा है, परंतु गंभीर लक्षणों वाले तथा ब्वउवतइपक मरीजों को उपचार हेतु ऑक्सीजन दिया जाना आवश्यक होता है। वर्तमान में ऑक्सीजन युक्त बिस्तरों की संख्या बढाये जाने हेतु प्रदेश की निजी चिकित्सा संस्थाओं में उपलब्ध ऑक्सीजन युक्त बिस्तरों को ऐसे गंभीर मरीजों के उपचार हेतु उपयोग में लाया जा सकता है। आयुक्त स्वास्थ्य मध्यप्रदेश ने उपरोक्त संबंध में निर्देशित किया है कि जिन निजी चिकित्सालयों में कोविड-19 के मरीजों को पृथक से रखे जाने की सुविधा है तथा ऑक्सीजन बिस्तर उपलब्ध है, ऐसे चिकित्सालय अपनी संस्था में कोविड-19 के मरीजों को उपचार प्रदान कर सकते है। ऐसे चिकित्सालय जिले की व्यवस्था के अनुसार कोविड-19 रोगियों की समस्त जानकारी चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी प्रदान करेंगें तथा जिला प्रशासन को सूचित करेंगे। निजी चिकित्सालयों को कोविड-19 के मरीजों को उपचार देने हेतु पृथक से अनुमति प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं होगी।

Post a comment

1 Comments

  1. बस निजी अस्पताल वाले मानव बने रहें दानव न बने

    ReplyDelete