Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

पन्ना में आदिवासी को खेत मे मिले आठ लाख के हीरे को हड़पने दो युवकों ने रची थी साजिश.. अपहरण के फर्जी मामले की जांच के दौरान पुलिस को मिले महत्वपूर्ण सुराग.. पुलिस ने जौहरी के साथ सहयोगी को गिरफ्तार कर हीरा बरामद किया.. एसपी ने किया फर्जीवाड़े का खुलासा..

पन्ना एसपी ने किया फर्जीवाड़े का पर्दाफाश..
पन्ना। जिले के बृजपुर थाना अंतर्गत ख़िरवा ग्राम निवासी रामविश्वास पिता जिठुआ गौड की बहन ममता को करीब चार माह पूर्व करीब आठ लाख कीमत का हीरा खेत मे काम करते हुए मिलने तथा उक्त हीरा पन्ना के छोटू जड़िया द्वारा अपने दोस्त शुभम जैन के साथ मिल कर आदिवासी ग्रामीण परिवार से छल पूर्वक हड़प लेने के घटनाक्रम का पन्ना पुलिस ने पर्दाफाश करने में सफलता हासिल की है।
 पन्ना में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में एसपी मयंक अवस्थी ने पूरे घटनाक्रम तथा रची गई साजिश का खुलासा किया। दरअसल उपरोक्त हीरा जमा करानेे की रसीद आदिवासी परिवार को  नहीं मिली  तो पिछले दिनों उन्होंने पन्ना के हीरा कार्यालय में जाकर पता किया तो वहां भी हीरा जमा नहीं होनेे जानकारी मिली। इसके बाद घटना की शिकायत ब्रजपुर थाने में दर्ज किए जाने पर पुलिस ने धारा 379, 420 का प्रकरण  दर्ज कर आरोपी छोटू जडिया, शुभम जैन को हिरासत में लेकर या पूछताछ की तो फर्जीवाड़े की परतें खुलती चली गई। 
 पुलिस टीमो द्वारा दोनो आरोपियो को बायपास रोड पन्ना से पुलिस अभिरक्षा मे लिया जाकर पूँछताछ की गई तो छोटू जडिया द्वारा बताया गया कि 3-4 माह पहले मैने शुभम जडिया के साथ मिलकर रामविश्वास से छलपूर्वक हीरा हडपने हेतु यह बोला था कि हम लोग तुम्हारा हीरा , हीरा कार्यालय मे जमा करवाकर अच्छी कीमत दिलवा देगे जिसकी पक्की रशीद भी तुम्हे मिलेगी ऐसा बोलकर हम लोग रामविश्वास से हीरा ले आये थे जिसे हम लोगो ने हीरा कार्यालय मे जमा नही किया अपने पास रख लिया है जो शुभम के पास है पुलिस द्वारा शुभम से पूँछताछ किये जाने पर उसके द्वारा हीरा अपने घर मे रखा होना बताया गया जिसे पुलिस द्वारा शुभम के घर से जप्त किया गया एवं हीरा का परीक्षण हीरा कार्यालय पन्ना से करवाया गया जो हीरा कार्यालय से हीरे का वजन करीब 3 कैरेट 29 सेन्ट को होना बताया जिसकी अनुमानित राशि 8 लाख रूपये है । दोनो आरोपियो को पुलिस अभिरक्षा मे लिया जाकर कब्जे से हीरा जप्त किया गया है। 
 प्रकरण के खुलासे में सराहनीय योगदान उक्त प्रकरण के खुलासा में थाना प्रभारी अजयगढ निरीक्षक अरविंद कुजूर, थाना प्रभारी बृजपुर उनि सिद्धार्थ शर्मा, थाना प्रभारी धरमपुर उनि सुधीर बैगी, चौकी प्रभारी सिविल लाइन उनि अभिषेक पाण्डेय, सउनि भानु मिश्रा , सउनि आर0एस0 पाण्डेय, आर0 धीरेन्द्र सिंह , सुरेन्द्र कुमार, गिरधारी साहू, वृषकेतु रावत, सर्वेन्द्र कुमार, पदम रावत सायबर सेल से आर नीरज रैकवार, आशीष अवस्थी, धर्मेन्द्र सिंह राजावत की महत्वपूर्ण भूमिका रही ।

Post a comment

0 Comments