Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

जबलपुर से बटियागढ़ वापस लौटे मजदूर का शव.. जंगल में फांसी के फंदे पर झूलता मिला.. एक सप्ताह पूर्व क्वॉरेंटाइन सेंटर से भागने के बाद परिजन तथा पुलिस को थी तलाश.. पीएम रिपोर्ट के साथ कोरोना टेस्ट रिपोर्ट से होगा मौत के कारणों का खुलासा....

क्वॉरेंटाइन सेंटर से भागा मजदूर फांसी पर लटका मिला
दमोह। बटियागढ़ कॉलेज स्थित क्वॉरेंटाइन सेंटर से एक सप्ताह पूर्व आधी रात को भागे मजदूर मरीज की तलाश पुलिस आज तक नहीं कर पाई थी लेकिन आज उसका शव जंगल में मिलने से सनसनी फैलते देर नहीं लगी। जानकारी लगते ही मौके पर ग्रामीणों की भीड़ एकत्रित हो गई वहीं बटियागढ़ थाना पुलिस ने जंगल में पहुंचने के बाद पंचनामा कार्यवाही करते हुए एफएसएल टीम की मौजूदगी में शव को पेड़ से नीचे उतरवाने के बाद पोस्ट मार्टम हेतु रवाना करवाया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही अब मौत के कारणों के साथ मृतक की कोरोना संबन्धी रिपोर्ट का पता लग सकेगा।
जानकारी के अनुसार बटियागढ़ थाना अंतर्गत मंगोला गांव का निवासी कल्लू पिता हीरा अहिरवार उम्र 47 वर्ष अन्य मजदूरों के साथ 19 अप्रैल को जबलपुर से वापस  लौटा था। जिसके बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बटियागढ़ में स्वास्थ्य परीक्षण के उपरांत उसे 14 दिन के क्वॉरेंटाइन में बटियागढ़ स्थित कॉलेज मैं रखा गया था जहां से 21 अप्रैल की रात उसके खिड़की तोड़कर क्वॉरेंटाइन सेंटर से भाग जाने पर 22 अप्रैल को बटियागढ़ थाने में सूचना दर्ज कराई गई थी। पुलिस तथा परिजन उसकी तलाश तो नहीं कर पाए लेकिन आज 29 अप्रैल को एक सड़ा गला शव जंगल में पेड़ से लटका मिलने की सूचना पर ग्रामीण जन और पुलिस जब मौके पर पहुंचे तो शव की पहचान कलू  के तौर पर की गई।
बटियागढ़ केरबना मार्ग पर स्थित शासकीय कालेज से करीब आधा किलोमीटर दूर जंगल में मिले शव को देख कर अंदाजा लगाया जा रहा है कि क्वॉरेंटाइन सेंटर से भागने के बाद कल्लू ने यह आत्मघाती कदम उठाया होगा लेकिन उसने यह कदम क्यों उठाया या पुलिस जांच का विषय है। वही उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट के साथ अब इस बात की भी आशंका जताई जाने लगी है कि कहीं यह मजदूर कोरेना संक्रमित तो नहीं था ? क्योंकि यह कोरोना प्रभावित क्षेत्र जबलपुर से 19 अप्रैल को लौट कर वापस आया था..
एसपी ने बताया भाई भाभी के साथ जबलपुर से लौटा था 
मजदूर कल्लू अहिरवार का शव जंगल में पेड़ से लटकता मिलने की घटना की पुष्टि करते हुए एसपी हेमंत चौहान ने बताया कि कल्लू अपने भाई भाभी के साथ 19 अप्रैल को जबलपुर से दमोह होते ही बटियागढ़ पहुंचा था जहां स्वास्थ्य परीक्षण के बाद तीनों को बटियागढ़ कॉलेज स्थित क्वॉरेंटाइन सेंटर में 14 दिन के लिए रखा गया था। जहां से वह 21/22 अप्रैल की दरमियानी रात भाग गया था जिस पर उसके खिलाफ बटियागढ़ थाने में धारा 188 के तहत प्रकरण भी पंजीबद्ध किया गया था। अब उसका शव  मिलने के बाद पुलिस मर्ग कायम करके जांच में जुटी हुई है।

Post a comment

0 Comments