Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

EOW भोपाल की जांच में 20 साल बाद डबाकरा योजना में 12 लाख से अधिक का घोटाला साबित.. पूर्व जनपद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष सहित 170 आरोपियों के खिलाफ.. दमोह की विशेष न्यायालय में चालान पेश..

170 आरोपियों के खिलाफ विशेष कोर्ट में चालान पेश
दमोह। 20 साल बाद डबाकरा योजना में 12 लाख से अधिक का घोटाला साबित हो सका है।  पूर्व जनपद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष सहित 170 आरोपियों के खिलाफ  इस बहुचर्चित मामले में दमोह के विशेष न्यायलय में EOW भोपाल में  दर्ज अपराध क्रमांक 13/99 की जांच उपरांत 13 फरवरी 2020 को चालान पेश किया गया।चालान पेश किए जाने के दूसरे दिन इसकी जानकारी सामने आई। जिसकों लेकर लोग करीब 25 साल पहले हुए इस घोटाले की यादे ताजा करते नटवरलाल किस्म के लोगों की कारस्तानी की एक बार फिर आपस में चर्चाए करते नजर आए। 
आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ, मुख्यालय भोपाल में दर्ज अपराध क्रमांक 13/99 जो कि दमोह जिले में सभी विकासखण्डों जिनमें दमोह पथरिया, हटा, पटेरा, बटियागढ़, तेंदूखेडा, जबेरा के अन्तर्गत महिला एवं बाल विकास विभाग एवं ग्रामीण विकास अभिकरण विभाग जिला दमोह द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामीण विकास कार्यक्रम के अंतर्गत जिला स्तर पर वर्ष 1993 से 1996 के मध्य चलाई जा रही डेवलपमेंट ऑफ वूमेन एण्ड चिल्ड्रन इन रूरल एरियाज डबाकरा योजना के अन्तर्गत पात्र गरीबी रेखा के नीचे की महिला हितग्राहियों को जीवनयापन हेतु रोजगार उपलब्ध कराने हेतु शासन द्वारा निर्धारित नीति निर्देशों के अंतर्गत राशि की सहायता गठित समूहों में से प्रत्येक समूह की प्रथम किस्त में 15, 000 रूपये तथा रोजगार के अच्छे कियान्वयन पाए जाने पर द्वितीय किस्त 10, 000 रूपये राशि प्रदान करने का प्रावधान था जिसके अन्तर्गत दमोह जिले में 171 डबाकरा समूहों का गठन किया गया था। जिसमें से 103 डबाकरा समूह कियाशील पाए गए तथा विकासखण्ड दमोह के 30 , पथरिया के 05 . हटा के 04 , पटेरा के 14 , तेदूखेडा के 07 तथा जवेरा विकासखण्ड के08 कुल 68 डबाकरा समूह फर्जी पाए गए, जिसमें 12, 10, 000 रूपये की राशि का गबन कर शासन को आर्थिक क्षति पहुंचायी गयी।

 उक्त प्रकरण में कुल 170 आरोपीगण हैं जिसमें मुख्य आरोपीगण श्री सतीश नायक पूर्व अध्यक्ष जनपद पंचायत दमोह , श्री मनोज राय, तत्कालीन जनपद पंचायत उपाध्यक्ष जिला दमोह, श्री पीएस मेंहर तत्कालीन परियोजना अधिकारी डीआरडीए  दमोह , श्रीमती हरीष नाहर ( एच० नाहर), जिला दमोह, श्रीमति सावित्री बाई तिवारी तत्का ) सहायक महिला एवं बाल विकास विस्तार अधिकारी विकास खण्ड हटा जिला दमोह, ओपी दीक्षित तत्कालीन विकास खण्ड अधिकारी जिला दमोह , श्री एसएल कोरी तत्का० परियोजना अधिकारी डी . आर . डी . ए . दमोह , हरप्रसाद अहिरवार उर्फ एच०पी० अहिरवार तत्का० सहायक विकास विस्तार अधिकारी विकास खण्ड तेन्दूखेड़ा जिला दमोह , श्रीमति क्रांति पचैरी , तत्कालीन महिला सुपरवाइजर जिला दमोह श्रीमति कुसुम दुवे , तत्कालीन मुख्य लिपिक डीआरडीए  दमोह एवं अन्य आरोपीगण के विरुद्ध विवेचना के दौरान आरोप सिद्ध पाये जाने से कुल 170 आरोपियों के विरूद्ध चालान दिनांक 13 फरवरी 2020 माननीय विशेष न्यायालय, दमोह में पेश किया गया है।



      आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ, मुख्यालय के मार्गदर्शन में तथा श्री नीरज सोनी , तत्कालीन पुलिस अधीक्षक , आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ , इकाई सागर वर्त पुलिस अधीक्षक प्रकोष्ठ इकाई जबलपुर एवं श्री धनंजय शाह , पुलिस अधीक्षक , आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ , इकाई सागर के मार्गदर्शन में विवेचना अधिकारी निरीक्षक , उमा नवल आर्य , द्वारा उक्त चालान पेश किया गया है , उक्त प्रकोष्ठ इकाई के अधि० ध् कर्मचारियों सूबेदार ( अ ) रोशनी सोनी , सहायक उपनिरीक्षक ( अ ) अतुल पंथी , आरक्षक रामसजीवन यादव , आरक्षक चालक रत्नेश गर्ग , अफसर अली एवं ए.डी.पी.ओ. दमोह हेमंत पाण्डे , श्री मनीष सोनी द्वारा चालान पेश किये जाने में विशेष योगदान दिया गया ।

Post a comment

0 Comments