Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

पीडीएस खाद्यान्न परिवहन में वन टू का फोर.. तेंदूखेड़ा क्षेत्र में गरीबों के अनाज की हेराफेरी का पर्दाफाश.. खाद्यान्न परिवहन करने वाले एक ट्रक से 72 बोरी गायब होने की जांच शुरू होते ही.. दूसरे ट्रक से बरामद हो गई खाद्यान्न की गायब बोरियां..

पीडीएस खाद्यान्न की हेराफेरी का मामला हुआ उजागर-
दमोह। राशन में सप्लाई होने वाले गरीबों के खाद्यान्न की हेराफेरी का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। जिले के विभिन्न क्षेत्रों में खाद्यान्न परिवहन का ठेका संचालित करने वाले तथाकथित लोग पीडीएफ के खाद्यान की हेराफेरी बेधड़क होकर करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं। जब कभी इनकी गड़बड़ी पकड़ी जाती है तो बाद में जांच के नाम पर खाद्य विभाग तथा नागरिक आपूर्ति निगम के कुछ अधिकारी इन को क्लीन चिट दे देते हैं। यही वजह है कि राशन दुकानों में पहुंचने वाले सस्ते गेहूं चावल का एक बड़ा हिस्सा गोदामों में पहुंचने के बाद खुले बाजार में बिक जाता है।
ऐसा ही एक घटनाक्रम तेंदूखेड़ा क्षेत्र में सामने आया है। जहां एक ट्रक में पीडीएफ के खाद्यान्न की 72 बोरियां कम पाए जाने का मामला उजागर होते ही गड़बड़ी करने वालो  ने दूसरे ट्रक के जरिए उपरोक्त बोरियों को भिजवा कर मामले को रफा-दफा कराने की चाल चलना शुरू कर दी है फिलहाल दोनों ट्रक तेंदूखेड़ा पुलिस थाने में खड़े हुए हैं लेकिन उम्मीद की जा रही है कि नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारियों की मेहरबानी से मामला ठंडे बस्ते में पहुचकर सुलझ जाएगा।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार रात ट्रक क्रमांक एमपी 20 जी 7371 से तेंदूखेड़ा तारादेही क्षेत्र का PDF  का खाद्यान्न रवाना हुआ था। लेकिन तेंदूखेड़ा तारादेही पहुंचने की वजह रात्रि में ही ट्रक सीधे समनापुर पहुंच गया। जहां 72 बोरी खाद्यान्न उतार कर जब ट्रक तेंदूखेड़ा पहुंचा तो इसमें बोरिया कम होने की शिकायत सोसायटी के एक कर्मचारी द्वारा नागरिक आपूर्ति निगम के स्थानीय अधिकारियों से करते हुए इसकी जानकारी कुछ मीडिया कर्मियों को भी दे दी। 
खाद्यान्न की हेराफेरी की पोल खुलते ही गड़बड़ी करने वाले लोगो दूसरे ट्रक में समनापुर से 72 बोरी  हेरा फेरी वाले खाद्यान्न को तेंदूखेड़ा रवाना करा दिया। इस ट्रक को चेकिंग के दौरान एसडीएम गगन बिसेन ने पकड़ कर थाने पहुंचाया। अब फुड इंस्पेक्टर से इस खाद्यान्न की जांच कराई जा रही है। 
जबकि खाद्यान्न परिवहन करने वाले ठेकेदार के लोग अब यह साबित करने की कोशिश में लगे हुए हैं कि एक ट्रक के पंचर हो जाने पर आधा माल उतार दिया गया था। जो दूसरे ट्रक से भिजवाया गया है। लेकिन सवाल यही उठता है कि तेंदूखेड़ा का माल समनापुर कैसे पहुंच गया। तथा कार्रवाई करने वालों को दोनों ट्रकों के चालको को भागने का मौका क्यों दिया गया। तेंदूखेड़ा से विशाल रजक

Post a comment

0 Comments