Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

रिश्तो का कत्ल करने वाले बेशर्मो के चेहरों पर नहीं दिखी शिकन.. बेवफा पत्नी और गुस्सैल बाप के हत्यारों पर पुलिस ने शिकंजा कसा.. दोनो हत्यारोपियों को कोर्ट ने भेजा जेल..

बेवफा पत्नी और गुस्सैल बाप के हत्यारोपी गिरफ्तार-
दमोह। अपनों के साथ अब रिश्तो की शीतलता कब किस बात पर फिल्मी स्टाइल में बगावत में बदल जाए कहना मुश्किल है। टीवी मोबाइल की चकाचौंध भरी दुनिया, नशे की जकड़ और खुदगर्जी की अकड़ मैं डूबी युवा पीढ़ी अपने आगे किसी को कुछ नहीं समझती। ऐसे में चाहे पालन पोषण करने वाला पिता हो या फिर अर्धांगिनी कही जाने वाली पत्नी   रिश्तो के कत्ल के ऐसे ही 2 मामले पिछले दो दिनों में लगातार सामने आए थे। जिनके आरोपियों को जब पुलिस ने हिरासत में लिया तो उनके चेहरे पर कहीं भी पश्चाताप के नामों निशान नजर नहीं आ रहे थे।
 दमोह जिले के तेजगढ़ थाना अंतर्गत माडन खेड़ा गांव के श्रीपाल झारिया ने सोमवार सुबह अपनी पत्नी की कुल्हाड़ी मारकर हत्या कर दी थी। दरअसल श्रीपाल अपनी युवा पत्नी मधु की जरूरतों को पूरा नहीं कर पा रहा था इधर गांव का ही एक हैंडसम युवक सुरेंद्र झारिया मधु को पसंद करता था जिससे करीब 6 माह से मधु अपने पति श्रीपाल को छोड़कर सुरेंद्र के साथ रहने लगी थी। किसी फिल्मी कहानी की तरह अचानक श्रीपाल को अपनी पत्नी की बेवफाई अखरने लगी और उसने मौका मिलते ही उसकी हत्या कर दी।
तेजगढ़ थाना पुलिस ने 24 घंटे के अंदर पत्नी हंता श्रीपाल को हिरासत में लेने के बाद जब उससे कत्ल की वजह पूछी  तो हत्यारोपी पति बड़ी बेशर्मी के साथ पत्नी की बेवफाई की बात करते हुए अपने किए पर किसी प्रकार का अफसोस नहीं होने की बात भी करता नजर आया। हत्यारे पति की गिरफ्तारी में जबेरा टी आई आरके गौतम और तेजगढ़ थाना प्रभारी कमलेश तिवारी और उनकी टीम का खास योगदान रहा आरोपी को कोर्ट में पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।
पिता के हत्यारे के चेहरे पर भी नहीं दिखी शिकन-
इधर नोहटा थाना अंतर्गत गढ़िया मानगढ़ गांव में रविवार दोपहर बच्चों के विवाद जैसी मामूली बात पर अपने पिता की कुल्हाड़ी मारकर हत्या कर देने वाले कलयुगी पुत्र नीलेश यादव को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। दरअसल नीलेश का पिता धनीराम यादव गांव के सरपंच से लेकर जबेरा जनपद का उपाध्यक्ष जैसे पद पर भी रहा था, जिस वजह से उसका पूरे गांव में दबदबा चलता था। लेकिन पिता को क्या पता था कि उसके इस दबदबे से उसी का बेटा चिढ़ता है। और शायद यही वजह रही कि गांव वालों पर पिता से अधिक अपना दबदबा बनाने कलयुगी बेटे  ने बच्चों के विवाद की आड़ लेकर कुल्हाड़ी से अपने ही पिता की हत्या कर दी।
नोहटा थाना प्रभारी सुधीर सिंह बेगी और उनकी टीम द्वारा हत्यारे पुत्र को हिरासत में लिए जाने के बाद भी उसके चेहरे पर किसी प्रकार के पश्चाताप या अफसोस के भाव नजर नहीं आ रहे थे। और वह हाथों में हथकड़ी धारण किए अपने ही अकड़ में पुलिस के साथ कोर्ट और फिर वहां से जेल जाता नजर आया।

Post a comment

0 Comments