Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

नशे के खिलाफ गांव गांव में अलख जगाने वाली सरपंच "छोटी बहू".. गैस सिलेंडर फटने से झुलसी.. जबलपुर ले जाते समय मौत.. भाशजचे पार्टी से विधान सभा चुनाव में रही थी प्रत्याशी..

नशे के खिलाफ अलख जगाने वाली "छोटी बहू" नही रही
दमोह। नशा मुक्त समाज की स्थापना को लेकर गांव गांव में लालपट्टी धारी भाइयों के साथ अलख जगाने वाली महिला नेत्री पथरिया से विधानसभा का चुनाव लड़ चुकी मंगोला सरपंच "छोटी बहू" अब इस दुनिया में नहीं रही। जिसने भी इस खबर को सुना सहसा भरोसा नहीं कर सका। लेकिन नियति के आगे किसी का बस नहीं चलता
दमोह जिले के मगरोन थाना अंतर्गत मंगोला ग्राम पंचायत से सरपंच छोटी बहू रविवार सुबह अपने घर में गैस चूल्हे पर चाय बना रही थी। अचानक धमाके के साथ गैस सिलेंडर फटने से वह पूरी तरह से झुलस गई। परिजनों ने तत्काल जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां से जबलपुर रेफर कर दिया गया लेकिन रास्ते में उनकी मौत हो गई। जिसके बाद परिजन शव वापस लेकर जिला अस्पताल आ गए। जहा पुलिस ने आगे की कार्यवाही करके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मगरौन थाना प्रभारी विकास सिंह मर्ग कायम कर घटना की जांच कर रहे हैं।
भगवती मानव कल्याण संगठन से जुड़कर तथा लंबे समय से शक्तिपुत्र महाराज की आशीर्वाद और कृपा से नशाबंदी और मांसाहार के खिलाफ महिला नेत्री के तौर पर आवाज बुलंद करते हुए गांव गांव में अलख जगाने वाली "छोटी बहू" को पिछले विधानसभा चुनाव में भा. शक्ति जन चेतना पार्टी ने पथरिया विधान सभा से अपना प्रत्याशी बनाया था। वह विधानसभा चुनाव तो नहीं जीत सकी थी लेकिन उन्होंने तत्कालीन विधायक और भाजपा प्रत्याशी लखन पटेल की जीत का गणित जरूर बिगाड़ दिया था। 
 इनके पति दशरथ सिंह एवं पुत्र भी गले में हमेशा लाल पट्टी धारण किए नशा मुक्त समाज की स्थापना हेतु सक्रिय भूमिका का निर्वाहन करने में अग्रणी रहे है। पति दशरथ सिंह के द्वारा पिछले वर्ष बटियागढ़ जनपद के एक भ्रष्ट सब इंजीनियर को लोकायुक्त के जरिए ट्रेप करा कर रिश्वत लेते हुए पकड़वाया गया था। सरपंच छोटी बहू के आकस्मिक निधन की खबर से ग्रामीण जनों से लेकर नशा मुक्ति की मुहिम से जुड़े आम जनों के अलावा भगवती मानव कल्याण संगठन परिवार और भारतीय जन चेतना शक्ति पार्टी के लोग भी हतप्रभ है। परमपिता परमेश्वर उनकी आत्मा को अपने चरणों में स्थान दें। और परिजनों को यह गहन दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें। ओम शांति शांति शांति.. अभिजीत जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments