Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

गुजरात स्वीट्स फैक्टरी मनसुख फ़ूड प्रोडक्ट्स पर छापामार कार्रवाई.. मिल्क केक स्वीट, खोवा, बालू शाही, नमकीन की सेंपलिग.. बिल्स, इनवॉइस, विक्रय रिकॉर्ड, स्टॉक रजिस्टर की जांच से हड़कंप..

गुजरात स्वीट्स के निर्माण स्थल पर छापा से हड़कंप- 
दमोह। प्रदेश भर में दूध मावा सहित अन्य खाद्य पदार्थो को लेकर चलाए जा रहे जांच अभियान छापामार कार्रवाई के मुकावले दमोह जिले में अभी तक की गई जांच कार्रवाई नाममात्र की रही है। आयल मिल, शुद्व घी बिक्रेताओं, मीठा, नमकीन, मसाले आदि निर्माण स्थल पर अभी तक कोई भी बड़ी छापामार कार्रवाई नहीं की गई है। कुछ स्थानों पर मावा मिष्ठान आदि की जब्ती तथा विनिष्टीकरण की कारवाई तक ही प्रशासन सीमित रहा है। इन सब हालातों के बीच चर्चित मिष्ठान ब्रांड गुजरात स्वीट्स के निर्माण स्थल यानि कारखाने पर छापमार जांच कारवाई के साथ सेंपलिंग की खबर से अन्य मिष्ठान ग्रुपों में हड़कंप के हालात बने हुए है।
दमोह कलेक्टर,दमोह तरुण राठी के निर्देश पर SDM रविन्द्र चौकसे के निर्देशन में तहसीलदार बबीता राठौर, नायब तहसीलदार विकास अग्रवाल एवं विजय साहू के साथ खाद्य सुरक्षा अधिकारी राकेश कुमार अहिरवाल, प्रीति राय, माधवी बुधौलिया ने संयुक्त कार्यवाही करते हुए दमोह के ग्राम आम चौपरा, जबलपुर रोड स्तिथ के गुजरात स्वीट्स एवं नमकीन की फैक्ट्री का औचक निरीक्षण किया एवं विभिन्न दुग्ध उत्पादों के नमूनें जांच हेतु लिए हैं। निरीक्षण में फैक्ट्री से खोवा, मैदा से निर्मित बालू शाही, गुजरात ब्रांड नमकीन एवं दूध से निर्मित मिल्क केक स्वीट के नमूनें जांच हेतु लिए हैं।

 निरीक्षण के दौरान फ़ूड लाइसेंस की प्रति स्पष्ट रूप से परिसर में प्रदर्शित नहीं पाई गई हैं। दूध एवं खोवा से निर्मित खाद्य पदार्थों के नमूनों को जांच हेतु भोपाल स्तिथ राज्य खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला भेजा गया है। जॉच रिपोर्ट प्राप्त होने पर अगर उक्त खाद्य पदार्थों के नमूनें मानक स्तर के नहीं पाए जाते हैं तो खाद्य विक्रेता/फैक्ट्री संचालक के विरुद्ध नियमानुसार वैधानिक कार्यवाही की जाएगी। निरीक्षण के दौरान परिसर में विभिन्न कमियों को दूर करने हेतु मौके पर ही फैक्ट्री संचालक को निर्देश दिए गए हैं। निरीक्षण के दौरान कार्यरत कर्मचारियों के मेडिकल फिटनेस प्रमाण पत्र नहीं पाए गए।


 फैक्ट्री संचालक को समस्त कार्यरत कर्मचारियों के मेडिकल फिटनेस प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं। फैक्ट्री में रखे खाद्य तेल,बेसन,दूध एवं अन्य खाद्य पदार्थों का स्टॉक रजिस्टर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं। फैक्ट्री के निरीक्षण में कच्चे खाद्य सामग्री खरीदने के बिल्स, इनवॉइस, तैयार खाद्य सामग्री के विक्रय का रिकॉर्ड, रॉ मटेरियल एवं तैयार खाद्य सामग्री का स्टॉक रजिस्टर, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का लाइसेंस ,खाद्य लाइसेंस, परिसर की स्वच्छता आदि की जांच की गई। निरीक्षण के दौरान फैक्ट्री में अपशिष्ट पदार्थ प्रबंधन एवं पेस्ट कंट्रोल प्रबंधन की समुचित व्यवस्था करने के निर्देश फैक्ट्री संचालक को दिए गए हैं।
प्रदेश भर में दूध मावा सहित अन्य खाद्य पदार्थो को लेकर चलाए जा रहे जांच अभियान छापामार कार्रवाई के मुकावले दमोह जिले में अभी तक आयल मिल, शुद्व घी बिक्रेताओं, मीठा, नमकीन, मसाले आदि निर्माण स्थल पर अभी तक कोई भी बड़ी छापामार कार्रवाई नहीं की गई है। वहीं रेलवे को सप्लाई की जाने वाली बिसलरी पानी की बाटले तय रेट से महंगी कीमत पर एजेंसी, सब एजेंसी एवं कटनी से दमोह लाकर धड़ल्ले से सप्लाई की जाती रही है।
 वहीं कुछ स्थानों पर मावा मिष्ठान आदि की जब्ती तथा विनिष्टीकरण की कारवाई तक ही प्रशासन सीमित रहा है। इन सब हालातों के बीच चर्चित मिष्ठान ब्रांड गुजरात स्वीट्स के निर्माण स्थल यानि कारखाने पर छापमार जांच कारवाई के साथ सेंपलिंग की खबर से अन्य मिष्ठान ग्रुपों में हड़कंप के हालात बने हुए है।

Post a comment

0 Comments