Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

बाहरी अपराधी बिगाड़ रहे हैं दमोह की फिजा.. पल्सर सहित पकड़े गए कंजर गिरोह के दो अन्तर्राज्यीय अपराधियों से लूट का खुलासा.. कटनी के कैनरा बैंक में जमा कर दी थी लूट की रकम..

 पल्सर सहित पकड़े गए कंजर गिरोह के दो बदमाश
दमोह । पुलिस अधिकारियों के तबादले के बीच  बाहरी क्षेत्रों से आने वाले अपराधी दमोह जिले में  वारदात को अंजाम देकर फुर्र हो जाते हैं। यह बात अलग है कि सीसीटीवी फुटेज और साइबर सेल की मदद से देर सबेर पुलिस के लंबे हाथ आपराधिक तत्वों की गर्दन तक पहुच जाते है। पिछले हफ्ते रेलवे स्टेशन क्षेत्र में एक वृद्ध के साथ हुई लूट के मामले में पकड़े गए दोनो आरोपी अंतरराज्यीय बदमाश निकले हैं। इनकी गिरफ्तारी को लेकर एसपी विवेक सिंह ने अहम खुलासा किया। 

दमोह के अग्रवाल स्कूल से रिटायर हुए भृत्य धन्नू उर्फ धनीराम पटैल निवासी धुवातला से 40 हजार की लूट करके 23 जुलाई को दो अज्ञात बदमाश फरार हो गए थे। रेलवे स्टेशन के समीप दिन दहाड़े हुई लूट की यह घटना लोगो के बीच भय का कारण बनी हुई थी। घटना के बाद सीएसपी मुकेश अविद्रा ने कोतवाली पुलिस के साथ मौके पर पहुच जांच पड़ताल की थी। वही आसपास के सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पल्सर सवार दो बदमाशों के बारे में पता लगा था। 

मामले में सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार साइबर सेल की मदद से पुलिस ने एक आरोपी को छतरपुर जिले से तथा दूसरे को कटनी के मुड़वारा रेलवे स्टेशन से सोते हुए पकड़ा। वही कटनी स्टेशन के स्टैंड से वारदात में प्रयुक्त  बाइक क्रमांक एमपी 65  एम एस 8502 को बरामद किया गया।  इधर जांच अधिकारी उप निरीक्षक मनोज गोयल, पंकज यादव व टीम ने बदमाशों को पकड़ जब पूंछतांछ की तो अनेक चौकाने वाले खुलासे हुए।
 कंजर गिरोह से ताल्लुकात रखने वाली दोनों आरोपियों में से एक रंजीत कंजर अनूपपुर का निगरानी शुदा बदमाश है। वही दूसरा ब्रजकिशोर कंजर छतरपुर जिले के कंचनपुर चंदला का रहने वाला है। कटनी के केनरा बैंक खाते से लूट की रकम 40 हजार भी बरामद कर ली गई है।
 पल्सर बाइक पर सवार होकर मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ और यूपी के विभिन्न क्षेत्रों में अनेक वारदातों को अंजाम दे चुके दोनों आरोपियों द्वारा अनूपपुर, छतरपुर सहित प्रदेश के अन्य जिलों एवं उत्तर प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में की गई वारदात के प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन भी हैं। इस लूट के खुलासे में कोतवाली निरीक्षक आरके गौतम, उप निरीक्षक मनोज गोयल, पंकज यादव, आरक्षक मनीष, राजेश, प्रदीप, राजेश गौर, प्रशांत दुबे एवं साइबर सेल से आरक्षक राकेश, सौरभ टंडन व अजीत दुबे की सराहनीय भूमिका रही है। एसपी विवेक सिंह द्वारा उक्त टीम को पुरस्कृत भी किया जा रहा है।
 बता दे कि पिछले कुछ महीनों में वाहरी कुख्यात अपराधी दमोह में आकर अपराध को अंजाम दे रहे हैं। चाहे नरसिंहगढ में घर में घुसकर महिला का मर्डर हो या फिर मादक पदार्थों की खेप लाने वाले तस्कर हो।  हो या फिर लोहा व्यवसायी से घड़ी करने वाले  धोखाधड़ी करने वाले शातिर जाल साज हो।  बाहरी  और पहले से हिस्ट्री शीटरों ने घटनाओं को अंजाम दिया है

Post a comment

0 Comments