Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

क्या संडे.. क्या सटरडे.. क्या नौतपा की चिलचिलाती धूप.. कलेक्टर का जूनूनी मिशन जारी.. पहुंच विहीन क्षेत्रो के देखे हालात.. नेताओं को खटक सकती कलेक्टर की बढ़ती लोकप्रियता...

गॉंवों में घुमकर समस्याओं के समाधान के दिए निर्देश- 
दमोह। नौतपा की भीषण गर्मी में संडे और सटरडे के अवकाश को तिलांजलि देकर दूरस्थ गांव के हालात देखने ग्रामीणों की समस्याओं को समझने और इनके निराकरण के निर्देश अधिकारियों को दे रहे कलेक्टर नीरज कुमार सिंह की जूनूनी कार्य प्रणाली भले ही उनके सहयोगियों को रास नहीं आ रही हो लेकिन समस्याग्रस्त ग्रामीणों के बीच उम्मीद की किरण जगा रही है। हालांकि आने वाले दिनों में कलेक्टर के यह जूनूनी तेवर कतिपय नेताओं तथा उनके चमचों की आंखों में खटकने वाले भी साबित हो सकते है। क्यों कि कोई जनप्रतिनिधि नही चाहता कि उनके अलावा कोई अफसर जनता में लोकप्रियता हासिल करें या जनता का हीरों बने। 
 दमोह के लोग 2005-06 में युवा कलेक्टर रहे राघवेंद्र सिंह तथा 2015-16 में कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह की सक्रिय कार्यप्रणाली को आज भी याद करते है। लेकिन यही सक्रियता और जनता के बीव उनकी लोकप्रियता ही दमोह से उनकी आकस्मिक विदाई की बजह बनी थी। कम समय में जिस तरह से वर्तमान डीएम एनके सिंह ने अपनी कार्यप्रणाली के जरिए लोगों का ध्यान आकर्षित किया है। आज जिस तरह से जिले के दूरस्थ पहुंचविहीन इलाकों में पहुंचकर कलेक्टर धूप में ग्रामीणों से रूवरू हुए तथा बिना शासकीय खर्च के वह तालाब जीर्णोद्वार की मुहिम में जुटे हुए उसे देखकर हम जैसे आलोचक भी इतना सब कुछ लिखने को मजबूर हो गए। उनका इस तरह का जूनूनी अंदाज आगे भी जारी रहे तथा जिले के इतिहास में उनका नाम लोग लंबे  समय तक काम करने वाले अधिकारी के तौर याद रखे.. ऐसी उम्मीद के साथ आगे की खबर PRO वाय के कुरैशी की कलम से है।

कलेक्टर नीरज कुमार सिंह की कार्यशैली किसी से छिपी नहीं है, तेज गर्मी में जिला मुख्यालय छोड़कर कभी साइकिल चलाकर तो कभी शासकीय वाहन से ग्रामीण क्षेत्रों में योजनाओ की समीक्षा करना और ग्रामीणों के बीच पंहुचकर लोगों की समस्याओं का निराकरण करना उनकी दिनचर्या में समाहित है। मडियादों क्षेत्र से लगातार जलसंकट की खबरें मिलने के बाद संवेदनशील कलेक्टर ने आज ग्राम पंचायत घोघरा के जुनेरी और ग्राम पंचायत चोरइया के बंजारा टोला कलकुआ गांव में लोंगो के बीच पंहुचकर उनकी समस्याएं सुनकर सबंधित विभागों के अधिकारियों को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होने पी.एच.ई. विभाग से कहा कि यहा जलसंकट निदान तत्परता से किया जायें।
कलेक्टर श्री सिंह ने कहा जिले की सभी पंचायतो में जलसंरक्षण कि दिशा में कार्य करने के निर्देश दिये गए है और कार्य शुरू भी हो गये है। उन्होंने कहा सी.ई.ओ. जिला पंचायत जलसंरक्षण कार्यों की मोनिटरिंग कर रहे है। गॉवों मे भी आज यहा मैने तालाब का कार्य देखा है काम अच्छा चल रहा है। उन्होने कहा ग्राम घोघरा में तालाब के समीप एक साईट देखी है, वहॉ तालाब गहरीकरण और जीर्णोद्धार किया जायेगा । श्री सिंह ने कहा मेने आज वस्तु स्थिति देखी है सभी सबंधित समस्याओ का निराकरण किया जायेगा। जिला कलेक्टर ने जुनेरी में श्रमदान से चल रहे तालाब निर्माण का निरीक्षण किया और गांव पंहुचकर पानी, राशन, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं पर लोगों से चर्चा की, साथ ही जुनेरी गांव से मुख्य मार्ग स्कूल तक सड़क निर्माण के लिये भी पँचायत एजेंसी को कार्य कराने के निर्देश दिए।
 उसके बाद कलेक्टर चोरइया ग्राम पंचायत के बंजारा टोला गांव की लोगों की मांग पर यंहा हैंडपंप नलकूपों का निरीक्षण कर पी एच ई विभाग को नया नलकूप कराने के निर्देश दिए, साथ ही ग्रामीणों के साथ जलसंकट की स्थिति का जायजा लेने पैदल ही चलकर तालाबों और जलाशयों का निरीक्षण किया। साथ ही बंजारा टोला गांव में 2 नए नलकूपों के लिये भी पी.एच.ई विभाग को निर्देश दिए । कलेक्टर को अपने बीच पाकर आदिवासी और बंजारा समाज के लोगों ने अपनी बुनियादी समस्याओं को सामने रखा।
कलेक्टर ने कालिया बाई की समस्या सुनी और त्वरित निराकरण के निर्देश देते हुये ग्राम के 3 निःशक्त बच्चों को निःशक्त पेंशन देने के लिये कहा। साथ ही कलेक्टर ने ग्राम जुनेरा टोला से मुख्य मार्ग तक सडक निर्माण और दो पुलिया की मांग पर कार्यवाही के निर्देश दिये। उन्होंने एसडीएम हटा नाथूराम गौड़ को निर्देशित किया जो गरीबी रेखा से उपर है उनके नाम सूची से हटाये जायें और जो वास्तविक पात्र है, उनके नाम सूची में जोड़े जायें।
फुटेरा तालाब पर श्रमदान करने जुटे सामाजिक संगठन
दमोह। कलेक्टर नीरज कुमार सिंह आज सुबह 6 बजे ग्राम बॉदकपुर पहुॅंचे। वहा से क्षेत्र का भ्रमण करते हुये वे फुटेरा तालाब में पहुॅच कर श्रमदान कार्य में सहभागिता निभाई। यहॉं पर आज आदिमजाति कल्याण विभाग द्वारा श्रमदान ओआईसी डिप्टी कलेक्टर संजीव साहू के नेतृत्व में किया जा रहा था, ज्ञात हो कि फुटेरा तालाब में प्रतिदिन किसी ना किसी शासकीय विभाग द्वारा श्रमदान किया जा रहा है। यहॉं पर बडी संख्या मे विभिन्न समाजिक सगठनों के लोग दैनिक पत्रिका के वेनर तले श्रमदान कर रहे थे। कलेक्टर श्री सिंह ने भी करीब आधा घंटा सभी के साथ श्रमदान किया।

Post a comment

0 Comments