Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

रिश्वतखोर सहायक आयुक्त पर सागर लोकायुक्त का शिकंजा.. बीस हजार रुपए की रिश्वत के साथ प्रभारी सहायक आयुक्त और सहायक ग्रेड 3 को रंगे हाथों पकड़ा..

कारण बताओ नोटिस फाइल करने ली थी रिश्वत-
सागर। भीषण गर्मी और लोकसभा चुनाव की सरगर्मी के बीच सागर लोकायुक्त की टीम ने फिर एक रिश्वतखोर अधिकारी पर शिकंजा कसते हुए रंगे हाथों पकड़ कर रिश्वतखोरो के बीच हड़कंप के हालात निर्मित कर दिए हैं। लोकायुक्त एसपी रामेश्वर यादव के निर्देशन में टी आई बीएम द्विवेदी एवं मंजू सिंह की टीम ने कार्यालय सहायक आयुक्त में पहुंचकर कार्यवाही करते हुए एक साथ 2 रिश्वतखोरो को पकड़कर करवाई की।
बीना के शासकीय जूनियर अनुसूचितजाति बालक छत्रावास में पदस्थ सतीश गोलंदाज अध्यापक/छत्रावास अधीक्षक ने लोकायुक्त सागर से शिकायत की थी कि केके सूर्येश प्रभारी सहायक आयुक्त जनजाति कार्य विभाग सागर के द्वारा कारण बताओ नोटिस फाइल करने के एबज में एव आवेदक के वेतन वृद्धि के ऐरियश लगाने के एबज में 10-10 हजार रुपये की रिश्वत की मांग की है रही है। जिसके बाद आज वुधवार 8 मई को दस-दस हजार पृथक पृथक लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया
लोकायुक्त टीम ने प्रभारी सहायक आयुक्त केके सूर्यस को मुख्य् आरोपी तथा सहायक ग्रेड 3 जनजातीय कार्य विभाग सागर सुरेंद्र सिंह गौर को सह आरोपी बनाते हुए रिश्वत राशि 20 हजार रुपयों के साथ इनके कपड़ो को भी जब्त करके भ्रष्टाचार अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत कार्रवाई की है। दिन दहाड़े लोकायुक्त छापे की कार्रवाई से सहायक आयुक्त कार्यालय में हड़कंप के हालात बने रहे तथा लोग यहां पर खुलेआम चलने वाले रिश्वतखोरी के खेल की चर्चा करते रहे।

Post a comment

0 Comments