Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

नशीले मादक पदार्थ डोडा चूरा की बुंदेलखंड में दस्तक.. दमोह पुलिस ने एक लाख के डोडा चूरा के साथ तस्कर को दबोचा, नोहटा क्षेत्र में थी खपाने की तैयारी...

 नोहटा क्षेत्र में जा रहे हैं डोडा चूरा के साथ तस्कर पकड़ा
दमोह। मंदसौर नीमच इलाके में अफीम के साथ उगाए जाने वाले डोडा चूरा के नशे ने अब बुंदेलखंड में भी दस्तक के साथ अपनी जड़ें जमाना शुरू कर दी है। पुलिस ने एक डोडा चूरा तस्कर के पास से करीब एक लाख कीमत का डोडा चूरा बरामद किया गया है। जो नोहटा क्षेत्र में खपाने के लिए ले जाया जा रहा था।
दमोह कोतवाली में गुरुवार दोपहर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में एडिशनल एसपी विवेक लाल ले मामले को लेकर पत्रकारों को जानकारी दी। इस मौके पर सीएसपी मुकेश अविद्रा, टी आई रविंद्र गौतम के साथ डोडा चूरा तस्कर को पकड़ने वाली पुलिस टीम की मौजूदगी रही। बताया जा रहा है कि कोतवाली पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि भोपाल से आने वाली बस में सवार एक व्यक्ति डोडा चुरा ले कर दमोह पहुंच रहा है। जिस पर एसपी विवेक सिंह के निर्देशन में कोतवाली टीआई आरके गौतम ने उप निरीक्षक शिवानी गुप्ता के नेतृत्व में पुलिस टीम को बसस्टेंड भेजा।
बसस्टेंड पर एक व्यक्ति को थैला में रखें डोडा चूरा के पैकेटों के साथ रंगे हाथों पकड़े जाने के साथ कोतवाली लाया गया जिसके पास से 3 किलो 900 ग्राम डोडा चूरा बरामद किया गया है। जिसकी कीमत करीब एक लाख रुपए बताई जा रही है। डोडा चूरा तस्कर का नाम भगुन पिता भैया लाल लोधी बताया गया है। जो  डोडा चूरा को नोहटा थाना के घाघरी गांव लेकर जा रहा था। आरोपी की गिरफ्तारी में उप निरीक्षक शिवानी गुप्ता सहायक उपनिरीक्षक बीआर पटेल प्रधान आरक्षक मनीष यादव आरक्षक सूर्यकांत घनश्याम और महेश की उल्लेखनीय भूमिका रही। आरोपी के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।
एसपी विवेक सिंह ने डोडा चूरा तस्कर को पकड़ने वाली पुलिस टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है। आपको बता दें कि दमोह जिले में है पहला मौका है जब मादक पदार्थ डोडा चूरा पकड़ा गया है। इसके पहले कब से ग्रामीण क्षेत्रों में इसे खपाया जा रहा था इसकी जांच में पुलिस जुटी हुई है। ग्रामीण इलाको में ओला चुराके डोडा चुरा के काले कारोबार में और किन-किन लोगों के हाथ संलग्न है इसकी भी जांच की अपेक्षा वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से आम नागरिकों द्वारा की गई है।
अजीत सिंह के साथ अभिजीत जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments