Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

पानी की समस्या को लेकर ग्रामीण युवाओं को.. प्रदर्शन करना महंगा पड़ा.. सरपंच ने दर्ज करवाई SCST एक्ट की FIR.. फर्जी रिपोर्ट की जांच कराने एसपी को ज्ञापन..

 फर्जी रिपोर्ट की जांच कराने एसपी को ज्ञापन..

दमोह जिले में गर्मी बढ़ने के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में जल संकट गहराने लगा है ऐसे ही कुछ हालत में मडियादो ग्राम पंचायत में पिछले महीने जल संकट को लेकर आंदोलन प्रदर्शन करने वाले युवाओं के खिलाफ सरपंच द्वारा फर्जी  एफआईआर दर्ज कराए जाने तथा कुछ लोगों पर एससी एसटी एक्ट का झूठा मामला दर्ज करा ने का मामला सामने आया है। जिसको लेकर आज एसपी को ज्ञापन सौंपते हुए जांच कर फर्जी रिपोर्ट में खात्मा लगाए जाने की मांग की गई है..

  दमल पुलिस अधीक्षक महोदय को सौपे गए ज्ञापन में जानकारी देते हुए प्रवेंद्र चंद्राकर ने बताया कि दिनांक 13 अप्रैल को मडियादो ग्राम पंचायत में विकट जल समस्या से ग्रामीण जन जूझ रहे है जिस संबंध में ग्रामीण जनो ने अपनी आवाज को विभिन्न जनप्रतिनिधियो के समक्ष भी रखा किंतु पानी से निजात नहीं मिला।

पानी

उसी समय 13 अप्रैल को अपने 25-50 साथियों के साथ शांति पूर्वक ढंग से धरना प्रदर्शन किया था। किंतु वहां के सरपंच ने स्थानीय जन प्रतिनिधियों के इशारों पर निराधार मुकदमा दर्ज करवाया जिसमे युवाओं के भविष्य पर खतरा है लोकतंत्र में इस तरह के झूठे मुकदमे दर्ज कराने से युवा अपनी आवाज को शासन तक पहुंचाने में नाकामयाब होंगे।

ज्ञापन

मुकदमा दर्ज होने के पहले प्रदर्शनकारियों से पुलिस ने विवेचना भी नही की ओर मुकदमा दर्ज कर लिया गया जबकि प्रर्दशन के दौरान मेरा सरपंच से आमना सामना भी नही हुआ और मेरे ऊपर आईपीसी धारा 506, 294, 147 एवं मेरे कुछ साथीयों पर 506, 294, 147 और एससी एसटी एक्ट 3,1,10 का मुकदमा दर्ज किया गया पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देकर झूठे मुकदमे पर खात्मा लगाने की गुहार लगाई। मुकदमे में नाम राजेश गुप्ता, महेंद्र सिंह लोधी, रितिक दाहिया, दीनदयाल पटेल, मनीष तंतुवाय, जितेंद्र विश्वकर्मा के नाम शामिल है। 

Post a Comment

0 Comments