Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

आखिरकार 9 दिन बाद पकड़े गए काले हिरण के शिकारी.. जूडिसियल रिमांड पर आगे की पूछताछ के लिए लिया गया.. मुखबिर ही निकला काले हिरण का सर काटने वाला..

 दक्षिण वन मंडल द्वारा बरखेरा सिकंदर ग्राम में मिले काले हिरण के सिर के मामले में एक आरोपी को हिरासत में लिया गया और पूछताछ के दौरान उसने अपना जुर्म भी कबूल कर दिया है, दक्षिण वन मंडल ढाना रेंज द्वारा बुधवार को पकडे गए आरोपी को न्यायालय में पेश किया गया जहां आरोपी की रिमांड मागी गई न्यायालय द्वारा आरोपी रिमांड पर भेजा गया..

वन परिक्षे़त्र अधिकारी ढाना रेंज प्रतिक श्रीवास्तव ने बताया कि मामले में मुबखिर रहे हाकम पिता खिलान राजपूत निवासी बरखेरा सिकंदर से जब पूछताछ की गई की तुम्हे कैसे मालूम चला की बोरी में हिरण का ही सिर है,पूछताछ के दौरान आरोपी द्वारा अपना जुर्म कबूल कर दिया गया। जिसे न्यायालय में पेश किया जहां से जूडिसियल रिमांड पर आगे की पूछताछ के लिए लिया गया है। गौरतलब हो की 28 फरवरी को दक्षिण वन मंडल रेंज के बरखेरा ग्राम में नौरादेही अभ्यारण्य मोहली रेंजर नीरज विसेन व स्टाप ने मुखविर की सूचना पर ग्राम बरखेरा सिकंदर में एक किसान के घर के बाहर तार फेंसिंग के अंदर लकडी व गोबर के कंडो के बीच सफेद रंग की प्लास्टिक की बोरी में काले हिरण का सिर मिला था, जिसमें शुरूवात में किसान व उसके बेटे को आरोपी बनाया गया था
डाग स्कार्ट, एफएसएल द्वारा भी जांच की गई थी बाद में पूछताछ कर दोनो को छोड दिया गया था।नौरादेही अभ्यारण्य मोहली रेंज स्टाप से मामला क्षेत्राधिकार के कारण दक्षिण वन मंडल के पास आया था। जिसमें टीम गठित कर मामले की विवेचना शुरू की गई थी, जिसके बाद एक एक कर जैसे जैसे टीम ने सवालो को सुलझाया, आरोपी के करीब पहुचते गए। मामले के 9 दिनो बाद टीम द्वारा आरोपी को हिरसत में ले लिया गया। आरोपी को पकडने के लिए बनाई गई टीम में डीएफओ दक्षिण वन मंडल के निर्देशन में परिक्षेत्र सहायक कुअर सिंह राजपूत, वन रक्षक जितेन्द्र चौबे, जगमोहन दुबे, अखलेष श्रीवास्तव,व एसएएसटी टीम गौरक्षामर से दो जवान शामिल थे। विशाल रजक की रिपोर्ट

Post a Comment

0 Comments