Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

अब लाल पट्टी वालों ने ग्राम पंचायत में हो रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ किया शंखनाद.. सारसबगली में हुए फर्जीवाड़े के खिलाफ ग्रामीणों का अनशन दूसरे दिन भी जारी.. इधर तेंदूखेड़ा जनपद के सीईओ ने 4 सदस्यीय टीम गांव भेजकर 5 दिन में जांच के आदेश दिए..

 जांच कराने दूसरे दिन भी जारी रहा अनशन..

दमोह। जिले में पंचायती राज व्यवस्था के तहत वन टू के फोर जैसे हालात किसी से छिपे नहीं है। तथाकथित नेता अधिकारी ठेकेदारों की तिकड़ी के भ्रष्टाचार की चौकड़ी भरने से जहा आगे पाठ पीछे सपाट जैसे हालात अधिकांश ग्रामीण क्षेत्रों में देखे जा सकते हैं वही लगातार फल-फूल रहे इस भ्रष्टाचार के वटवृक्ष से निकलने वाला कमीशन के फल का स्वाद चखने में तथाकथित खबर नवीस भी पीछे नहीं है।


फिलहाल हम बात कर रहे हैं तेंदूखेड़ा जनपद अंतर्गत आने वाले सारस बगली ग्राम पंचायत की जहां मशीनों से काम कराके मजदूरों के हक पर डाका डालने वाले पंचायत प्रतिनिधियों के फर्जीवाड़े की जांच की मांग को लेकर भगवती मानव कल्याण संगठन से जुड़े उन लोगों की जो 2 दिन से अनशन पर बैठे हुए हैं ग्रामीणों के नाम पर फर्जी मास्टरों के जरिए जहां हजारों रुपए मजदूरी हड़पे जाने की शिकायत है यह लोग कलेक्टर से लेकर जिला पंचायत के सीईओ तक से कर चुके हैं वही कार्यवाही नहीं होने पर अनशन चेतावनी भी दे चुके थे। सोमवार से सारसबगली गांव के पीपल के पेड़ के नीचे चबूतरे पर अनशन पर बैठ जाने के बाद चार सदस्यों की जांच टीम ने भी गांव पहुंच गए इनको समझाए सीधी लेकिन उन्होंने अपना अनशन खत्म नहीं किया।

 जांच टीम प्रभारी सहायक यंत्री केवी पटेल का कहना है की उन्होंने पंचायत रिकॉर्ड देने को कहा है तथा उनकी टीम 5 दिन में जांच पूरी कर के सीईओ विनोद जैन को अपनी रिपोर्ट देगी। यदि पंचायत दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराएगी तो सारे कार्यों को शून्य कर दिया जाएगा। भगवती मानव कल्याण संगठन से जुड़े कमलेश पाल ने बताया कि हम लोग पिछले 6 वर्षों से सरपंच सचिव और रोजगार सहायक से प्रताड़ित हैं। और अब हम लोग अनशन पर बैठ चुके हैं और हम लोग तब तक नहीं हटेंगे जब तक दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती। बलराम यादव के साथ विशाल रजक की रिपोर्ट

Post a Comment

0 Comments