Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

नशे में रफ्तार का कहर.. दिल्ली में लॉकडाउन के बाद वापिस लौट रहे मजदूरो से भरी बस ग्वालियर के पास पलटी.. छतरपुर टीकमगढ़ जिले के तीन मजदूरों की मौत, अनेक घायल.. जोराशी घाटी में हादसे के पहले बस के ड्राइवर कंडक्टर ने धौलपुर में जमकर पी थी शराब..

 छतरपुर टीकमगढ़ जिले के मजदूरों से भरी बस पलटने से तीन की मौत..

दिल्ली/ग्वालियर। दिल्ली में लॉकडाउन के ऐलान के साथ मजदूरों के पलायन का दौर तेज हो गया है। इसी कड़ी में बुंदेलखंड के मजदूरों को साधनों के अभाव में पुरानी खटारा बसों में अधिक किराया देकर वापस लौटना पड़ रहा है। इतना ही नहीं बसों में तीन गुनी सवारियां भरी जा रही है जो हादसे की वजह बन रही है मंगलवार सुबह मजदूरों से ओवर लोड एक बस डबरा ग्वालियर के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई। जिससे 3 मजदूरों की मौत हो जाने, करीब दर्जन भर के घायल होने की खबर सामने आई है। 
बताया जा रहा है कि छतरपुर टीकमगढ़ जिले के मजदूरों को लेकर दिल्ली के सराय काले खां और निजामुद्दीन स्टेशन से यह बस बुंदेलखंड के लिए रवाना हुई थी। बस में क्षमता से अधिक सवारियों की वजह से अंदर करीब 70 से अधिक मजदूर भरे हुए थे। वही अनेक मजूदर अपने भारी भरकम समान के साथ बस के ऊपर भी बैठे हुए थे। बताया जा रहा है कि रास्ते में धौलपुर में बस के ड्राइवर कंडक्टर ने जमकर शराब पी थी। जिसके बाद पहले एक ट्रक को टक्कर मारने के बाद में डबरा के पास जोराशी घाटी पर यह बस पलट गई। 
मंगलवार सुबह हुए हादसे के बाद मजदूरों ने जैसे तैसे बस के बाहर निकल कर अपनी जान बचाई। लेकिन तब तक तीन मजदूरों की जान जा चुकी थी। घटना की जानकारी लगते ही आसपास के थाना क्षेत्रों की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और और घायलों को नजदीक के अस्पताल भिजवाया गया। जहां उनका इलाज जारी है। घायल मजदूरों ने बताया कि बस में एक सीट पर डबल सवारिया बैठाई गई थी वही इतनी ही सवारियां खड़ी हुई थी। सभी से सात सात सौ रुपए किराया लेने के बाद भी बैठने को जगह नही दी गई थी।
 घटना की जानकारी लगते ही ग्वालियर एसपी अमित सांघी सहित पुलिस व परिवहन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी भी मौके पर पहुंचे तथा उन्होंने घटना की जानकारी लेकर और जांच के निर्देश दिए है। इस हादसे की वजह से बुंदेलखंड में रोजगार के अभाव मजदूरों के पलायन और दिल्ली में लाख डाउन के बाद मजदूरों की वापसी के हालात ने शासन की योजनाओं और मजदूरों की दुर्दशा भरे हालात की कलई खोलकर रख दी है।

Post a comment

0 Comments