Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

नहीं रहे वरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्री खेमचंद जी बजाज.. करीब 95 वर्ष की आयु में किया नश्वर काया का त्याग.. 6 मार्च को राजकीय सम्मान के साथ दी जाएगी अंतिम विदाई.. केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल शोक संवेदना व्यक्त करने पहुंचे..

 नहीं रहे वरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्री खेमचंद जी बजाज 

दमोह। वरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्री खेमचंद जी बजाज बलेह वाले अब हमारे बीच में नहीं रहे जिसने भी यह खबर सुनी पहले तो वह विश्वास ही नहीं कर सका। लेकिन पारिवारिक सूत्रों से जब दादा के नहीं रहने की पुष्टि हुई तो शोक संवेदना व्यक्त करने उनके निवास पर पहुंचने वालो का तांता लगना शुरू हो गया।

आजादी की लड़ाई में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले गांधीवादी समाजसेवी वरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी दादा खेमचंद जी बजाज ने 5 मार्च को दोपहर करीब 12 बजे असाटी वार्ड दिल्ली वाला कारखाना स्थित निज निवास में अंतिम सांस ली।  सेनानी श्री बजाज को 6 मार्च को सुबह 9 बजे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी जाएगी। उनकी अंतिम यात्रा असाटी वार्ड दिल्ली वाला कारखाना से हटा नाका मुक्तिधाम जाएगी। 

करीब 95 वर्ष की आयु में इस नश्वर काया का त्याग करने वाले सेनानी श्री बजाज अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़कर गए है। उनके निधन की खबर सुनकर उनके बड़े बेटे कुंडलपुर कमेटी के उपाध्यक्ष वीरेंद्र बजाज एवं अनाज दाल मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेंद्र बजाज, छोटे बेटे अरविंद बजाज सहित परिवार के अन्य सदस्यों के पास शोक संवेदना व्यक्त करने के लिए लोगों का तांता लगा हुआ है। 

उनके निधन की जानकारी लगने पर दमोह सांसद और केंद्रीय मंत्री श्री प्रहलाद पटेल अपने व्यस्त कार्यक्रमों के बीच शुक्रवार शाम दमोह पहुंचे तथा सीधे असाटी वार्ड स्थित दिल्ली वाले कारखाने में स्वर्गीय बजाज के निवास पहुचे। जहां उन्होंने पुष्पांजलि अर्पित करते हुए दुखी परिजनों को सांत्वना दी। इस दौरान जिला भाजपा अध्यक्ष प्रीतम सिंह लोधी सहित अन्य नेता भी मौजूद रहे।

इधर प्रदेश के पूर्व वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया सहित अनेक नेताओ, सैकड़ो लोगो द्वारा श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए अपनी शोक संवेदना व्यक्त की गई है। शनिवार सुबह 9 उनकी अंतिम यात्रा हटा नाका मुक्तिधाम पहुंचेगी जहां राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार की क्रियाएं संपन्न की जाएंगी। परम पिता परमेश्वर दादा जी को अपने चरणों में स्थान दे और परिजनों को यह गहन दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें। ओम शांति शांति शांति..

Post a Comment

0 Comments