Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

सीधी रीवा बार्डर पर बाणसागर परियोजना की नहर में गिरी बस को बाहर निकाला गया.. दो दर्जन से अधिक नर्सिंग छात्राओ की मौत, 44 शव मिले.. मुख्यमंत्री के दमोह दौरा कार्यक्रम से लेकर कैबिनेट की बैठक भी निरस्त.. दो मंत्री हादसा स्थल पर पहुंचे..

 सीधी बस हादसे में दो दर्जन नर्सिंग छात्राओ की मौत

सीधी। रीवा-सीधी बॉर्डर पर छुहियाघाटी के नजदीक सीधी से सतना जा रही जो बस बाणसागर परियोजना की नहर में गिरकर दुर्घटनाग्रस्त हुई है उसमें करीब तीन दर्जन नर्सिंग की छात्राओं के होने की जानकारी सामने आई है। यह सभी नर्सिंग  परीक्षा देने के लिए सतना जा रही थी। लेकिन रास्ते में हादसे का शिकार होकर बस के साथ नहर में समा गई। 

 बसंत पंचमी के दिन हुई इस दिल दहला देने वाली दुखद घटना के बाद नहर से बस को बाहर निकाल लिए जाने के बावजूद अधिकांश यात्रियों की जिंदगी को नहीं बचाया जा सका है। मैहर से निकाली गई बस की कंडम हालत को देखकर  कहा जा सकता है कि  इस तरह की बसों को  फिटनेस सर्टिफिकेट देने  मैं कहीं ना कहीं  लापरवाही बरती गई है और रीवा आरटीओ की कार्यप्रणाली पर भी सोशल मीडिया पर सवाल उठाए जा रहे हैं। 


राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को पांच पांच  लाख रुपए देने की घोषणा की है वही प्रदेश कैविनेट  की बैठक को निरस्त कर के 17 फरवरी को प्रस्तावित मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का दमोह जिले का दौरा कार्यक्रम ही निरस्त कर दिया गया है। गृहमंत्री श्री अमित शाह स्वयं घटना की जानकारी लेकर दुख जताया है। वहीं प्रदेश सरकार के दो मंत्री तुलसी सिलावट एवं राम खिलावन पटेल सीधी पहुंच गए हैं।

बताया जा रहा है कि बस में करीब 60 यात्री सवार थे जिनमें से सात ही बाहर निकल सके। 44 शव  बरामद कर लिए जाने की जानकारी सामने आई है वहीं कुछ और शवों की तलाश की जा रही है।

Post a Comment

0 Comments