Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

सागर जबलपुर स्टेट हाईवे पर तेंदूखेड़ा पाटन के बीच अनेक दुर्घटनाओं के बाद.. एक्सीडेंटल प्वाइंटों पर ब्रेकर और संकेतक बोर्ड का मल्हम.. ब्रेकर पहले बन जाते तो शायद बच सकती थी चार निर्दोष लोगो की जान..

 ब्रेकर पहले बन जाते तो शायद बच सकती थी चार जान..

दमोह। सागर रहली जबलपुर स्टेट हाईवे 14 तथा दमोह तेंदूखेड़ा जबलपुर रोड पर तेंदूखेड़ा पाटन के बीच कुछ अंधे मोड़ वाले एक्सीडेंटल पॉइंट पर लगातार दुर्घटनाओं के बावजूद प्रशासन ने हादसों को गंभीरता से नहीं लिया था। वही मीडिया की सुर्खियों में लगातार बने रहे सड़क हादसों के बाद एमपीआरडीसी और लोक निर्माण विभाग की टीम ने निरीक्षण करके सड़क निर्माण एजेंसी को गति अवरोधक निर्माण और संकेतक लगाने के निर्देश दिए थे लेकिन यह कार्य हो पाता उसके पहले ही इंदौर से जबलपुर लौट रही बारात की बस 4 निर्दोष लोगों पर पलट कर उनकी जान की दुश्मन बन गई थी। 





जिसके बाद जबलपुर पुलिस प्रशासन ने गंभीरता दिखाई और दुर्घटना स्थलों पर गति को विराम देने ब्रेकर के साथ संकेतक लगवाए हैं। उम्मीद की जा रही है कि दुर्घटनाओं के मामले में मनहूस साबित होते रहे इन हादसा स्थलों पर वाहनों की गति में ब्रेकर की वजह से विराम लगने के साथ संकेतक वाहन चालकों को खतरे का आगह कराने का कार्य बखूबी निभाएंगे और यहां होने वाली दुर्घटनाओं पर ना केवल विराम लगेगा बल्कि लोग भी सावधानी सतर्कता से आवागमन करेंगे।

इधर यहा पर ब्रेकर बन जाने से लोड़ वाहनो के घाट पर चढ़ने में परेशानी के नजारे भी सामने आए है। ऐसे में खाई किनारे चौड़ीकरण कराने तथा कम अंतर के टर्न वाली सड़क को सीधा कराके हादसों पर अंकुश लगाने का कार्य कराए जाने की अपेक्षा प्रशासन से की जा रही है। फिलहाल ब्रेकर गति रोकने का और संकेतक सावधान करने का कार्य ही कर सकेंगे। इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि जल्दबाजी में यहां पुन: हादसे नहीं होंगे। क्योंकि हादसे रोकने का सीधा उपाय सड़क को सीधा कराया जाना और टर्न को खत्म कराना ही बताया जा रहा है। विशाल रजक की रिपोर्ट

Post a comment

1 Comments

  1. और जो स्पीड में वाहन चलाते ऑयेगे उनको कौन रोकेगा चालकों को ही वाहनों की स्पीड पर नियंत्रण करना होगा,

    ReplyDelete