Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

कोरोना काल में एग्जाम के डर से किडनैपिंग का फर्जी क्लाइमैक्स.. मासूम छात्रा ने बाबाओं द्वारा अगवा किए जाने की कहानी गढ़ी.. जांच में सच्चाई सामने आने पर परिजनों के साथ पुलिस ने भी राहत की सांस ली..

 छात्रा ने बाबाओं द्वारा अगवा किए जाने की कहानी गढ़ी..

दमोह। कोरोना संक्रमण काल के दौरान शिक्षण संस्थान बंद रहने तथा पिछले माह केसो में कमी आने के बाद स्कूलों के आंशिक रूप से खुलने तथा इन दिनों अर्ध वार्षिक परीक्षाओं की औपचारिकताएं पूरी किए जाने के बावजूद अधिकांश बच्चे पूर्व की तरह है पढ़ाई करने तथा परीक्षा देने की मनोदशा नहीं बना पा रहे हैं। इसी का नतीजा है कि परीक्षा तथा पढ़ाई से बचने के लिए अब बच्चे तरह-तरह की कहानियां गढ़ के बहानेबाजी करने लगे है।


ऐसा ही एक किडनैपिंग के क्लाइमैक्स के सामने आने के बाद हड़कंप बारी हालत निर्मित हो गए। परिजनों के साथ पुलिस घण्टो परेशान होती रही। देहात थाना सागर नाका क्षेत्र के गांव की निवासी 13 वर्ष की बालिका अपने बुआ के घर बम्होरी बांदकपुर के स्कूल में सातवीं की छात्रा है। शनिवार को अचानक वह अपने गांव पहुंच गई तथा उसने अपने परिजनों को यह कह कर चिंता में डाल दिया कि कुछ बाबा लोग एक सफेद कलर की गाड़ी से उसका अपहरण करके ले जा रहे थे। लेकिन वह मौका पाकर गाड़ी से उतर कर भाग कर घर आ गई। उसने गाड़ी में दो तीन और बच्चों के बेहोश होने की बात भी कही। मासूम बेटी की बात सुनकर घबराए परिजनों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया तथा पुलिस को मामले की सूचना दी। 

इस बीच कुछ खबर खोजियो द्वारा मामले को बड़ा चढ़ा कर वायरल कर दिए जाने के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप के हालात बनते देर नहीं लगी। सीएसपी अभिषेक तिवारी से लेकर  देहात थाना टीआई श्याम बैन भी जिला अस्पताल पहुंच गए।  वही लेडीस थानेदार मधु पटेल भी मामले की जांच करने हॉस्पिटल पहुंच गई। 

बाद में पुलिस जांच के दौरान यह बात सामने आई कि पढ़ाई तथा परीक्षा से बचने के लिए छात्रा ने झूठी कहानी गढ़ी थी। जिसके बाद सभी ने राहत की सांस ली। वही सच्चाई सामने आने के बाद छात्रा की किडनैपिंग की खबर वायरल करने वाले बगले झांकते नजर आए। अजीत सिंह राजपूत की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments