Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

लोकायुक्त कार्रवाई के बाद कोर्ट में अभियोग पत्र पेश होने पर.. पहले से सस्पेंड और जनपद में अटैच सचिव पंचायत सचिव निलंबित.. इधर राष्ट्रीय पर्व पर झंडा नहीं उतारने पर निलंबित पंचायत सचिव को एक वेतन वृद्धि रोक बहाल किया..

 तत्कालीन पंचायत सचिव मुड़ारी जुझार निलंबित

दमोह। जिला पंचायत स्तर पर जिले के दो पंचायत सचिवों के मामले में नए सिरे से कारवाई की गई है। भ्रष्टाचार के मामले में लोकायुक्त के शिकंजे में फसे एक सचिव को कोर्ट में अभियोग पत्र पेश होने के बाद निलंबित कर दिया गया है। इधर राष्ट्रीय पर्व पर झंडा नहीं उतारने पर निलंबित किए गए एक अन्य पंचायत सचिव की एक वेतन वृद्धि रोककर बहाल कर दिया गया है।

दमोह जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ गिरीश मिश्रा ने पुलिस अधीक्षक विपुस्था लोकायुक्त कार्यालय सागर के माध्यम से तत्कालीन पंचायत सचिव मुड़ारी जुझार डालसिंह वर्तमान कार्यालय जनपद पंचायत दमोह में संबद्ध के विरूद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 में अभियोग पत्र विशेष न्यायालय दमोह में प्रस्तुत करने पर विशेष प्रकरण प्राप्त होने पर तत्कालीन पंचायत सचिव मुड़ारी जुझार डालसिंह वर्तमान कार्यालय जनपद पंचायत दमोह में संबद्ध को निलंबित किये जाने की कार्यवाही करने के निर्देशों के आधार पर तत्काल सचिव पद से निलंबित कर दिया गया है। तत्कालीन पंचायत सचिव मुड़ारी जुझार श्री डालसिंह वर्तमान कार्यालय जनपद पंचायत दमोह में संबद्ध का निलंबन अवधि में मुख्यालय कार्यालय जनपद पंचायत दमोह होगा एवं नियमानुसार निर्वाह भत्ता की पात्रता होगी। यह आदेश तत्काल प्रभावशील किया गया है।

पिपरौधा छक्का सचिव वेतनवृद्धि रोककर बहाल

दमोह। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ गिरीश मिश्रा ने मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत पथरिया द्वारा प्रस्तुत अभिमत से सहमत होते हुये जनपद पंचायत पथरिया की ग्राम पंचायत पिपरौधा छक्का के सचिव कमल सिंह ठाकुर की एक वेतनवृद्धि संचयी प्रभाव से रोकते हुये सचिव पद पर निलंबन से बहाल कर पदस्थापना यथावत ग्राम पंचायत पिपरौधा छक्का जनपद पंचायत पथरिया की गई है। ज्ञातव्य है सचिव कमल सिंह ठाकुर ने ग्राम पंचायत पिपरौधा छक्का में शाम 7 बजे तक झंडा नहीं उतारा गया था और ना ही पंचायत भवन पर उपस्थित हुये, जिसे गंभीर लापरवाही तथा ध्वज संहिता के विपरीत होकर फ्लैग कोड 2002 तथा प्रिवेंशन आफ इंसल्ट टू नेशनल ऑनर एक्ट 1971 का उल्लंघन के आरोप में निलंबित किया गया था।

Post a comment

0 Comments