Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

संडे लॉक डाउन सक्सेसफुल.. 2 मरीजों ने जीती कोरोना की जंग.. तीन नए मरीज चपेट में आए.. 3 जैन मंदिर तथा आसपास का इलाका सील.. महावीर वार्ड तथा सिविल 4 नए कंटेनमेंट क्षेत्र बने.. कुल केस 75, एक्टिव केस 21, अभी 417 रिपोर्ट आना शेष..

साप्ताहिक लॉक डाउन का संडे सक्सेसफुल रहा.. 
दमोह। "तुम डाल डाल हम पात पात" की तर्ज पर कोरोना वायरस का संक्रमण कम होने का नाम नहीं ले रहा है शहर के अलग-अलग क्षेत्रों में नए मरीजों के मिलने से अब नए कंटेनमेंट क्षेत्र बनाने प्रशासन को नए सिरे से जबकि जमाना पड़ रही है। इधर लॉकडाउन में छूट के बाद बड़े संक्रमण को ध्यान में रखकर शुरू साप्ताहिक lock-down का व्यापक असर देखने को मिला। 
जिले में साप्ताहिक बाजार के दिन रविवार को पूरी तरह से lock-down  किए जाने के  जिला दंडाधिकारी तरुण राठी के निर्देशों का व्यापक असर देखने को मिला शहर केे हृदय स्थल घंटाघर से लेकर लगभग सभी बाजार क्षेत्र की सड़कें पूरी तरह से सूनी पड़ी रही। बाजार पूरी तरह से बंद रहने की वजह से लोग चाय पानी के लिए भी तरसते नजर आए हालांकि शराब की दुकानें खुली रही लेकिन वहां भी पीने वाले कम ही पहुंचे। इधर पुलिस प्रमुख मार्गों पर बैरिकेट्स रखकर पूर्व के लाक डाउन के दिनों की तरह मुस्तैद नजर आई। जिससे सड़क पर निकलने वालों को वापस गली मोहल्लों की ओर लौटना पड़ा। 
दमोह मैं 3 नए कोविड-19 पेशेंट मिलने तथा इनकी  कांट्रैक्ट हिस्ट्री व्यापक होने, परिजनों के भी संक्रमित होने की आशंका ने क्षेत्रवासियों को चिंता में डाल दिया है। आज आई तीन में से दो पॉजिटिव रिपोर्ट जैन समाज के लोगो की बताई जा रही है। महावीर वार्ड निवासी एक  मरीज व सिविल वार्ड 4 निवासी एक युवक शामिल है। ऐसे में इनकी कांट्रैक्ट हिस्ट्री जुटाने से लेकर परिजनों की सैंपलिंग कराना चुनौतीपूर्ण है। जिसमें प्रशासन पूरी तन्मयता से जुटा हुआ है। वही शाम को आई तीसरी रिपोर्ट टन्डन बगीचा क्षेत्र के पुराने पेशेन्ट के परिवार की बताई जा रही है।
3 जैन मंदिर तथा आसपास का इलाका सील.. 
  पहले दो पेशेन्ट का निवास स्थान जैन मंदिरों के समीप होने तथा निवास क्षेत्र को कंटेनमेंट क्षेत्र बना दिए जाने से सिंघई, सेठ एवं भाईजी मंदिर भी श्रद्धालुओं के लिए सील हो गए हैं। महावीर वार्ड में निवासरत मरीज का जबलपुर मे इलाज चल रहा है। वही सिविल वार्ड 4 के युवक का इलाज दमोह हास्पिटल में चल रहा था। जिनकों बीती रात ही जिला अस्पताल में शिफ्ट कराने के बाद कोविड 19 उपचार शुरू हो गया है।  इनके माता पिता पत्नी व भाई की आज दोपहर कोविड जांच कराने सेंपल लिए गए है।
मरीज की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंचे अधिकारी 
 दमोह शहर के सिविल वार्ड 4 और महावीर वार्ड 22 में मरीज की जानकारी मिलते ही आरआरटी दल द्वारा कार्यवाही शुरू कर दी गई है। सुबह मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ संगीता त्रिवेदी, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. राकेश राय और एसडीएम श्री गगन विसेन क्षेत्र में पहुंचकर सभी आवश्यक कार्यवाही की।दल द्वारा सर्वे किया जा रहा है नगर पालिका अधिकारी कपिल खरे द्वारा बैरिकेट्ड लगाने की कार्रवाई कराई गई।
2 मरीजों के डिस्चार्ज होने से एक्टिव केस 21 हुए
19 जुलाई को दो कोविड-19 पेशेंट के ठीक हो जाने के बाद जिला अस्पताल से इनको समारोह पूर्वक डिस्चार्ज किया गया। जिले में अभी तक 75 पॉजिटिव केस सामने आ चुके है जिनमें से 54 मरीज पूरी तरह से स्वास्थ्य भी हो चुके हैं ऐसे में अब एक्टिव केस 21 ही बचे हैं। आज दो मरीज जिला चिकित्सालय से स्वस्थ होने के बाद उनके घरों के लिए रवाना किए गए। इस वक्त मरीजों के खुशी का अंदाजा लगाना मुश्किल था। दोनों कोरोना योद्धा जंग जीत कर बेहद खुश है। वहां डॉक्टर और अमले को जिन्होंने उनका ख्याल रखा लख-लख दुआएं दे रहे थे।

स्वस्थ हुई कोरोना योद्धा महिला ने कहा मुझे कोरोना हो गया था, डॉक्टर ने मेरी बहुत अच्छी सेवा की। अब हम बहुत अच्छे हो चुके हैं, हंसी-खुशी घर जा रहे हैं, भगवान करे डॉक्टर साहब नर्स सभी को बहुत तरक्की मिले। इसी प्रकार एक अन्य मरीज ने कहा जिला अस्पताल में मेरा बहुत अच्छा ध्यान रखा गया, किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हुई, सब कुछ टाइम से मिल जाता था, बहुत खुशी हुई, सभी का धन्यवाद।



आरएमओ डॉ दिवाकर पटेल ने कहा एक मरीज को डायबिटीज थे, उनकी स्थिति असामान्य थे, डॉक्टरों के अथक प्रयासों से वह अब पूर्ण स्वस्थ हो चुके हैं और अपने घर जा रहे है। सभी का इलाज करके हमें अनुभव हो रहा है, जिसमें आने वाले किसी भी प्रकार के गंभीर मरीज का इलाज आसानी से कर सकें, जाँचों के आधार पर इलाज को कैसे परिवर्तित करना है, कितना सुधार आता है, एक अलग अनुभव हमको मिल रहा है, निश्चित रूप से भविष्य में आने वाले गंभीर मरीज के इलाज के उपचार में सहयोग प्रदान होगा। डाँ पटेल ने कहा कोरोना वायरस अमीर या गरीब को देखकर नहीं आता है, निवेदन है शासन द्वारा बनाए गए नियमों का पालन करें, स्वास्थ्य अमले के मनोबल को बढ़ाएं, जिससे प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग का विश्वास बना रहे, किसी के घर में कोरोना महामारी से असामान्य स्थिति ना बने, इसके लिए हम तत्पर 24 घंटे कार्यरत हैं।

Post a comment

0 Comments