Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

एसपी ने दो युवकों से ढाई लाख का गांजा बरामदगी का खुलासा किया.. एक आरोपी के भाई ने सीएम हेल्पलाइन में कोतवाली टीआई पर रुपए मांगने और झूठे मामले में फ़साने की शिकायत की..

 दो युवकों से ढाई लाख का गांजा बरामदगी का खुलासा-
दमोह। कोतवाली में आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस में एसपी विवेक सिंह ने दो युवकों से करीब ढाई लाख कीमत का गांजा जप्त होने के मामले का मीडिया के समक्ष खुलासा किया है। वही मामले में आरोपी बनाए गए दो युवकों में से एक के परिजन द्वारा इसके पूर्व ही सीएम हेल्पलाइन में की गई शिकायत में कोतवाली टीआई पर रुपए मांगने तथा झूठे मामले में फंसाने की शिकायत की है। जिससे अब इस मामले पर पुलिस कार्रवाई पर सवालिया निशान लगते नजर आ रहे हैं।
कोतवाली में रविवार दोपहर आनन-फानन में बुलाई गई पत्रकार वार्ता के दौरान एसपी विवेक सिंह ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि मुखबिर की सूचना पर कोतवाली टीआई एचआर पांडे और उनकी टीम ने मराहार मार्ग से एक पेड़ के नीचे खड़े दो युवकों को 45 किलो गांजे के साथ पकड़ने में सफलता हासिल की है। उड़ीसा से बुलाया गया यह गांजा 2 बोरियों में भरा हुआ था तथा यह कहां सप्लाई किया जाना था ? पुलिस इसकी जांच कर रही है। 
जप्त किए गए गांजे की कीमत करीब ढाई लाख रुपए बताई गई है। वहीं तेजगढ़ थाने के हरदुआ हाथी घाट निवासी राजू रैकवार और नोहटा निवासी छोटू उर्फ प्रशांत अहिरवार पर मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के प्रेस नोट में नशे के सौदागरो को पकड़ने वाली टीम में अनेक नाम अंकित किए गए हैं।
खुलासे के एक दिन पूर्व सीएम हेल्पलाइन में शिकायत-

जिस गांजा प्रकरण का रविवार को एसपी विवेक सिंह ने कोतवाली पहुंचकर खुलासा किया है उस मामले का एक दूसरा पहलू भी सामने आया है। मामले में आरोपी बनाए गए नोहटा निवासी छोटू और प्रशांत अहिरवार के भाई  निक्की अहिरवार के द्वारा द्वारा  5 अक्टूबर को एसपी कार्यालय तथा सीएम हेल्पलाइन में शिकायत करते हुए कोतवाली टीआई एचआर पांडे पर गंभीर आरोप लगाए  है। 
शिकायत में  बताया गया है कि छोटू अहिरवार को 1 अक्टूबर से कोतवाली में अकारण बैठाया रखा गया है। वही उसे छोड़ने के एवज में रुपयों की मांग की जा रही है। तथा गांजे के केस में फंसाने की धमकी दी जा रही है।
शिकायतकर्ता अधिवक्ता लगाई मनीष नगाइच ने बताया कि प्रकरण दर्ज किए जाने के बाद अब इनको वापिस लेने भी शिकायतकर्ता पर दबाव बनाया जा रहा है। हालांकि इन आरोपों के संदर्भ में टी आई एचआर पांडे का कहना है कि 5 अक्टूबर को ही दोनों आरोपियों को गांजे के साथ पकड़ा गया था तथा इसके बाद ही पुलिस पर दबाव बनाने के लिए यह शिकायत की गई है।
एक तरफ पुलिस द्वारा दो आरोपियों से ढाई लाख के  गांजे के बरामदगी की करवाई और दूसरी ओर सीएम हेल्पलाइन में की गई शिकायत का दूसरा पहलू सामने आने के बाद अब आवश्यक हो गया है कि इस के खुलासे के पूर्व एसपी व सीएम हेल्पलाइन में की गई शिकायत में उल्लेखित बिंदुओं की भी उच्च स्तरीय जांच कराई जाए।  यदि शिकायत कर्ता गलत पाया जाए तो उस पर कारवाई  की जाए। जिससे सीएम हेल्पलाइन में की जाने वाली शिकायतों जांच कार्यवाही पर भरोसा बना रहे।

Post a comment

0 Comments