Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

आयुष्मान भारत योजना का एक साल पूरा.. निरामयम दिवस कार्यक्रम में न प्रमुख अतिथि पहुचे न अधिकारी.. प्रचार प्रसार के अभाव में महज 70 मरीजों की जांच जिनमें 56 पहले के.. कुर्सिया भी पड़ी रही खाली..

निरामयम शिविर में मात्र 70 मरीजों का स्‍वास्‍थ्‍य परीक्षण
दमोह। निरामयम दिवस के मौके पर जिला अस्पताल में आयोजित विशेष स्‍वास्‍थ्‍य जांच शिविर महज औपचारिकता पूर्ण करता टाय टाय फिस्स साबित हुआ। शिविर में महज 70 मरीजों की जांच का दावा किया गया जिसमें 56 हितग्राही से आयुष्मान भारत निरामयम के भी शामिल रहे। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी  द्वारा देश के गरीब व्‍यक्तियों की स्‍वास्‍थ्‍य चिंता को ध्‍यान में रखते हुये पिछले साल 23 सितंबर को इस योजना का शुभारंभ किया गया था। जिसके एक साल पूरे होने पर जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा आज इस विशेष जांच शिविर का आयोजन किया गया था। 
जिसका कहीं भी प्रचार नहीं किए जाने से कार्यक्रम स्थल पर लगाए पांडाल में अधिकांश कुर्सिया तक खाली पड़ी रही।  आम हितग्राही तक इस आयोजन से वंचित रहे। यहां तक की इस शिविर के आमंत्रण पत्रों तक को सभी अतिथियों तक नहीं पहंुचाया गया। जिससे अनेक आमंत्रित अतिथि तक शिविर में नहीं पहंचे।  उल्लेंखनीय है कि निरामयम शिविर के आमंत्रण पत्र में दमोह सांसद एवं केंद्रीय मंत्री श्री प्रहलाद पटेल को मुख्य अतिथि बताया गया था। वहीं अध्यक्षता दमोह विधायक राहुल सिंह को करनी थी। 
वहीं विशिष्ट अतिथि के तौर पर पथरिया विधायक रामबाई, हटा विधायक पीएल तंतुबाय, जबेरा विधायक धर्मेंद्र सिंह, पूर्व मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया, जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल, जिला कांग्रेस अध्यक्ष अजय टंडनख् नगरपालिका अध्यक्ष मालती असाटी के नाम आमंत्रण पत्र में पिं्रंट किए गए थे। परंतु इनमें से अनेक अतिथियों तक आयोजन के आमंत्रण पत्र तथा सूचना तक नहीं पहंुची। जिससे कार्यक्रम मंच पर जबेरा विधायक धर्मेद्र सिंह व नपाध्यक्ष मालती असाटी तथा सासंद प्रतिनिधि आलोक गोस्वामी की ही उल्लेखनीय उपस्थिति रही। यहां तक की कलेक्टर तरूण राठी भी इस शिविर में नहीं पहंुचे। उनके प्रतिनिधि के तौर पर जिला पंचायत के चर्चित सीईओ गिरीश मिश्रा औपचारिकताए पूरी करते नजर आए। 
 निरामयम दिवस पर जिला चिकित्‍सालय परिसर में आयोजित विशेष स्‍वास्‍थ्‍य जांच शिविर कार्यक्रम के शुभारंभ अवसर पर जबेरा विधायक धर्मेन्‍द्र सिंह लोधी ने कहा आयुष्‍मान भारत योजना में पात्रता रखने वाले हितग्राहियों से आयुष्‍मान कार्ड बनवाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कार्ड बनवाने में लाभार्थियों की सुविधा का ध्‍यान रखा जाये। नगर पालिका अध्यक्ष मालती असाटी ने कहा जिला अस्‍पताल में जो लोग कार्ड बनवाने आते हैं। उन्‍हें कार्ड बनवाने की प्रक्रिया के बारे में बताया जाये। परामर्श भी दिया जाये कि, योजना के तहत सर्जरी, इलाज कैसे निरूशुल्‍क प्राप्‍त की जा सकती हैं। सांसद प्रतिनिधि आलोक गोस्‍वामी ने कहा आयुष्‍मान योजना के लागू हुये एक साल हो चुके हैं। सभी को सुविधाजनक रूप से लाभ प्राप्‍त हो, स्‍वास्‍थ्‍य सेवा अच्‍छी मिले इसका ध्‍यान रखा जाये।
शिविर दौरान योजना के एक वर्ष पूर्ण होने पर जिला चिकित्‍सालय से आयुष्‍मान भारत निरामयम मध्‍यप्रदेश के तहत लाभान्वित हुये, हितग्राहियों को सम्‍मानित भी किया गया। मध्‍यप्रदेश निरामयम के तहत हाईड्रोसिल की समस्‍या से निजात पाने वाले गोकल अहिरवाल, सरमन अहिरवाल, त्‍वचा विकार से पी‍डित दीनदयाल अहिरवाल, हृदय से जुडी बीमारी से उबरे आजम खान, बलराम काछी, को मंच से सम्‍मानित किया गया। साथ ही मुख्‍यमंत्री बाल श्रवण योजना के तहत 6.5 लाख की शासकीय सहायता से कोकलियर इम्‍प्‍लान्‍ट से बहरेपन की समस्‍या से निजात पाने वाले ग्राम रोडा विकासखण्‍ड पटेरा के 4 वर्षीय बालक शिवा विश्‍वकर्मा को भी सम्‍मानित किया गया। बच्‍चे ने मंच से ही न केवल अपना नाम बल्कि अपने परिजनों का नाम बोलकर बताया और एबीसीडी भी सुनाई।
शिविर दौरान 70 मरीजों का पंजीयन कर स्‍वास्‍थ्‍य परीक्षण किया गया। जिसमें से आयुष्मान भारत निरामयम के 56 हितग्राही भी शामिल हैं। शिविर में बांझपन, बच्‍चेदानी से जुडी समस्‍या के 15 मरीज, हृदय से जुडी समस्‍या वाले 22 श्रवण विकार से संबधित 05 तथा राष्‍ट्रीय बाल स्‍वास्‍थ्‍य कार्यक्रम के तहत दिल की बीमारी से परेशान 09 बच्‍चों का स्‍वास्‍थ्‍य परीक्षण किया गया। शिविर में बांझपन एवं बच्‍चेदानी की गांठ से जुडी समस्‍याओं हेतु आयुष्‍मान भारत योजना के तहत चिंहित प्राईवेट अस्‍पताल भोपाल टेस्‍टटयूब बेबी के स्‍त्री रोग विशेषज्ञों द्वारा अपनी सेवायें दी गई। हृदय एवं हड्डी से संबंधित समस्‍याओं के लिये सिद्धांता रेडक्रास हॉस्पिटल भोपाल व मार्बल सिटी हॉस्पिटल जबलपुर तथा श्रवण जांच हेतु वर्धमान हॉस्पिटल भोपाल से पहुंचे विशेषज्ञों ने अपनी सेवायें दी।
कार्यक्रम दौरान नोडल अधिकारी डॉ दिवाकर पटैल ने आयुष्‍मान भारत मध्‍यप्रदेश निरामयम योजना की विशेषता बताते कहा कि आयुष्‍मान भारत निरामयम मध्‍यप्रदेश पूर्णतरू पेपर लेस है । इसमें पात्रता रखने वाले हितग्राही अपना आधार कार्ड, समग्र आईडी, फोटो दिखाकर कॉमन सर्विस सेन्‍टर से आयुष्‍मान कार्ड बनवा सकते हैं। सुविधा जिला चिकित्‍सालय में भी निरूशुल्‍क उपलब्‍ध है। हितग्राही जरूरत पडने पर कार्ड दिखाकर अपनी सुविधा अनुसार अस्‍पताल में पहुंचकर वर्ष में प्रति परिवार 5 लाख रूपये तक निरूशुल्‍क स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं। कार्यक्रम में प्रभारी मुख्‍य चिकित्‍सा एवं स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी डॉ. तुलसा ठाकुर, सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी, डॉ. राकेश राय व स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के अधिकारीध्कर्मचारी भी मौजूद रहे।
कार्यक्रम स्थल पर लगाए पांडाल में अधिकांश कुर्सिया तक खाली पड़ी रही। इस योजना तहत दमोह जिले में दो लाख से अधिक लोगों का पंजीयन होने का दावा किया जा रहा है। वहीं विशेष शिविर के दौरान मौजूद उपस्थिति शिविर की औपचारिकता को उजागर करती नजर आई। आयोजकों ने प्रधानमंत्री के सपने को साकार करने वाली इस योजना के एक साल पूरे होने के आयोजन में रोगी कल्याण समिति के सदस्यों से लेकर रेडक्रास सोसायटी के प्रमुख सदस्यों तक को सूचना देकर आमंत्रित करना तक आवश्यक नहीं समझा। वहीं जिले के सभी पत्रकारों के नाम का एक कार्ड जनसंपर्क कार्यालय भेजकर औपचारिकताए पूरी करने की कोशिश की गई। जिससे यह शिविर भी महज औपचारिक साबित होता नजर आया। इस शिविर के प्रचार प्रसार से लेकर आमंत्रण पत्र की प्रिंटिंग संख्या एवं वितरण में बरती गई लापरवाही जहां जांच कराया जाना आवश्यक है वहीं आने वाले दिनों में इस शिविर के आयोजन पर खर्च की गई राशि भी अब जांच का विषय बन सकती है।  अटल राजेंद्र जैन

Post a comment

0 Comments