Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

लकवा ग्रस्त पत्रकार की बेटी जस्मिता शुक्ला ने सिविल जज परीक्षा में प्रदेश में वन रैंक हासिल की.. बड़ी बहिन को पीछे छोड़ सफलता की सीढ़ी चढ़ गई छोटी.. परिजनों के साथ समाज में मीडिया परिवार का बढ़ाया मान..

बड़ी बहिन को पीछे छोड़ सफलता की सीढ़ी चढ़ गई छोटी
आमतौर पर दूसरों की उपलब्धियों का बखान करने वाले पत्रकारों के पास अपने परिजनों की उपलिब्धया बताने को कुछ नहीं होता। जिससे उनके परिवार के अधिकांश सदस्य खबरों की सुर्खियों से दूर ही रहते है। लेकिन यदि किसी पत्रकार की बेटी सिविल जज परीक्षा में वन रैंक हासिल करती है तो बड़ी खबर के साथ सुर्खिया भी बनती है। भले ही पत्रकार पिता इसे आम खबर ही माने लेकिन अन्य पत्रकार भाईयों का यह दायित्व बनता है कि पूरे पत्रकार जगत को गौरांवित करने वाली इस बेटी की खबर को पूरे देश में साझा करके पत्रकार की बेटी की उपलव्धी को उजागर किया जाए।
 रीवा। हम बात कर रहे है रीवा के पत्रकार रंगनाथ-रजनी शुक्ला की बेटी जस्मिता शुक्ला की। जिसने सिविल जज परीक्षा में पूरे मप्र में टाप वन रैंक हासिल करके रीवा संभाग और विंध्य क्षेत्र के साथ संपूर्ण मप्र और देश के पत्रकारों को गौरांवित किया है। हालांकि श्री रंगनाथ की बड़ी बेटी अर्पिता ने भी छोटी बहिन जस्मिता के साथ सिविल जज परीक्षा में अपनी किस्मत अजमाई थी। लेकिन जस्मिता ने उनको पीछे छोड़कर आंगे बढ़ गई।

सिविल जज परीक्षा के बुधवार को घोषित परिणाम में मध्य प्रदेश की टॉपर रीवा की जस्मिता शुक्ला रहीं। जस्मिता ने यह सफलता स्वयं ट्यूशन पढ़ाकर अर्जित की है। जस्मिता ने 11 माह बड़ी बहन अर्पिता के साथ में सिविल जज की परीक्षा दी थी। दोनों ने फरवरी 2019 में प्री और अप्रैल माह में मेन्स क्रास किया था। लेकिन मंजिल तक पहुंचने के मामले में जस्मिता आगे निकल गई। वर्ष 2014 से स्कूली बच्चों को ट्यूशन पढा रही जस्मिता पत्रकार रंगनाथ शुक्ला और रजनी शुक्ला की छोटी बेटी है। बचपन से ही लगन के साथ पढ़ाई करती रहीं,  ड्राइंग व पेंटिंग का शौक भी उन्हें रहा। अपने पिता का सहारा बनी बेटियां जस्मिता और अर्पिता के लिए जीवन में संघर्ष उस समय बहुत ज्यादा हो गया जब उनके पिता रंगनाथ शुक्ला जो पेशे से पत्रकार थे लकवा से ग्रसित हो गए। 
स्वतंत्र समय और अन्य समाचार पत्रो के लंबे समय तक पत्रकार रहे रंगनाथ शुक्ला संयुक्त श्रमजीवी पत्रकार महासंघ के पदाधिकारी भी रहे।  लकवा ग्रस्त होने के बाद से दो पुत्रियां और एक पुत्र की शिक्षा दिक्षा और भरण पोषण की कठिनाइयों के बाद दोनों बहनों ने ट्यूशन पढ़ाने की शुरुआत की। हायर सेकेण्ड्री में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने पर जस्मिता को छात्रवृत्ति भी मिल रही थी। टीआरएस कॉलेज से बीए एलएलबी की परीक्षा 82 प्रतिशत अंको के साथ पास करने वाली टापर जस्मिता नं अब सिविल जज परीक्षा में प्रदेश में वन रैंक हासिल करके अपने परिवार के साथ देश के पूरे मीडिया परिवार को भी गौरांवित किया है। बेटी जस्मिता की इस उपलब्धि पर Atal News24 परिवार बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाओं के साथ अग्रज पत्रकार रंगनाथ शुक्ला के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करते है। सतना से कामता तिवारी की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments