Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

महिला आरक्षक की बहिन की मर्डर मिस्ट्री.. हत्या करने 5 लाख की सुपारी मामले में नन्द के बाद दो और गिरफ्तार.. शूटर सहित दो आरोपियांं की फरारी पुलिस के लिए चुनौती बनी..

नन्द के बाद दो और गिरफ्तार, मुख्य दो आरोपी फरार
दमोह। देहात थाना अंतर्गत नरसिंहगढ़ क्षेत्र में दिन दहाड़े एक महिला पुलिस आरक्षक की बहिन की घर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दिए जाने के सनसनीखेज घटना में मौत की सुपारी देने वाली मृतिका की नंद के बाद दो और आरोपी को भी पुलिस ने आखिरकार गिरफ्तार कर लिया है जबकि 2 मुख्य आरोपी अभी फरार है।

नरसिंहगढ़ मैं 18 जून को बबलू तिवारी की पत्नी आरती की घर में घुसकर दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दिए जाने के सनसनीखेज घटनाक्रम की परतें खुलती जा रही है। देहात थाना पुलिस ने इस मामले में दो षड्यंत्रकरियो नफीस खान और राजा ठाकुर को भी आखिरकार गिरफ्तार कर लिया है। बटियागढ़ निवासी नफीस नरसिंहगढ़ में बबलू तिवारी के घर के बाहर किराए की दुकान में मोटर साइकिल सुधारने का काम करता था। 

बताया जा रहा है कि नंद भौजाई के विवाद में नफीस खान ने अनीता अवस्थी की मुलाकात बटियागढ़ के मोनू पाराशर से कराई थी। आरती तिवारी की हत्या की 5 लाख की सुपारी रायसेन के शूटर रवि परमार को दी गई थी। इधर आरती की हत्या के बाद रवि परमार को उसके साले राजा ठाकुर द्वारा शरण तथा सहयोग दिया गया था। 

 पिछले दिनों दमोह एसपी विवेक सिंह ने इस चर्चित मामले में हत्या की सुपारी मृतिका की नंद द्वारा दिए जाने का जब खुलासा किया था तो नफीस को नजरअंदाज करने के मामले में देहात थाना पुलिस की करवाई पर सवाल उठाए गए थे। आरती की हत्या के बाद से लगातार देहात थाना पुलिस की नजर तथा पूछताछ मैं शामिल रहे दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी में देरी पर मृतिका के परिजनों ने पुलिस के उच्च अधिकारियों और मीडिया के संज्ञान में यह बात लाई थी। 
इस के बाद आज देहात थाना टीआई एचआर पांडे ने नफीस खान और राजा ठाकुर को हिरासत में लेकर कोर्ट में पेश किया। इसके पूर्व निगम सिंह तथा अनिता अवस्थी को भी जेल भेजा जा चुका है। इस मामले में चार गिरफ्तारी हो जाने के बावजूद दो मुख्य आरोपी रायसेन के शूटर रवि परमार और बतियागढ़ के मोनू पाराशर को गिरफ्तार करना पुलिस के लिये चुनौती बना हुआ है।

Post a comment

0 Comments