Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

जबलपुर सागर दमोह लोकसभा क्षेत्र से भाजपा को लग सकते हैं तीन झटके.. धीरज पटेरिया होंगे कांग्रेस में शामिल, ऋषि लोधी भी थाम सकते है हाथ, मुकेश ढाना भरेंगे निर्दलीय नामांकन..

जबलपुर सागर दमोह से भाजपा को लग सकते हैं झटके-
जबलपुर/ सागर/ दमोह।  मप्र भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह के गृह क्षेत्र जबलपुर, उनके रिश्तेदार प्रदेश के पूर्व गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह के गृह क्षेत्र सागर तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री और दमोह सांसद प्रहलाद पटेल के चुनाव क्षेत्र दमोह में भाजपा को तीन झटके लग सकते हैं। 
 विधानसभा चुनाव के दौरान जबलपुर उत्तर मध्य से भाजपा से बगावत कर के निर्दलीय चुनाव लड़ चुके भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य रहे युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष धीरज पटेरिया के कांग्रेस में शामिल होने की खबरें सोशल मीडिया पर लगातार वायरल हो रही है। सिहोरा में कल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की सभा के दौरान श्री पटेरिया अपने समर्थकों के साथ हाथ थाम सकते हैं। यदि ऐसा होता है तो जबलपुर के साथ महाकौशल क्षेत्र में भाजपा का लोकसभा चुनाव जीतने का गणित गड़बड़ा सकता है।
  अटल जी के जमाने से भारतीय जनता पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता रहते हुए तन मन धन से पार्टी की सेवा करने वाले धीरज पटेरिया को पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने टिकिट नहीं दी थी जिस वजह से उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़कर उत्तर मध्य क्षेत्र से प्रभावी प्रदर्शन करते हुए शिवराज सरकार में मंत्री रहे शरद जैन की पराजय पर मोहर लगा दी थी।
 लोकसभा चुनाव के पूर्व धीरज पटेरिया के भाजपा में वापस जाने की अटकलों के बीच चुनाव मतदान के पहले इनके कांग्रेस में जाने की खबरों ने महाकौशल की राजनीति में सनसनी फैला दी है। सूत्रों का कहना है की पटेरिया के कांग्रेस में जाने के संदर्भ में तीन बार मुख्यमंत्री कमलनाथ से चर्चा हो चुकी है कांग्रेस प्रत्याशी विवेक तंखा और प्रदेश के वित्त मंत्री तरुण भनोट दो बार उनके घर जा चुके है। ऐसे में उनका हाथ थामना लगभग तय माना जा रहा है।
इधर दमोह जिले के जबेरा विधानसभा क्षेत्र पार्टी टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय प्रत्याशी तौर पर चुनाव लड़कर प्रभावी प्रदर्शन करने वाले भाजपा के पूर्व प्रदेश मंत्री राघवेंद्र सिंह ऋषि लोधी के भी कांग्रेस नेताओं के संपर्क में होने तथा इनके भी कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें जोर पकड़े हुए है।
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के करीबी रहे राघवेंद्र सिंह ऋषि लोधी को विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी टिकट नहीं मिलने की बजह दमोह सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल द्वारा विरोध किया जाना रहा है चुनाव के बाद प्रहलाद पटेल पत्रकार वार्ता में इस बात को स्वीकार भी कर चुके थे कि उन्होंने ही ऋषि की टिकिट कटवाई थी।
 दरअसल दमोह जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के समय से प्रहलाद पटेल और ऋषि लोधी के बीच जो आविश्वास का माहौल निर्मित हुआ था वह विधानसभा चुनाव के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष के अविश्वास प्रस्ताव के दौरान गहरी खाई में परिवर्तित हो गया। इस दौरान प्रह्लाद पटेल व बसपा विधायक रामबाई की मदद से शिवचरण पटेल ने मात्र 3 वोट लेकर जिला पंचायत की कुर्सी तो बचा ली थी। लेकिन अविश्वास प्रस्ताव के विरोध में राघवेंद्र सिंह ऋषि लोधी के साथ में जिला पंचायत के 9 सदस्यों ने खड़े होकर यह जता दिया था कि इसके दूरगामी परिणाम लोकसभा चुनाव में पड़ सकते है।  
प्रह्लाद पटेल से व्यक्तिगत विरोध के चलते लोकसभा चुनाव के दौरान ऋषि लोधी कांग्रेस प्रत्याशी का साथ देने के साथ यदि कांग्रेस में शामिल हो जाते हैं तो किसी को आश्चर्य नहीं होगा। तदसंदर्भ में ऋषि का कहना है कि विधानसभा चुनाव के बाद से भाजपा के किसी भी बड़े नेता ने उनसे पार्टी के पक्ष में काम करने या भाजपा में वापस आने के लिए कोई संपर्क नहीं किया। ऐसे में उनके समक्ष सारे विकल्प खुले हुए हैं तथा बाहरी प्रत्याशी को क्षेत्र से बाहर कराने के लिए वह तत्पर बने हुए हैं।
इधर सागर संसदीय क्षेत्र से भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के नजदीकी रहे मुकेश जैन ढाना मंगलवार को सागर से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नामांकन पत्र दाखिल करने जा रहे हैं। दरअसल श्री जैन सागर से लंबे समय से भाजपा की ओर से विधान सभा तथा लोकसभा की टिकट मांगते रहे हैं। इस बार पूर्व गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह के रिश्तेदार राज बहादुर सिंह को भाजपा ने सागर से प्रत्याशी घोषित कर दिया गया। 
पूर्व में उमा जी की जनशक्ति पार्टी से विधानसभा चुनाव लड़ चुके मुकेश ढाना के इस बार निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर लोकसभा से नामांकन भरने की वजह पूरे देश से भाजपा द्वारा जैन समाज के किसी भी व्यक्ति को पार्टी टिकट नहीं दिया जाना जा रहा है। इस बात को लेकर जैन समाज में नाराजगी के बीच कल सागर में हुई जैन समाज के प्रतिनिधियों की बैठक में मुकेश जैन को निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लगाने का निर्णय लिया गया जिसके बाद मंगलवार को सागर की नमक मंडी में मुकेश जैन के समर्थन में जैन समाज के लोग एकत्रित होंगे कथा श्री मुकेश ढाना पाली प्रत्याशी के तौर पर अपना नामांकन भरेंगे।
उपरोक्त हालात को देख कर कहा जा सकता है कि मंगलवार का दिन जबलपुर सागर तथा दमोह संसदीय क्षेत्र के हिसाब से भाजपा के लिए टेंशन बढ़ाने वाला दिन साबित हो सकता है। इसका असर समूचे बुंदेलखंड महाकौशल क्षेत्र में पढ़ने से इनकार नहीं किया जा सकता। देखना होगा समय रहते भाजपा नेता अपने पुराने कार्यकर्ता समर्थकोंं को साधने तथा पार्टी की विचारधारा में वापस लाने के लिए प्रयास करते हैं अथवा मोदी लहर के ओवर कॉन्फिडेंस फील गुड में डूबे रहते हैं। अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments