Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

डबल सुसाइड.. कॉलेज की छात्रा ने फांसी के फंदे के साथ सिर में गोली मार कर मौत को गले लगाया.. पुलिस ने जप्त किया 11 पेज का सुसाइड नोट.. जांच जारी..

गले मे फंदा डली सिर में गोली लगी मिली लाश-
 दमोह। गर्ल्स कॉलेज की एक छात्रा के दोहरे सुसाइड किए जाने का सनसनीखेज घटना क्रम सामने आया है। छात्रा ने मरने के पहले 11 पेज का सुसाइड नोट लिखा। उसके बाद कुर्सी पर बैठकर गले में फांसी का फंदा डाला और फिर माथे पर पिस्टल रखकर गोली मारते हुए अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। घटनाक्रम की जानकारी लगने पर पुलिस ने मौके पर पहुंच पंचनामा कार्रवाई करते हुए जांच शुरू कर दी है।
दमोह के देहात थाना अंतर्गत खजरी गांव में सोमवार दोपहर सामने आए इस घटना क्रम में गांव में गमगीन माहौल निर्मित कर दिया है। बताया जा रहा है कि मृतका उत्तरा पटेल केएन गर्ल्स कॉलेज में फाइनल ईयर की छात्रा थी। जिसने आत्मघाती कदम उठाने के पहले 11 पेज का सुसाइड नोट लिखा तथा कुर्सी पर बैठकर गले में फांसी का फंदा डाल लिया। बाद में पिस्टल को माथे पर लगाकर गोली मार ली। इस दुखद घटना की जानकारी लगने के बाद मौके पर पहुंची देहात थाना पुलिस ने एफएसएल टीम को सूचना दी तथा पंचनामा कार्यवाही करते हुए शव को जिला अस्पताल भिजवाया। 
 मंगलवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द किया जाएगा। देहात थाना के टीआई एचआर पांडे ने बताया कि पुलिस ने घटना में प्रयुक्त पिस्टल तथा खाली कारतूस जब्त करके जांच शुरू कर दी है। वही 11 पेज के सुसाइड नोट में खुदकुशी की वजह को लेकर जो खुलासा किया गया है उसकी जांच में भी पुलिस जुटी हुई है। प्रथम दृष्टया छात्रा की मानसिक रूप से परेशान रहने तथा उसे किसी अज्ञात बीमारी की आशंका की वजह से खुदकुशी कर लेने की बात कही जा रही है। सबसे बड़ा सवाल यह उठ रहा है की छात्रा के पास पिस्टल कहां से आई ?
 घटनाक्रम के समय छात्रा का पिता जगदीश पटेल दमोह गया हुआ था। उसे दोपहर बाद घटना की जानकारी लगी। जगदीश पटेल का कहना है की उसे सुसाइड नोट के बारे में पता लगा है। जिसमें अपनी मर्जी से आत्महत्या करना लिखा गया है। लेकिन उसे इस बात की जानकारी नहीं है कि उसकी बेटी ने आत्महत्या क्यों की। फिलहाल पूरा मामला संदिग्ध नजर आ रहा है। तथा वारदात की वजह कहीं ना कहीं घरेलू कारणों की ओर इशारा करती नजर आ रही। जिन का पता लगाना पुलिस के लिए फील हाल चुनौती बना हुआ है। अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments