Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

फिर किडनैप होती बची जिला पंचायत सदस्य.. बसपा विधायक की गाड़ी से उतरवाकर पुलिस ने अपनी गाड़ी से कोर्ट तथा किशुनगंज पहुचाया..

 बसपा विधायक ने अपनी गाड़ी में जबरन बैठाया--
दमोह जिला पंचायत की सदस्य चंद्रवती के अपहरण की गुत्थी सुलझ भी नही पाई थी कि उनकी दोबारा किडनैप होने जैसे निर्मित हो गए थे। समय रहते जिला पंचायत के अन्य सदस्यों द्वारा इसका विरोध करते हुए पुलिस के समक्ष आपत्ति जताने पर पुलिस ने बसपा विधायक की गाड़ी से चंद्रवति को अपनी गाड़ी में बैठाया और फिर SP ऑफिस होते हुए कोर्ट पहुंचाया।

दमोह एसडीएम कोर्ट से बयान देने के बाद बाहर आई जिला पंचायत सदस्य चंद्रावती अठ्या को एक बार फिर बसपा समर्थको ने कैप्चर करने की कोशिश की इस दौरान उनके पति भी जबरन उनका हाथ पकड़ कर बसपा विधायक रामबाई की गाड़ी की और ले गए। बाद में बसपा विधायक के निजी वाहन में उनको जबरन बैठा दिया गया। 
जिस पर अन्य जिला पंचायत सदस्यों द्वारा चंद्रवती का पुलिस के सामने अपहरण का शोर करते हुए उसे बसपा विधायक की गाड़ी में जबरन बैठाने पर आपत्ति जताई गई। जिसके बाद पुलिस ने दूसरी तरफ के दरवाजे से जिला पंचायत सदस्य को बसपा विधायक के कब्जे से मुक्त कराया। 
इस दौरान बसपा विधायक रामबाई गुस्से में लाल पीली होती नजर आई। उनका कहना था कि बयान कराने के लिए चंद्रावती को एसपी के पास ले जा रही है। जबकि उस समय एसपी साहब ऑफिस में नहीं थे। फिर भी पुलिस अपने वाहन से चंद्रवती को लेकर एक बार फिर एसपी ऑफिस पहुंची। 
इधर एसपी ऑफिस के बाहर जिला पंचायत सदस्यों के प्रतिनिधियों और बसपा समर्थकों के बीच "तू तू मैं मैं" के साथ झड़प के हालात भी बनते नजर आए। बाद में पुलिस जिला पंचायत सदस्य को अपनी गाड़ी में लेकर जिला कोर्ट रवाना हुई। कोर्ट में धारा 164 के तहत जिला पंचायत सदस्य चंद्रवती के बयानों के बाद उन्हें पुलिस सुरक्षा में गृह क्षेत्र किशनगंज रवाना किया गया है। 

उक्त हालातों को देखकर कहा जा सकता है कि समय रहते अन्य सदस्यों ने आपत्ति नहीं जताई होती तथा पुलिस में सक्रिय नहीं दिखाई होती तो एक बार फिर जिला पंचायत सदस्य चंद्रवती के अपहरण की खबर सुर्खियों में होती। तथा इस बार पुलिस अपहरण का मामला भी दर्ज नहीं करती क्योंकि आरोप बसपा विधायक पर लगते। यहां एक बात और स्पष्ट होती है कि जिला पंचायत सदस्य के पति जहां बसपा विधायक राम बाई के साथ हैं वही चंद्रावती अठ्या जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले सदस्यों के साथ हैं ।अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments