Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

आखिरकार घोड़े पर निकली नीरज की रछवाई.. मप्र राज्य अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य, अजाक्स पदाधिकारी, कलेक्टर, एसपी भी रहे मौजूद..विरोध करने वाले पांच दबंगों को हिरासत में लिया गया..

 विरोध करने वाले पांच दबंगों को हिरासत में लिया गया

दमोह जिले के अनेक ग्रामीण क्षेत्रों में दबंगो के दबदबे के चलते अश्पृश्यता के नाम पर दलितों को जूते चप्पल पहनकर निकलने से लेकर घोड़े पर बैठकर बारात निकालने का अवसर नहीं मिलता है। मानवीय अधिकारों से वंचित किए जाने के ऐसे ही कुछ हालातों की खबर लगने पर आज मप्र राज्य अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त प्रदीप चौधरी दमोह पहुचे थे।


जिनकी मौजूदगी में ग्राम पंचायत देवरी जमादार के सगोडिया गांव में नीरज अहिरवार की रछवाई घोड़े पर निकलने के साथ धूमधाम के साथ विवाह संपन्न हुआ। इस अवसर पर अजाक्स पदाधिकारियों, कलेक्टर एस क्रष्ण चैतन्य, एसपी डीआर तेनीवार के अलावा पुलिस.प्रशासन के अन्य अधिकारियों की भी मौजूदगी रही। दरअसल सगोडिया गांव में  दबंगो के दबदबे के चलते दलितों को रछवाई के दौरान घोड़ी पर बैठने की मनाही थी। लेकिन गांव के नीरज अहिरवार ने इसके खिलाफ कमर कसते हुए आवाज बुलंद करते हुए अजाक्स सहित अन्य सामाजिक संगठनों तक अपनी बात पहुचाई। जिसके बाद पुलिस प्रशासन के सक्रिय हाने के साथ मप्र राज्य अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य प्रदीप चौधरी भी गांव पहुचे। ओर पहली बार गांव में घोड़े पर बैठकर अनुसूचित जाति वर्ग के दूल्हे ही रछवाई पूरे गांव में घूमी तथा दबंगों का दबदबा बेअसर साबित हुआ।

ajaksa

अजाक्स जिलाध्यक्ष मोहन आदर्श ने बताया कि मामले को संज्ञान में लेते हुए एसपी को सम्पूर्ण जानकारी देते हुए बात रखी गई थी। जिसपर 20 अप्रेल 2022 को कलेक्टर एस कृष्ण चैतन्य कलेक्टर एवं एसपी तेनीवार के साथ जिला अध्यक्ष अजाक्स  डॉ मोहन सिंह आदर्श के साथ अजाक्स के पदाधिकारियों कंछेदी अहिरवार संभागीय उपाध्यक्ष डॉ मनोज अहिरवार कृषि वैज्ञानिक मुन्नीलाल अहिरवार संरक्षक अजाक्स तुलाराम अहिरवार कोषाध्यक्ष प्रेमलाल अहिरवार उपाध्यक्ष महेंद्र बौद्ध मुकेश अहिरवार संभागीय महासचिव नारायण अहिरवार सहित अजाक्स की उपस्थिति रही और दूल्हे को रोकने बाले 5 दवंगो को गिरफ्तार कर लिया गया है। साथ ही बुधवार शाम 4.30 पर अजाक्स संघ जिला दमोह एवं पुलिस.प्रशासन जिला प्रशासन के सहयोग से नीरज अहिरवार की घोड़ी पर बैठकर गांव में रछवाई निकली गई।

Post a Comment

0 Comments