Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

1842 की बुंदेला क्रांति के महानायक.. राजा हिरदेशाह लोधी जी की अष्टधातु से बनी.. 11 फीट ऊंची भव्य प्रतिमा का अनावरण.. केंद्रीय मंत्री द्वय प्रहलाद पटेल फग्गन सिंह कुलस्ते ने..

 केंद्रीय मंत्री द्वय प्रहलाद पटेल फग्गन सिंह कुलस्ते ने.. 

नरसिंहपुर जिले के केरपानी गाँव में 1842 की बुंदेला क्रांति के महानायक राजा हिरदेशाह लोधी जी की अष्टधातु से बनी 11 फीट ऊंची भव्य प्रतिमा का अनावरण केंद्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता केंद्रीय राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने की। इस अवसर पर मप्र के वन मंत्री कुंवर विजय शाह, सांसद राव उदय प्रताप सिंह, विधायक संजय शर्मा, जालम सिंह पटेल, धर्मेंद्र सिंह, एन.पी. प्रजापति, विपिन कुमार (डेविड), राजा हिरदेशाह जी के वंशज राजा कौशलेंद्र सिंह और अन्य गणमान्य तथा देश के अनेक राज्यों से लोधी समाज के पदाधिकारी एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे..


प्रतिमा का अनावरण करते हुए केंद्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा कि मां नर्मदा के तट पर हम सबके लिए यह एक ऐतिहासिक पल है, जब इतिहास के महानायक राजा हिरदेशाह जी की भव्य मूर्ति के अनावरण का हम और आप सब इस पल के साक्षी बन रहे हैं, और हम आने वाली पीढ़ियों को यह बताएंगे कि हमने राजा हिरदेशाह को तो नहीं देखा लेकिन उनकी भव्य प्रतिमा की स्थापना के साक्षी रहे हैं। आप ही हैं जो उनकी महानता को अपने आने वाले बच्चों के सामने रखेंगे। क्योंकि इतिहास लिखने वालों ने उनके साथ न्याय नहीं किया।

ps

नरसिंहपुर मैं आजादी की लड़ाई करने वालों को नमन करता हूं क्रांतिकारी वीर सेनानी राजा हिरदेशाह लोधी के वंशजों से अंग्रेजों ने कहा कि माफी मांग लो सारी संपत्ति वापस कर देंगे पर उन्होंने अंग्रेजों से माफी नहीं मांगीl राजा के वंशज स्वाभिमानी है। जो अंग्रेजों के सामने नहीं झुके। मैं हर वर्ष 28 अप्रैल को केरपानी की नर्मदा तट पर स्थित सेनानी राजा हिरदे शाह लोधी की मूर्ति के समक्ष पुष्पांजलि अर्पित करने के लिए आता रहूंगा। प्रतिमा स्थापित करने पर मैं अपने अनुज विधायक जालम सिंह पटेल को धन्यवाद देता हूं। 

prah

मैं माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का ह्रदय से अभिनंदन करता हूं कि उन्होंने आजादी के अमृत महोत्सव में इस पवित्र काम का बीड़ा उठाया और गुमनाम बलिदानियों और स्वतंत्रता सेनानियों को देश के सामने लाने का काम किया। प्रधानमंत्री ने कहा था कि इतिहास के दस्तावेज़ों में गुम कर दिये गए बलिदानियों को स्मरण किये बिना आजादी का अमृत महोत्सव पूरा नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि जब हम गुमनाम महाबलिदानियों को याद करेंगे, तभी अमृत महोत्सव भी अमर हो पाएगा। राजा हिरदेशाह के जीवन संघर्ष के कुछ किस्से सुनाते हुए उन्होंने कहा कि यह बेहद अफसोस और दुख की बात है कि राजा हिरदेशाह के वंशजों के पास आज भी कोई जमीन-जायदाद नहीं है। अमर शहीदों के बलिदान से हमें प्रेरणा लेते हुए, हमें अपनी गलतियों से सीखना होगा तभी हम अपने समाज और देश को मजबूती दे पाएंगे। हमारे युवा पीढ़ी को इतिहास की बारीकियों को जानने की आवश्यकता है। सन् 1842 की क्रांति के प्रणेता क्रांतिकारी राजा हिरदेशाह और अन्य बलिदानियों और क्रांतिकारियों के इतिहास और उनके त्याग तपस्या को जानने की आवश्यकता है। 

svagt

हमें पूर्व की भूलों व कमियों से सबक लेने की जरूरत है, अपनी भूल सुधारकर ही हम अपनी आने वाली पीढ़ियों को ईमानदार और सही इतिहास दे सकते हैं। यदि ऐसा करके हम आजादी के इस अमृत महोत्सव में अपने महाबलिदानियों का इतिहास अपनी पीढ़ियों को दे पाते हैं तो यह सिर्फ इतिहास ही नहीं बल्कि हमारे पूर्वजों के साथ भी न्याय होगा। हमें अपने समाज के लिए संकल्प लेना होगा और संकल्प में विकल्प नहीं होता। अगर संकल्प में विकल्प सोचेंगे तो महानतम कार्य रुक जाएंगे। कार्यकर्म की अध्यक्षता करते हुए केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहां की आज इतिहास को जीवित करने का समय है इस स्थान को भव्यता स्थापित करने की आवश्यकता है स्मारिका का भी विमोचन किया गया हैl

smaruka

नरसिंहपुर में तीन क्रांतियां हुई हेl  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आजादी के 75वें अमृत महोत्सव का समय हैl क्षेत्रीय सांसद राव उदय प्रताप सिंह जी ने कहां की ऐसा स्थान बने जहां पर्यटक देखने के लिए आए राजा हिरदेशाह लोधी ने 1842 के युद्ध में अपने प्राणों की आहुति दीl प्रतिमा अनावरण का एक बहुत बड़ा काम हुआ हैl अतीत का गौरवशाली इतिहास रहा हैl लोधी, लोधा क्षत्रिय समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष एटा विधायक विपिन वर्मा डेविड  ने कहा कि यहां पर हमने राजा हिरदेशाह लोधी के जीवन पर आधारित नाट्य मंच देखा नाट्य मंच देखा और आंखें नम हो गई l जिस् स्थान पर  किला समतल हुआ है l वहां पर  किला बने ऐसा मैं चाहता हूंl प्रथम बार 11 फुट की प्रतिमा का अनावरण हुआ है आज बड़ी संख्या में देश एवं अनेक प्रदेशों से लोग आए हैं उनके लिए धन्यवाद देता हूंl मैं राजा हिरदेशाह के वंशज के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे।

samman

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गोटेगांव विधायक एनपी प्रजापति ने कहा कि 28 अप्रैल 2022 को सबसे बड़ी मूर्ति का अनावरण किया है l यह कार्यक्रम सर्वदलीय के साथ सर्व भाव का हे l तेंदूखेड़ा विधायक संजय शर्मा ने कहा कि जिले के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के शहीदों के परिवारों को सम्मान दिया जाए  जवेरा विधायक धर्मेंद्र सिंह लोधी ने भी अपने विचार रखेl लोधी लोधा क्षत्रिय समाज के प्रदेश अध्यक्ष आयोजक पूर्व राज्य मंत्री विधायक श्री जालम सिंह पटेल ने प्रस्तावना प्रस्तुत करते हुए कहा कि हमने तय किया है कि  हर वर्ष हम 28 अप्रैल को जिले का गौरव दिवस मनाएंगे जिले में 3 क्रांति हुई गरारू मंदिर आदि शंकराचार्य महादेव पिपरिया एशिया की सर्वोत्तम भूमि के संबंध में भी प्रकाश डाला। 

 

Post a Comment

0 Comments