Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

क्रांतिकारी संत मुनिश्री तरुण सागर जी की जन्म भूमि में.. आचार्य छत्तीसी विधान संपन्न.. आचार्य श्री विद्यासागर पाठशाला का शुभारंभ..

 मुनिश्री समता सागर के सानिध्य में विविध आयोजन

आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के परम प्रभावक शिष्य निर्यापक मुनि श्री समता सागर जी महाराज का कुंडलपुर से बांदकपुर होते हुए बीना बारह की ओर विहार चल रहा है। सोमवार को मुनि संघ की आहार चर्या झलोंन ग्राम में संपन्न होने के बाद दोपहर में आचार्य छत्तीसी विधान का आयोजन एवं पाठशाला का शुभारंभ किया गया। इसके पूर्व रविवार शाम मुनि संघ की ग्राम में धूमधाम के साथ भव्य मंगला आगवानी की गई थी..

 

दमोह।  क्रांतिकारी संत मुनि श्री तरुण सागर जी महाराज की जन्म भूमि झलोन के प्रसिद्ध चंद्र प्रभु जिनालय में निर्यापक मुनि श्री समता सागर जी, मुनि श्री महासागर जी, मुनि श्री निष्कम्प सागर एवं एलक श्री निश्चय सागर जी महाराज के सानिध्य में आचार्य छत्तीसी विधान का आयोजन किया गया। जिसमे बड़ी संख्या में श्रावक जनों ने शामिल होकर धर्म लाभ अर्जित किया।

 

इस अवसर पर आचार्य विद्यासागर पाठशाला का शुभारंभ किया गया जिसकी सदस्यता के लिए अनेक सदस्यों ने अपनी स्वीकृति प्रदान की। पवन जैन , दिनेश जैन सपरिवार ने पाठशाला  कलश स्थापित करने का सौभाग्य प्राप्त किया। तेरह अन्य सदस्यों में राजेंद्र जैन, पदम चंद जैन, चक्रेश जैन, महेंद्र जैन, राजकुमार जैन, त्रिलोक जैन, अनूप जैन, सचिन जैन, सुरेश चंद्र, निरंजन प्रीति जैन, सीमा जैन अन्य सदस्यों ने 5 वर्ष के लिए सदस्यता प्राप्त की।

मुनि संघ का रात्रि विश्राम झलोन में ही चल रहा है तथा कल यहीं पर आहार चर्या संभावित है। आज आहार चर्या का सौभाग्य राजेंद्र जैन बाबूजी, नानू सिंघई एवं महेंद्र जैन परिवार को प्राप्त हुआ। मुकेश जैन की रिपोर्ट

Post a Comment

0 Comments