Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

दबंग विधायक के क्षेत्र में हाथ ठेले पर मानवता.. ! जबकि स्वास्थ्य सेवाओं हेतु 1 करोड़ 80 लाख की विधायक रामबाई कर चुकी है पूर्व में घोषणा.. इधर क्षेत्रीय सांसद प्रह्लाद पटेल और अन्य विधायकों से भी शव वाहन तथा एंबुलेंस इंतजाम को लेकर जारी है जनपेक्षा..

 पथरिया क्षेत्र में हाथ ठेले पर शव ले जाने को मजबूर हुए लोग..

दमोह। कोविड-19 संक्रमण काल मे जो हालात चल रगे है उसमें न इंसान की जान की गारंटी बची है और ना आन वान शान की। दिनों दिन बढ़ते कोविड-19 केसो की बजह से स्वास्थ्य सेवाओं के साथ पूरा सिस्टम गड़बड़ा गया है। वही आपदा में अवसर देखने वालों की भी कमी नहीं है। जैसे फायदा उठाने वाले साथ मे सब कुछ ले जाएंगे।  ऐसे ही कुछ हालात में पथरिया में स्वास्थ्य सेवाओं की कमी, एंबुलेंस व शव वाहन के अभाव में महिला का शव हाथ ठेले पर ले जाने को परिजनों के मजबूर होने तथा लोगों की मदद करने की वजह वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल करने का घटनाक्रम सामने आया है..
यह तस्वीरें पथरिया क्षेत्र की है जोकि पूरे प्रदेश में दबंग विधायक श्रीमती रामबाई सिंह के निर्वाचन क्षेत्र के तौर पर जाना जाता है। यहां पर बीती शाम एक महिला को गंभीर हालत में स्वास्थ्य केंद्र लाया गया था जहां इलाज के दौरान उसे जरूरी इलाज नहीं मिला जिससे उसे नहीं बचाया जा सका था। बाद में उसकी मौत हो जाने पर शव वाहन व एंबुलेंस के अभाव में परिजन हाथ ठेले पर शव को ले जाने को मजबूर हुए। इस दौरान तमाशाई  बने लोगों ने जरूरतमंद परिवार की कोई मदद तो नहीं की उल्टे वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। फिर क्या था अवसर की तलाश में बैठे कुछ खबरचियों को मानवता के शर्मसार होने का मुद्दा बनाने में देर नहीं लगी। बुधवार को सभी प्रमुख अखबार और न्यूज चैनलों में यह खबर सनसनी बन जाने के बाद हम भी इसे दिखाने को मजबूर हो रहे हैं ।लेकिन हमारा नजरिया कुछ और ही है शायद कुछ लोगों को पसंद नहीं आए..
विधायक रामबाई ने की थी 1 करोड़ 80 लख की घोषणा..

 यहा उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण काल के चलते पिछले दिनों विधायक रामबाई अपनी निधि के एक करोड़ 80 लाख रुपए स्वास्थ्य सेवाओं को देने की घोषणा कर चुकी है। ऐसे में सवाल उठता है इस राशि का कोरोना काल में पथरिया क्षेत्र की स्वास्थ्य सेवाओं के लिए सही उपयोग करने के लिए अभी तक कोई कारगर कदम क्यों नहीं उठाया गया ?  जब  लगातार लोगों की मौत हो रही है और शव वाहन तथा एंबुलेंस की हर क्षेत्र में आवश्यकता पड़ रही है और संचालकों द्वारा लगातार मनमानी किराया राशि मांगने की बात सामने आ रही है तब निजी एंबुलेंस संचालकों की मनमानी को ध्यान में रखकर उनके वाहनों को अधिकृत करने के लिए प्रशासन क्यों ध्यान नहीं दे रहा है ?  जबकि धारा 144 प्रावधानों के तहत ऐसा किया जा सकता है
पथरिया क्षेत्र में 4 दिन में हुआ पोजेटिव केसों का शतक..
उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ दिनों में दमोह जिले मैं जहां लगातार मरीजों की संख्या शतक को पार कर रही है वही पथरिया क्षेत्र में भी पिछले 4 दिनों में 100 से अधिक पोजेटिव मरीज मिल चुके हैं। वही कुछ की जान भी जा चुकी है। ऐसे में यहां की स्वास्थ्य सेवाएं भी गड़बड़ होना तय है। ऐसे में प्रशासन के साथ विधायक महोदय को भी चाहिए कि वह अपनी निधि की राशि का जल्द से जल्द भरपूर उपयोग स्वास्थ्य सेवाओं के साथ एंबुलेंस शव वाहन आदि पर भी करें। अन्यथा इस तरह से मानवता को शर्मसार करने वाली खबरें बनती रहेंगी और क्षेत्र की छवि बिगड़ती रहेगी। विधायिका महोदय चाहे तो अपने निजी से सीटी स्कैन मशीन लगवा कर भी मिसाल पेश कर सकती हैं।
क्षेत्रीय सांसद और अन्य विधायकों से भी विनम्र जनपेक्षा..

क्षेत्रीय सांसद और केंद्रीय मंत्री श्री प्रह्लाद पटेल से भी इस संक्रमण काल में जनापेक्षा की जा रही है कि वह आठों विधान सभा क्षेत्रों में शव वाहन और एंबुलेंस आदि के लिए उसी तरह करें जिस तरह की उन्होंने पूर्व में पंचायत स्तर पर पेयजल संकट से निपटने टैंकरों का इंतजाम किया था। हालांकि वर्तमान में सांसद निधि आना बंद है ऐसे में आवश्यक हो गया है कि केंद्रीय मंत्री श्री पटेल अपने प्रभाव का उपयोग कर करके जनता को लाभ दिलाएं। क्योंकि स्वास्थ्य विभाग से जुड़े अधिकारियों को तो सीटी स्कैन मशीन तक की आवश्यकता महसूस नहीं होती सभी दोनों ने आज तक इसकी डिमांड तक नहीं की है..
जिले के अन्य विधायकों से भी जना अपेक्षा है कि वह भी अपने क्षेत्र में कम से कम सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र स्तर पर शव वाहन तथा एंबुलेंस के इंतजाम की ओर जल्द ध्यान दें। जिससे संक्रमण काल में जीते जी ना सही मरने के बाद तो मानवता के शर्मसार होने जैसी खबरें सामने ना आए। पिक्चर अभी बाकी है..

Post a Comment

0 Comments